loader
बिप्लब कुमार देब

त्रिपुरा बीजेपी विधायकों ने ही माना- राजनीतिक हिंसा से ख़राब हुई छवि!

त्रिपुरा में 'राजनीतिक हिंसा' से बीजेपी और प्रधानमंत्री मोदी की छवि को कितना नुक़सान हो रहा है? बीजेपी के विधायकों से बेहतर कौन जान सकता है! त्रिपुरा में बीजेपी विधायकों ने आशंका जताई है कि राज्य में राजनीतिक हिंसा ने पार्टी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रतिष्ठा को नुक़सान पहुंचाया है और इससे पाँच राज्यों में चुनावी नतीजों पर असर पड़ेगा।

राज्य में राजनीतिक हिंसा को लेकर बीजेपी विधायक सुदीप रॉय बर्मन और आशीष कुमार साहा ने मंगलवार को मीडियाकर्मियों से कहा, 'पैराट्रूपर नेता अपने निजी एजेंडे और बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व के बीच अपनी लोकप्रियता के लिए माकपा से बीजेपी में आए गुंडों का इस्तेमाल उत्सव की तरह मनाए जाने वाले चुनाव को खौफ के माहौल में बदलने के लिए कर रहे हैं। उनके दिन गिनती के हैं।'

ताज़ा ख़बरें

हालाँकि दोनों विधायकों ने किसी का नाम लेकर यह हमला नहीं किया, लेकिन समझा जाता है कि वे बीजेपी नेता और राज्य के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब पर निशाना साध रहे थे।

उनका यह बयान तब आया है जब त्रिपुरा में हाल में कई जगहों पर हिंसा हुई थी। तृणमूल कांग्रेस राज्य में विस्तार में लगी और वह आरोप लगाती रही है कि टीएमसी को रैली व सभाएँ नहीं करने दी जा रही हैं और उसपर हमले किए जा रहे हैं। 

त्रिपुरा में 25 नवंबर को नगर निकाय चुनाव होने हैं। माकपा, तृणमूल कांग्रेस और कांग्रेस समेत विपक्षी दलों ने अपने उम्मीदवारों को डराए और धमकाए जाने का आरोप लगाया है। माकपा ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की है।

त्रिपुरा उच्च न्यायालय ने सोमवार को राज्य चुनाव आयोग को क्षेत्रों और मतदान केंद्रों की संवेदनशीलता की तत्काल समीक्षा करने और स्वतंत्र व निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित करने के लिए ज़रूरी उपाय करने का निर्देश दिया।

इन्हीं हलचलों के बीच सुदीप रॉय बर्मन और आशीष कुमार साहा राजनीतिक हिंसा को लेकर मंगलवार को मीडियाकर्मियों से रूबरू हुए थे। उन्होंने कहा कि हमने रविवार को राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) बीएल संतोष और असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा को अवगत कराया है। इकॉनमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, इन नेताओं ने सवाल किया कि क्या बीजेपी के नेतृत्व वाली सरकार ने पिछले 44 महीनों में विकास किया है। उन्होंने कहा, 'त्रिपुरा में इतनी राजनीतिक हिंसा के बावजूद राज्य के गृह मंत्री ने कोई बयान नहीं दिया है। पुलिस शक्तिहीन औजार बन गई है। माकपा के गुंडे पार्टी में आ गए और उनका राजनीतिक लाभ के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है।'

त्रिपुरा से और ख़बरें

बीजेपी नेताओं ने कहा, 'त्रिपुरा में चुनाव उत्सव जैसा है, लेकिन इस बार 25 नवंबर को होने वाले निकाय चुनावों में आतंक का राज है।' 

बता दें कि बिप्लब देब के ख़िलाफ़ लंबे समय से कुछ विधायकों में असंतोष व्याप्त है। पिछले साल अक्टूबर में कम से कम 7 विधायक मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब को बदलने की माँग को लेकर दिल्ली में पहुँच गए थे। ये विधायक बिप्लब कुमार देब को 'तानाशाह', 'अनुभवहीन' और 'अलोकप्रिय' होने का आरोप लगा रहे थे। उन सभी विधायकों का नेतृत्व सुदीप रॉय बर्मन कर रहे थे। इस विरोध को तब शांत कराया जा सका था जब केंद्रीय नेतृत्व ने दखल दिया था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

त्रिपुरा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें