loader

टीएमसी में वापसी पर राजीब बनर्जी बोले- धार्मिक राजनीति बीजेपी का एजेंडा

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी में शामिल हुए राजीब बनर्जी आख़िरकार तृणमूल में ही लौट आए। पिछले महीने ही बीजेपी से जुड़े रहे पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो तृणमूल में शामिल हुए थे। बंगाल चुनाव के बाद कई विधायक भी बीजेपी से तृणमूल में वापसी कर चुके हैं। आज टीएमसी में शामिल होने वाले राजीब बनर्जी ने दावा किया कि बीजेपी का एजेंडा वोट हासिल करना और धार्मिक राजनीति करना है।

राजीब बनर्जी ने यह दावा करते हुए कि उन्होंने बीजेपी में शामिल होकर गलती कर दी थी, कहा, 'मैं अभिषेक बनर्जी और ममता बनर्जी का आभारी हूँ कि उन्होंने मुझे फिर से टीएमसी में शामिल होने की अनुमति दी।'

ताज़ा ख़बरें

राजीब ने बीजेपी पर निशाना भी साधा। उन्होंने आरोप लगाया, 'बीजेपी में शामिल होने से पहले रोज़गार और कृषि पर कई वादे किए गए थे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।'

उन्होंने कहा, 'मैं भी कृषि का विकास और युवाओं के लिए रोजगार चाहता हूँ। मैंने केंद्रीय नेतृत्व से कहा था, अगर वे उद्योग चाहते हैं, तो डनलप कारखाने को फिर से खोला जाए। लेकिन उनका एकमात्र एजेंडा वोट हासिल करना था। उनका मुख्य एजेंडा धार्मिक राजनीति था।' राजीब ने कहा, 'मेरा मानना ​​है कि ममता सिर्फ बंगाल की ही नहीं, बल्कि देश के बाकी हिस्सों की भी नेता हैं।'

त्रिपुरा में पैर जमाने की कोशिश में लगी तृणमूल को राजीब बनर्जी की वापसी से ताक़त मिलने की उम्मीद है। 

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे और पार्टी के महासचिव अभिषेक बनर्जी ने कहा कि 'हम त्रिपुरा में लेफ़्ट और राइट (वामपंथ और दक्षिणपंथ) दोनों को ख़त्म कर देंगे। यह बंगाल का दोहराव होगा।'
इससे पहले पार्टी में सुष्मिता देव भी शामिल हो चुकी हैं। वैसे, पार्टी ने गोवा में भी पैर पसारने की कोशिश शुरू कर दी है। एक दिन पहले ही टेनिस स्टार लिएंडर पेस टीएमसी में शामिल हुए हैं। एक के बाद एक जाने माने चेहरों को शामिल कर तृणमूल ने संकेत देने की कोशिश की है कि इस मामले में दूसरे दल सहित बीजेपी का क़िला भी सुरक्षित नहीं है और वह नेताओं को अपनी पार्टी से जोड़ने के लिए आक्रामक तरीक़े से अभियान चलाती रहेगी।
त्रिपुरा से और ख़बरें

बता दें कि अब तक बाबुल सुप्रियो, बिस्वजीत दास, तन्मय घोष, सौमेन रॉय जैसे नेता पहले ही टीएमसी में लौट चुके हैं। बीजेपी से तृणमूल में वापस लौटने का सिलसिला तब शुरू हुआ था जब जून में मुकल रॉय वापस टीएमसी में लौटे थे। पहले वह टीएमसी के ही नेता थे लेकिन वह 2017 में बीजेपी में शामिल हो गए थे। इस साल बंगाल चुनाव के नतीजों के बाद वह ममता बनर्जी की पार्टी में वापस आ गए। 

बंगाल चुनाव में ममता बनर्जी ने शानदार जीत दर्ज की थी और 200 का लक्ष्य तय करने वाली बीजेपी 77 सीटों पर ही सिमट गई थी। चुनाव नतीजों के बाद बीजेपी से तृणमूल में वापस नेताओं के जाने का सिलसिला शुरू हुआ। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

त्रिपुरा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें