loader

पंचायत चुनाव- मतदाताओं का अपहरण कर बीजेपी जीती: अखिलेश

ज़िला पंचायत अध्यक्ष पदों पर ज़्यादातर जगहों पर बीजेपी के जीत हासिल करने पर सपा नेता अखिलेश यादव ने चुनाव में धांधली के आरोप लगाए हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि बीजेपी ने अपनी हार को जीत में बदलने के लिए मतदाताओं का अपहरण किया और बल का प्रयोग किया। उन्होंने आरोप लगाया कि इसके लिए मतदाताओं को मतदान से रोकने के लिए पुलिस और प्रशासन का सहारा लिया गया। 

उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनावों में हार कर तीसरे नंबर पर पहुँची बीजेपी ने दावा किया है कि उसने जिला पंचायत अध्यक्षों के 75 पदों में से 67 पर जीत हासिल की है। इस चुनाव परिणाम के बाद इसमें धांधली का आरोप लगाते हुए अखिलेश यादव ने आरोप लगाया कि बीजेपी ने सभी लोकतांत्रिक मानदंडों का मजाक बना दिया है जो पहले कभी नहीं हुआ। 

ताज़ा ख़बरें

अखिलेश यादव ने तर्क दिया कि यह अजीब बात है कि ज़िला पंचायत सदस्यों के चुनाव में अधिकांश परिणाम सपा के पक्ष में रहे, जबकि ज़िला पंचायत प्रमुख के चुनाव में बजेपी को फायदा हुआ। 

उन्होंने आरोप लगाया कि चुनाव में अधिकारियों की मिलीभगत भी सामने आई है और राज्य चुनाव आयुक्त को ज्ञापन सौंपने के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं की गई। उन्होंने आरोप लगाया कि सत्ताधारी दल की तानाशाही साफ़ दिखाई दे रही है। उन्होंने कहा कि भाजपा की धांधली का विरोध करने पर समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं से दुर्व्यवहार किया गया और ऐसा लग रहा था जैसे जनादेश के अपहरण के किए बीजेपी सरकार नंगा नाच करने पर उतारू है।

कई मामलों का हवाला देते हुए उन्होंने आरोप लगाया कि समाजवादी पार्टी के समर्थक सदस्य अरुण रावत का लखनऊ में अपहरण कर लिया गया था। उन्होंने आरोप लगाया कि सपा उम्मीदवार विजय लक्ष्मी को डीएम कार्यालय में बैठाया गया और उनके पति विधायक अंबरीश पुष्कर को उनसे मिलने से रोका गया। उन्होंने आरोप लगाया कि विरोध करने पर सपा कार्यकर्ताओं और महिलाओं के साथ अभद्रता की गई।

आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक़, बीजेपी को 65, एसपी को छह और अन्य को 4 सीटें मिली हैं। मुलायम सिंह यादव जिस मैनपुरी से सांसद हैं वहाँ भी बीजेपी का ज़िला पंचायत अध्यक्ष बन गया है।

बीएसपी ने इन चुनावों में हिस्सा नहीं लिया था और पार्टी प्रमुख मायावती ने अपने जिला पंचायत सदस्यों को स्वविवेक से वोट देने को कहा था। कमोबेश सभी ज़िलों में यह स्वविवेक बीजेपी के पक्ष में ही गया लगता है।

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

कांग्रेस अध्यक्ष व रायबरेली से सांसद सोनिया गांधी का प्रत्याशी भी हार गया है। यहां भी बीजेपी जीती है। पंचायत चुनावों में हारने और तीसरे नंबर पर पहुंचने के बाद चौतरफा हो रही किरकिरी के बीच बीजेपी के नेताओं ने दावा किया था कि जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनावों में कम से कम 65 जिलों में उनका ही प्रत्याशी जीतेगा। नतीजे इन दावों से भी कहीं बढ़कर आए हैं। 

सरकारी दबाव में चुनाव होने का आरोप लगाने वाली समाजवादी पार्टी को कई जगह भीतरघात का सामना करना पड़ा। उन्नाव से लेकर अयोध्या और बस्ती तक एसपी में क्रास वोटिंग नजर आयी। 

अखिलेश यादव के संसदीय क्षेत्र आजमगढ़ में ज़रूर एसपी को भारी विजय मिली और कद्दावर नेता व हाल ही में बीएसपी छोड़कर आने वाले अंबिका चौधरी के बेटे ने बलिया सीट जीत ली। एटा, संतकबीरनगर में भी एसपी को जीत मिली है। खासी चर्चा में रहे बागपत जिले में एसपी-आरएलडी प्रत्याशी ममता किशोर ने जीत हासिल की है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें