loader
तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर।

बेरोज़गारी की मार के बीच तेलंगाना में 48 हज़ार कर्मचारी बर्खास्त

एक ओर देश में जहां इसे लेकर चिंता है कि बेरोज़गारी की दर 45 साल में सबसे ज़्यादा हो गई है, वहीं दूसरी ओर अपनी मांगों को लेकर हड़ताल पर जाने पर तेलंगाना के मुख्यमंत्री ने हज़ारों लोगों को नौकरी से बर्खास्त कर दिया है। तेलंगाना राज्य सड़क परिवहन निगम (टीएसआरटीसी) के कर्मचारी रविवार से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए। लेकिन मुख्यमंत्री केसीआर ने तुगलक़ी फ़रमान जारी करते हुए 48 हजार से ज़्यादा कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया है। 

परिवहन निगम के 50 हज़ार कर्मचारी शुक्रवार रात से ही हड़ताल पर हैं। इन कर्मचारियों की 26 मांगें हैं। इनकी मांग है कि परिवहन निगम का सरकार में विलय कर दिया जाए जिससे वे सरकारी कर्मचारी बन जाएं और उन्हें वे लाभ मिल सकें जिसके वे हकदार हैं। कर्मचारियों ने शनिवार शाम को हड़ताल ख़त्म करने से मना कर दिया था। 

ताज़ा ख़बरें
हड़ताल के दौरान राज्य भर में बसें नहीं चल रही हैं और त्यौहार के मौसम में इससे हज़ारों लोग प्रभावित हुए हैं। राज्य सरकार ने लोगों को परेशानी न हो इसके लिए 2500 बसों को किराये पर लिया है। तेलंगाना हाई कोर्ट की अवकाश प्राप्त बेंच ने इस मामले में राज्य सरकार से 10 अक्टूबर तक वैकल्पिक रास्ता बताने के लिए कहा है। स्थानीय लोगों का कहना है कि मुख्यमंत्री को आंध्र प्रदेश की ही तरह राज्य परिवहन निगम का सरकार में विलय कर देना चाहिए। 
तेलंगाना से और ख़बरें

मुख्यमंत्री ने कहा है कि सरकार किसी भी तरह की ब्लैकमेलिंग और अनुशासनहीनता के सामने नहीं झुकेगी। बताया जाता है कि राज्य परिवहन निगम में अब केवल 1200 कर्मचारी बचे हैं और तुरंत ही रिक्रूटमेंट की प्रक्रिया शुरू की जा सकती है लेकिन नए भर्ती किये गये लोगों को सरकार से इस बात का वादा करना होगा कि वे किसी भी तरह की यूनियन में शामिल नहीं होंगे। 

इसे लेकर राज्य में राजनीति भी तेज हो गई है। बीजेपी ने कहा है कि मुख्यमंत्री के इस बेतुके फ़ैसले ने कर्मचारियों को सड़क पर ला दिया है। बीजेपी ने कहा है कि मुद्दे को सुलझाने के बजाय मुख्यमंत्री ने तुगलक़ी फ़ैसला लिया है। पार्टी ने चेतावनी दी है कि उनके इस फ़ैसले से राज्य के हालात ख़राब हो सकते हैं। 

एक ओर देश में अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर लगातार झटका देने वाली ख़बरें आ रही हैं, खपत और माँग में लगातार कमी हो रही है, उत्पादन तेज़ी से गिर रहा है, बेरोज़गारी 45 साल के शिखर पर है, वहां एक झटके में हज़ारों कर्मचारियों को नौकरी से बर्खास्त किये जाने के फ़ैसले को क़तई सही नहीं ठहराया जा सकता। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

तेलंगाना से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें