loader
फ़ाइल फ़ोटो

कुंभ मेला: 30 साधु कोरोना पॉजिटिव, दो अखाड़ों ने किया मेला छोड़ने का एलान

कोरोना संक्रमण से बने भयावह हालात के बीच भी कुंभ मेला जारी है और अब इसमें 30 साधुओं के कोरोना पॉजिटिव होने की ख़बर आई है। इसके अलावा एक साधु की मौत भी हो गई है। हालात को बिगड़ते देख दो अखाड़ों ने कहा है कि वे दो दिन के भीतर हरिद्वार को छोड़ देंगे। संक्रमित होने वालों में ऑल इंडिया अखाड़ा परिषद के महंत नरेंद्र गिरी भी हैं और उन्हें ऋषिकेश स्थित एम्स में भर्ती कराया गया है। 

हरिद्वार के चीफ़ मेडिकल अफ़सर डॉ. एसके झा ने कहा कि संक्रमण के मामले किसी एक अखाड़े के नहीं हैं बल्कि लगभग सभी अखाड़ों में ऐसे मामले मिले हैं। 

संक्रमण की रफ़्तार को देखते हुए दो अखाड़ों ने कुंभ मेले को छोड़ने का एलान किया है। महामंडलेश्वर कपिल देव की मौत के बाद निर्वाणी अखाड़े और निरंजनी अखाड़े की ओर से एलान किया गया है कि वे लोग कुंभ मेले को छोड़ देंगे। 

ताज़ा ख़बरें

मेला प्रशासन के मुताबिक़, गुरूवार को 332 लोग कोरोना संक्रमित मिले। निरंजनी अखाड़े के सचिव रविंद्र पुरी ने कहा है कि हालात बिगड़ रहे हैं और ऐसे वक़्त में हमने कुंभ मेले से बाहर जाने का फ़ैसला लिया है। 

5 दिन में 2,167 पॉजिटिव मामले 

10 से 15 अप्रैल के बीच कुंभ मेले में कोरोना के 2,167 पॉजिटिव मामले सामने आए हैं। इनमें अखाड़ों के साधुओं से लेकर मेले में आए आम लोग शामिल हैं। मेले में 12 से 14 अप्रैल तक शाही स्नान चला और इसमें लाखों लोगों की भीड़ जुटी थी। 

महामंडलेश्वर कपिल देव की मौत

मेले में शामिल हुए महामंडलेश्वर कपिल देव की कोरोना से मौत हो गई है और इस ख़बर के बाद शायद हुक्मरानों की आंख-कान खुल जाने चाहिए। कपिल देव निर्वाणी अखाड़ा के महामंडलेश्वर थे और मध्य प्रदेश से कुंभ मेले में आए थे। यह पहले संत हैं जिनकी कोरोना से मौत हुई है। हालत बिगड़ने पर उन्हें देहरादून के कैलाश हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था, जहां उन्होंने दम तोड़ दिया।

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

कोरोना के संक्रमण के बीच कुंभ मेले के आयोजन को लेकर उत्तराखंड सरकार की काफी आलोचना हो रही है। आशंका जताई जा रही है कि इसमें शामिल हुए लोग कोरोना के सुपर स्प्रेडर साबित हो सकते हैं। कुंभ मेले में मास्क पहनने में लापरवाही और सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन करने की फ़ोटो सामने आई हैं। लेकिन राज्य की तीरथ सिंह रावत सरकार दावा करती है कि वह कोरोना गाइडलाइंस का पूरी तरह पालन करवा रही है। 

संक्रमण के सबसे ज़्यादा मामले 

गुरूवार को उत्तराखंड में कोरोना के सबसे ज़्यादा मामले सामने आए और यह आंकड़ा 2,200 रहा। उत्तराखंड में बीते कुछ दिनों से संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। देश में लगातार 2 दिन कोरोना संक्रमण के 2 लाख से ज़्यादा मामले सामने आए हैं और मौतों का आंकड़ा भी बढ़ रहा है। कई राज्यों में संक्रमण बेकाबू होता दिख रहा है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें