loader

कोरोना- लॉकडाउन तोड़ा तो देखते ही गोली मारने के आदेश दे सकता हूँ: तेलंगाना सीएम

कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन पर तेलंगाना सरकार ने सख्ती की हद पार कर देने की चेतावनी दे दी है। राज्य के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने कहा है कि यदि लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन कर लोग बाहर घूमते हुए दिखे तो देखते ही गोली मारने के आदेश भी दिए जा सकते हैं। ऐसी चेतावनी स्थिति की गंभीरता को बताती है। सामान्य तौर पर गोली मारने के आदेश उस आख़िरी उपाए के रूप में दिए जाते हैं जब बड़े पैमाने पर दंगे जैसी स्थिति आ गई हो या आतंकवादी गतिविधि जैसी ताबड़तोड़ गोली चलने की घटना हो रही हो। स्वास्थ्य से जुड़ी ऐसी किसी महामारी के मामले में देखते ही गोली मारने के आदेश दिए जाने के मामले नहीं दिखे हैं। चीन, इटली, स्पेन, अमेरिका जैसे देशों में बड़े स्तर पर इस कोरोना वायरस से तबाही फैलने की स्थिति में भी इस तरह की चेतावनी नहीं जारी की गई है। 

ताज़ा ख़बरें

पूरे देश भर में लॉकडाउन है और इसी बीच तेलंगाना के मुख्यमंत्री की यह चेतावनी आई है। मुख्यमंत्री राव ने बुधवार को कहा, 'यदि लोग नहीं सुनेंगे और घर में नहीं रहेंगे तो हमें 24 घंटे का कर्फ्यू लगाने को मजबूर होना पड़ेगा। यदि लोग सड़कों पर आना जारी रखेंगे तो सेना को बुलाना पड़ेगा और देखते ही गोली मारने के आदेश दिए जा सकते हैं।' हालाँकि इसके साथ ही उन्होंने लोगों को घरों में रहने और लॉकडाउन को लागू कराने में जुटे अधिकारियों से नहीं उलझने की अपील की। 

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि विदेशी नागरिक और विदेश से लौटने वाले 19 हज़ार से ज़्यादा लोगों पर निगरानी रखी जा रही है। उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों को चेताया गया है कि यदि वे अपने घर पर अलग-थलग रहने के नियम का पालन नहीं करते हैं तो उनके ख़िलाफ़ सख़्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा, 'जो भी पॉजिटिव मामले आए हैं उनमें से किसी की हालत ज़्यादा ख़राब नहीं है और उनकी स्थिति स्थिर बनी हुई है।' 

तेलंगाना से और ख़बरें

बता दें कि मंगलवार रात 12 बजे से पूरे देश में 21 दिनों के लिए संपूर्ण लॉकडाउन लगा दिया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मगंलवार की रात को ही देश के नाम सम्बोधन में इसकी घोषणा की है। उन्होंने कहा कि पूरे देश में कहीं भी, कोई भी, घर से बाहर नहीं निकलेगा। आपात स्थिति में ही घर से निकलने की सलाह दी गई है। प्रधानमंत्री ने कहा कि यह लॉकडाउन कर्फ़्यू के समान ही है। ये क़दम इसलिए उठाए जा रहे हैं क्योंकि अब पॉजिटिव मामले काफ़ी तेज़ी से बढ़ने लगे हैं। अब ऐसे मामलों की संख्या 500 के पार हो गई है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

तेलंगाना से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें