loader

यूपी पंचायत चुनाव : शिक्षकों के कोरोना संक्रमित होने पर सरकार को कोर्ट का नोटिस

उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव में लगे हुए 135 शिक्षकों, शिक्षा मित्रों और जाँचकर्ताओं की मौत की ख़बर पर तीखी टिप्पणी करते हुए इलाहाबाद हाई कोर्ट ने राज्य चुनाव आयोग से कोरोना प्रोटोकॉल का पालन नहीं करने पर सफाई माँगी है। 

अदालत ने पूछा है कि राज्य चुनाव आयोग, उसके वरिष्ठ अधिकारियों और कोरोना से होने वाली मौतों के लिए ज़िम्मेदार दूसरे लोगों के ख़िलाफ़ कार्रवाई क्यों न की जाए। 

ख़ास ख़बरें

जस्टिस सिद्धार्थ वर्मा और जस्टिस अजित कुमार की बेंच ने राज्य चुनाव आयोग को नोटिस देते हुए कहा है कि पंचायत चुनाव के बचे हुए चरणों में कोरोना दिशा-निर्देशों का सख़्ती से पालन किया जाए। ऐसा नहीं होने पर चुनाव आयोग के संबंधित अधिकारियों के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। 

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए तल्ख़ टिप्पणी की और कहा,

रिपोर्टों में कहा गया है कि पंचायत चुनाव के दौरान कोरोना दिशा-निर्देशों का उल्लंघन किया गया। ऐसा लगता है कि न तो राज्य चुनाव आयोग न ही पुलिस ने ड्यूटी पर तैनात लोगों को वायरस संक्रमण से बचाने के लिए कुछ किया गया।


इलाहाबाद हाई कोर्ट के खंडपीठ की टिप्पणी का अंश

ऑक्सीजन की कमी शर्मनाक

अदालत ने ऑक्सीजन की कमी पर भी बहुत ही टिप्पणी करते हुए इसे शर्मनाक क़रार दिया। बेंच ने कहा कि आज़ादी के 70 साल बाद और इतने सारे उद्योगों को होने के बावजूद यदि ऑक्सीजन तक नहीं मिल पा रही है तो यह निहायत ही शर्मनाक है। 

allahabad high court notice to UP over panchayat election corona - Satya Hindi

बेंच ने कहा कि राज्य की स्वास्थ्य सेवा बदहाल है। उसने लखनऊ, प्रयागराज, आगरा, वाराणसी, गोरखपुर, कानपुर और झांसी के सरकारी अस्पतालों को आदेश दिया कि वे दिन में दो बार मेडिकल बुलेटिन जारी करें, जिसमें दिन भर की स्थितियों के बार में विस्तार से जानकारी दी जाए।

अदालत ने कहा,

उत्तर प्रदेश के बड़े शहरों में अराजक स्थिति है। अतीत की महामारियों से पता चलता है साधन संपन्न लोग तो बच जाएंगे, लेकिन ग़रीब लोग उपचार के अभाव में मर जाएंगे।


इलाहाबाद हाई कोर्ट के खंडपीठ की टिप्पणी का अंश

सरकार को फटकार

इलाहाबाद हाई कोर्ट के खंडपीठ ने सरकार की तीखी आलोचना करते हुए कहा कि 'हम सिर्फ़ सरकारी घोषणाओं और काग़जी कार्रवाइयों को बर्दाश्त नहीं करेंगे, सरकार को ठोस कदम उठाने होंगे।' 

अदालत ने कहा कि 'यह खुला रहस्य है कि साल 2020 में सरकार कोरोना को ख़त्म हुआ मान कर संतुष्ट और निश्चिंत हो गई और पंचायत चुनावों जैसे दूसरे काम में लग गई, लोगों की सेहत का ख्याल नहीं किया।  सरकार को कोरोना की दूसरी लहर की तैयारियाँ करनी चाहिए थीं, उसने नहीं की।' 

अदालत ने यह भी कहा कि जब लोग मारे जा रहे हैं और उस स्थिति में आँखें मूंद कर रहेंगे तो आने वाली पीढ़ियाँ हमें माफ़ नहीं करेंगी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें