loader

यूपी चुनाव से पहले बीजेपी की अपना दल, निषाद समाज से बातचीत क्यों?

उत्तर प्रदेश बीजेपी में अंदरुनी हलचल के बीच बीजेपी ने अगले साल होने वाले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की तैयारियाँ भी शुरू कर दी हैं। वह राज्य में छोटे लेकिन काफ़ी अहम दलों के साथ क़रार करने के लिए बातचीत कर रही है। फ़िलहाल जो ख़बरें आई हैं उसमें कहा जा रहा है कि बीजेपी के नेताओं की अपना दल और निषाद समाज के नेताओं के साथ बातचीत चल रही है। अपना दल के यूपी में बीजेपी नेतृत्व से नाराज़ चलने की रिपोर्टें आती रही हैं और 2019 के चुनाव से पहले तो इसने बीजेपी के नेतृत्व वाले गठबंधन को छोड़ने की धमकी भी दे दी थी।

ताज़ा ख़बरें

लेकिन अब लगता है कि फिर से बीजेपी और अपना दल के बीच में क़रार की बातचीत चल रही है। गुरुवार को देश के गृहमंत्री और बीजेपी नेता अमित शाह से अपना दल की अनुप्रिया पटेल मिलीं। इसके अलावा अमित शाह और प्रधानमंत्री मोदी के क़रीबी पूर्व नौकरशाह एके शर्मा की निषाद समाज पार्टी के वरिष्ठ नेता डॉ.. संजय कुमार निषाद और संत कबीर नगर के सांसद प्रवीण निषाद से मुलाक़ात होने की ख़बर है। 

इनके साथ बीजेपी नेताओं की बैठकें और क़रार इसलिए अहम हैं कि यूपी में मौजूदा बीजेपी सरकार के ख़िलाफ़ नाराज़गी है और ख़बरें हैं कि बीजेपी आलाकमान को यूपी की रिपोर्ट अच्छी नहीं मिली है। ऐसी ही रिपोर्टों के बीच बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अनबन की अटकलें हैं। ये अटकलें और ज़्यादा तब लगाई जाने लगीं कि योगी आदित्यनाथ दिल्ली में आए हैं और वह केंद्रीय नेतृत्व से मुलाक़ात कर रहे हैं। 

योगी दिल्ली में गुरुवार को जब अमित शाह से मिले थे तो उसी दिन अपना दल की नेता अनुप्रिया पटेल भी अमित शाह से मिलीं। ख़ुद अमित शाह ने इस मुलाक़ात की तसवीर को ट्वीट किया।

इस बीच ख़बर है कि अनुप्रिया पटेल ने बीजेपी नेतृत्व के सामने अपनी कुछ मांगें रखी हैं। एनडीटीवी ने सूत्रों के हवाले से लिखा है कि उन्होंने केंद्र और उत्तर प्रदेश में एक-एक मंत्री के पद की मांग रखी है। इसके अलावा अपना दल ने कुछ ज़िलों में ज़िला पंचायत अध्यक्ष के पद में भी दिलचस्पी दिखाई है। हालाँकि बीजेपी और अपना दल 2014 के चुनाव से पहले से ही गठबंधन में हैं, लेकिन बाद में अपना दल की नाराज़गी बढ़ी है। 2017 के यूपी विधानसभा चुनाव में अपना दल को 9 सीटें मिली थीं। उससे पहले 2014 के लोकसभा चुनाव में उसे 2 सीटें मिली थीं और तब अनुप्रिया पटेल कुछ समय के लिए केंद्र में मंत्री भी रही थीं। 

लेकिन बाद में नाराज़गी बढ़ती गई और फिर 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले तो अपना दल ने एनडीए गठबंधन से बाहर निकलने की धमकी दे दी थी। तब उसने आरोप लगाया था कि बीजेपी गठबंधन के साथियों का ख्याल नहीं रखती।
यह वही समय था जब तब एनडीए में शामिल ओम प्रकाश राजभर ने गठबंधन से नाता तोड़ कर 2019 का चुनाव विपक्षी दलों के साथ लड़ा था। 
उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

अब बीजेपी यूपी में 2017 के चुनाव से पहले की तरह ही सामाजिक समीकरण देखकर विपक्ष के छोटे-छोटे दलों और ग़ैर यादव ओबीसी समुदायों को जोड़ने की कोशिश कर रही है। और बीजेपी के लिए यह ज़रूरी भी लगता है। यह इसलिए कि उत्तर प्रदेश में चल रही जबरदस्त राजनीतिक उथल-पुथल के बीच कई तरह की चर्चाएँ हैं। एक चर्चा का खुलासा तो वरिष्ठ पत्रकार शरद गुप्ता ने ‘सत्य हिन्दी’ के साथ बातचीत में किया है। उन्होंने कहा कि यूपी बीजेपी के 325 विधायकों में से 250 के हस्ताक्षर कराए जा चुके हैं। उन्होंने दावा किया कि बीएल संतोष ने लखनऊ दौरे के दौरान बीजेपी विधायकों, नेताओं से रायशुमारी की थी और इसमें 99 फ़ीसदी विधायकों ने कहा था कि वे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की कार्यशैली से ख़ुश नहीं हैं। इसके बाद इन लोगों से कहा गया कि अगर आप ख़ुश नहीं हैं तो हस्ताक्षर करें। 

वीडियो में सुनिये क्या कहा है शरद गुप्ता ने
बीएल संतोष वाले इस घटनाक्रम के बाद भी जिस तरह से राजनीतिक हलचल उत्तर प्रदेश बीजेपी में है वह सामान्य स्थितियों की ओर इशारा नहीं करती है। तमाम अटकलों के बीच योगी का एकाएक प्रधानमंत्री मोदी और बीजेपी आलाकमान से मिलने दिल्ली आना क्या संकेत देता है?
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें