loader

यूपी: ओवैसी-राजभर मिले, बटोर पाएंगे अति पिछड़ा-मुसलिम वोट?

राजनीति में जानी-पहचानी कहावत है कि दिल्ली का रास्ता उत्तर प्रदेश से होकर जाता है। मतलब केंद्र में अगर अपनी धमक चाहिए तो यूपी जीतो। लेकिन यूपी जीतना बेहद कठिन है। महज सवा साल बाद होने वाले यूपी के विधानसभा चुनाव के लिए मूल रूप से दिल्ली और हैदराबाद में राजनीति करने वाली पार्टियां भी कूद गई हैं। इससे कोर यूपी की राजनीति करने वाली पार्टियों की राजनीति पर असर पड़ सकता है। 

15 नवंबर को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल सामने आए और आम आदमी पार्टी के यूपी में 2022 का चुनाव लड़ने का एलान किया। इसे लेकर बीजेपी और आम आदमी पार्टी के नेता-कार्यकर्ता भिड़े तो 16 नवंबर को एआईएमआईएम के सांसद असदउद्दीन ओवैसी यूपी के मैदान में आ गए। हालांकि वह पहले ही प्रदेश में चुनाव लड़ने का एलान कर चुके थे। 

ताज़ा ख़बरें

ओवैसी ने बुधवार को यूपी के पूर्व कैबिनेट मंत्री और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर से मुलाक़ात की। राजभर वो नेता हैं, जिन्होंने 2017 में योगी सरकार बनने के कुछ ही महीने बाद मंत्री रहते हुए अपनी ही सरकार के ख़िलाफ़ मोर्चा खोल दिया था। 

दो साल तक बीजेपी से भयंकर नुरा-कुश्ती करने के बाद राजभर ने 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले अपनी राहें अलग कर ली थीं और लगभग 40 सीटों पर प्रत्याशी उतार दिए थे। 

राजभर उत्तर प्रदेश में अति पिछड़ों की राजनीति करने के लिए जाने जाते हैं तो ओवैसी ने बिहार चुनाव के बाद हैदराबाद नगर निगम के चुनाव में भी इस बात को साबित किया है कि मुसलिम मतदाता उनके साथ खड़े हैं।

बिहार में भी साथ थे 

इससे पहले बिहार चुनाव में बने ग्रैंड डेमोक्रेटिक सेक्युलर फ्रंट में भी ओवैसी और राजभर साथ थे। लेकिन राजभर मूल रूप से यूपी की राजनीति करते हैं, इसलिए ओवैसी के साथ यूपी में मिलकर चुनाव लड़ने से प्रदेश की राजनीति पर क्या असर होगा, इस पर बात करनी ज़रूरी है। 

ओमप्रकाश राजभर अति पिछड़ों के साथ ही दलितों-अल्पसंख्यकों, शोषित, ग़रीब वर्ग के हक़ों की लड़ाई लड़ने का दम अपनी तमाम चुनावी रैलियों, इंटरव्यू में करते रहे हैं। 

यूपी में पिछड़ों की आबादी 40 फ़ीसदी है। इस आबादी में ताक़तवर माने जानी वालीं पश्चिमी उत्तर प्रदेश की जाट-गुर्जर और पूरे प्रदेश में फैली यादव-कुर्मी आबादी को छोड़ दें तो ओमप्रकाश राजभर पूर्वांचल के इलाक़े में बिंद, निषाद, मल्लाह, कश्यप, कुम्हार, राजभर, प्रजापति, मांझी, पाल, कुशवाहा आदि अति पिछड़ी जातियों के वोटों को अपने पाले में कर सकते हैं। 

राजभर कहते रहे हैं कि पिछड़ों के 27 प्रतिशत आरक्षण को तीन हिस्सों में बांटा जाए। इसमें पिछड़ा, अति पिछड़ा और महापिछड़ा को आबादी के हिसाब से आरक्षण दिया जाए। इसी वजह से वह बीजेपी से लड़ते-झगड़ते रहे और बाद में अलग हो गए। राजभर का कहना है कि इन जातियों को पिछड़ों के आरक्षण का सही हक़ नहीं मिल पाया और ये हमेशा वंचित ही रहीं। 

मायावती की सियासत पर देखिए चर्चा- 

भागीदारी संकल्प मोर्चा 

ओमप्रकाश राजभर पिछले डेढ़ साल से उत्तर प्रदेश में छोटे दलों का गठबंधन बनाने की कोशिशों में जुटे हैं। भागीदारी संकल्प मोर्चा के नाम से बनाए गए गठबंधन में वह अब तक आठ दलों को जोड़ चुके हैं। इसमें सुभासपा के अलावा पूर्व मंत्री बाबू सिंह कुशवाहा की राष्ट्रीय अध्यक्ष जन अधिकार पार्टी, कृष्णा पटेल का अपना दल, ओवैसी की एआईएमआईएम, उत्तर प्रदेश के साथ ही देश भर में दलितों की आवाज़ बनकर उभर रहे चंद्रशेखर रावण की पार्टी आज़ाद समाज पार्टी सहित कुछ छोटे दल शामिल हैं। 

आम आदमी पार्टी और पूर्व मंत्री शिवपाल यादव की प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) को भी भागीदारी संकल्प मोर्चे से जोड़ने की तैयारी जोरों पर है।

सियासी रहनुमा की तलाश

मुसलमानों की आबादी उत्तर प्रदेश में 17-18 फ़ीसदी है। मुसलमानों में भी अगड़ों-पिछड़ों की लड़ाई है लेकिन जिस तरह बीजेपी ने हिंदुत्व की राजनीति के नाम पर उत्तर प्रदेश में बवाल मचाया हुआ है, उसमें मुसलमानों को ऐसा सियासी रहनुमा चाहिए जो उनके हक़ों की लड़ाई को मजबूती से लड़ सके।

Asaduddin owaisi om prakash rajbhar meet in lucknow - Satya Hindi
ओवैसी ने लंदन से बैरिस्टर की पढ़ाई की है। संसद से लेकर सड़क तक उन्होंने मुसलमानों के मसले पर किसी भी दूसरे सेक्युलर या मुसलिम नेता के मुक़ाबले ज़्यादा मजबूती से आवाज़ उठाई है। तीन तलाक़, सीएए-एनआरसी, राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट का फ़ैसला, धारा 370 जैसे मुसलमानों से जुड़े मसलों पर ओवैसी ने ताक़त के साथ आवाज़ बुलंद की है।
ओवैसी और राजभर के साथ आने से उत्तर प्रदेश की राजनीति में सबसे ज़्यादा मुश्किल मायावती और अखिलेश को ही होगी। ओवैसी मुसलिम वोटों में सेंधमारी करेंगे तो राजभर अति पिछड़ा वर्ग के वोटों पर असर डाल सकते हैं।

कांग्रेस को भी होगा घाटा!

मायावती पर बीजेपी के प्रति जहां बहुत ज्यादा सॉफ्ट रहने और मुसलमानों से जुड़े मसलों पर चुप्पी साधे रहने का आरोप लगता है, वहीं अखिलेश यादव और समाजवादी पार्टी भी मुसलमानों से जुड़े मसलों पर बहुत मुखर नहीं दिखाई दिए। ऐसे हालात में ओवैसी उत्तर प्रदेश में मुसलिम हक़ों की लड़ाई लड़कर अपना जनाधार तो बढ़ाएंगे ही, मायावती, अखिलेश के साथ ही कांग्रेस की ज़मीन को भी कमजोर करने का काम करेंगे। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

बिहार में ओवैसी के प्रदर्शन के बाद सेक्युलर राजनीति करने वालीं कांग्रेस, बीएसपी और एसपी को परेशानी होने लगी थी। क्योंकि इन दलों में मुसलिम वोटों पर एकाधिकार को लेकर जोरदार लड़ाई होती है। ओवैसी इन दलों पर इसे लेकर लगातार हमला बोलते हैं। 

ओमप्रकाश राजभर की कोशिश अति पिछड़ों, दलितों और मुसलमानों को साथ लाने की है। अगर उत्तर प्रदेश में दलित चंद्रशेखर रावण के साथ, मुसलमान ओवैसी के साथ और अति पिछड़ा वर्ग राजभर के साथ जुड़ता है और आने वाले वक़्त में आम आदमी पार्टी और शिवपाल यादव की प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) भी इस राजभर के भागीदारी संकल्प मोर्चे के साथ जुड़ती है तो निश्चित रूप से यह एक ऐसा गठबंधन होगा जो कई सीटों पर चुनाव परिणाम को प्रभावित करने की क्षमता रखेगा। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें