loader
महंत नरेंद्र गिरि। फ़ोटो साभार: ट्विटर/अखिलेश यादव

महंत नरेंद्र गिरि की कथित आत्महत्या, आरोप में नज़दीकी शिष्य गिरफ़्तार

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के प्रमुख महंत नरेंद्र गिरि की मौत के मामले में उनके क़रीबी शिष्य आनंद गिरी को गिरफ़्तार किया गया है। दो अन्य शिष्यों को हिरासत में लिया गया है। पुलिस ने प्रथम दृष्टया इसे आत्महत्या का मामला बताया है। इस मामले में आनंद गिरि के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज की गई है। उन्हें उत्तराखंड में सोमवार शाम को पुलिस ने हिरासत में लिया था। इन पर महंत को परेशान करने का आरोप है।

पुलिस के अनुसार आनंद गिरि मई में आश्रम से बाहर किए जाने तक नरेंद्र गिरि के आश्रित और क़रीबी सहयोगी थे। आनंद गिरी को कथित तौर पर धोखाधड़ी और वित्तीय कुप्रबंधन के आरोपों में महंत द्वारा निष्कासित कर दिया गया था। कुछ दिनों बाद सुलह हुई थी। लेकिन पुलिस को संदेह है कि यह कुछ समय के लिए ही था। आनंद गिरि के अलावा दो अन्य शिष्यों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है। इन दो अन्य शिष्यों में संदीप तिवारी और आद्या तिवारी शामिल हैं जो नरेंद्र गिरि के साथ रहे थे।

ताज़ा ख़बरें

बता दें कि अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के प्रमुख महंत नरेंद्र गिरि सोमवार को प्रयागराज में मृत पाए गए। पुलिस के मुताबिक़ महंत का शव फंदे से लटका मिला। हालाँकि मौत का कारण अभी स्पष्ट नहीं हो पाया है। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद हिंदू साधुओं का एक संगठन है और इसी के वह प्रमुख थे। 

घटना की जगह से कथित तौर पर एक सुसाइड नोट भी मिला है। एक रिपोर्ट के अनुसार, प्रयागराज के पुलिस प्रमुख केपी सिंह ने सोमवार को संवाददाताओं से कहा था, 'हम नोट पढ़ रहे हैं। उन्होंने व्यक्त किया कि वह परेशान थे। उन्होंने वसीयत के रूप में यह भी लिखा है कि उनके निधन के बाद आश्रम में क्या किया जाना चाहिए।' पुलिस ने कहा है कि उन्होंने नोट में अपने शिष्यों को विभिन्न जिम्मेदारियाँ भी सौंपीं।

कमरे से 7 पेज का एक हाथ से लिखा हुआ सुइसाइड नोट मिला है। इसमें प्रमुख शिष्य आनंद गिरी का भी नाम है। उसमें मठ की संपत्ति को लेकर विवाद और आरोपों को कारण बताया गया है। इसमें कहा गया है कि शिष्यों ने उन पर दबाव बनाया और उनकी छवि को धूमिल करने का प्रयास किया। इन इल्जामों से वे बेहद दुखी थे। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

पीटीआई की एक रिपोर्ट के अनुसार, आईजीपी ने कहा कि पुलिस को मठ से सोमवार शाम 5.30 बजे फोन आया था कि गिरि ने खुद को फांसी लगा ली है। पुलिस ने कहा कि प्रथम दृष्टया यह आत्महत्या का मामला लग रहा है लेकिन पोस्टमार्टम और फोरेंसिक जांच के बाद स्थिति स्पष्ट होगी।

उनके निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि महंत नरेंद्र गिरि का देहावसान अत्यंत दुखद है। 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी उनके निधन पर शोक जताया है और इसे आध्यात्मिक जगत के लिए अपूरणीय क्षति बताया है। 

समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने गिरि के निधन पर शोक जताया है। एक ट्विटर पोस्ट में उन्होंने कहा कि उनका निधन एक अपूरणीय क्षति है।

महंत नरेंद्र गिरि के अचानक निधन की खबर से उनके समर्थकों और शिष्यों में नाराज़गी है। एनबीटी की रिपोर्ट के अनुसार उनके शिष्य आनंद गिरि ने उनकी मृत्यु को साज़िश क़रार दिया है। रिपोर्ट के अनुसार आनंद गिरि ने सोमवार को हिरासत में लिए जाने से पहले कहा था, 'अभी मैं हरिद्वार में हूँ, कल प्रयागराज पहुँचकर देखूँगा क्या सच है।' आनंद गिरि ने कहा था, 'हमें अलग इसलिए किया गया ताकि एक का काम तमाम हो सके।' उन्होंने यह भी माना कि उनका महंत से मठ की ज़मीन को लेकर विवाद था। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें