loader
वायरल वीडियो का स्क्रीन ग्रैब।

यूपी: अलीगढ़ के बीजेपी विधायक ने कहा- 'मुझे तीन दरोगाओं ने पीटा, कपड़े फाड़े' 

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के रामराज्य में बीजेपी के ही विधायक को पुलिस वालों ने पीट दिया। अलीगढ़ की इगलास सीट से विधायक राजकुमार सहयोगी के साथ बुधवार को यह घटना हुई है। मारपीट के बाद विधायक ने कहा है कि उन्हें न्याय चाहिए। 

विधायक किसी मामले में पुलिस से बात करने गए थे। मारपीट की घटना के बाद उन्होंने स्थानीय पत्रकारों से बातचीत की। विधायक ने कहा, ‘एसओ ने एक मामले में पैसा लेकर कार्रवाई की। आज मैं बात करने आया तो तीन-तीन दरोगा मुझे मारने दौड़े और मेरे कपड़े फाड़ दिए।’ 

पुलिस से मारपीट के आरोप को लेकर विधायक ने कहा कि यह आरोप ग़लत हैं। पत्रकारों के यह पूछने पर कि अब वह क्या चाहते हैं, विधायक ने कहा, ‘न्याय चाहते हैं। जनता और कार्यकर्ता के साथ न्याय होगा, तभी हम मानेंगे, ऐसे हम नहीं मानने वाले।’

ताज़ा ख़बरें

इस घटना के बाद थाने के बाहर विधायक के समर्थकों की भारी भीड़ इकट्ठा हो गई और अच्छी-खासी संख्या में पुलिस बल भी पहुंच गया। हालात तनावपूर्ण बताए गए हैं। 

विधायक के साथ मारपीट के अलावा उनका यह कहना कि एसओ ने एक मामले में पैसा लेकर कार्रवाई कर दी, यह बेहद गंभीर मामला है। सत्तारूढ़ पार्टी के विधायक ही पुलिस अफ़सर पर पैसा लेकर कार्रवाई करने के आरोप लगाएंगे तो सीधा सवाल शासन पर खड़ा होगा। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

बीजेपी के कई जनप्रतिनिधि नाराज

उत्तर प्रदेश में हालिया समय में बीजेपी के कई नेता और सांसद सरकारी मशीनरी और अफ़सरशाही को लेकर अपनी शिकायत दर्ज करा चुके हैं। हरदोई सुरक्षित सीट से बीजेपी सांसद बने जय प्रकाश रावत ने हाल ही में फ़ेसबुक पोस्ट लिखकर योगी सरकार को संकेतों में चेताया था कि वह जनप्रतिनिधियों की दिक्कतों को समझे। सांसद ने कहा था कि तीस साल के अपने कार्यकाल में उन्होंने कभी ऐसी बेबसी महसूस नहीं की। 

‘सांसद निधि कहां गयी, पता नहीं’ 

सांसद का यह दर्द तब जुबां पर आया था जब एक बीजेपी नेता ने फ़ेसबुक पर उनसे कहा था कि कोरोना के दौरान सांसद और विधायक ने अपनी निधि का जो पैसा दिया था, उससे अगर हरदोई जिला अस्पताल में एक वेंटिलेटर मशीन लग जाए तो लोगों को कोरोना के बाद भी बहुत राहत मिलेगी। इस पर सांसद ने लिखा था, ‘मैंने अपनी निधि इसी शर्त पर दी थी कि वेंटिलेटर ख़रीदा जाए लेकिन ऐसा हुआ नहीं। निधि कहां गयी, पता नहीं।’ 

इसी फ़ेसबुक पोस्ट पर हरदोई की गोपामऊ सीट से बीजेपी विधायक और पहले भी कई बार नाराज़गी जता चुके श्याम प्रकाश ने लिखा था कि सब कमीशन खोरी की भेंट चढ़ गया। ग़ौर कीजिए, ये बयान राज्य में सरकार चला रही बीजेपी के विधायक का है। 

इस साल मई में बहराइच जिले के बीजेपी विधायक सुरेश्वर सिंह ने भी अधिकारियों को फटकारते हुए पूरे जिले को लूट का अड्डा बना देने का आरोप लगाया था। विधायक ने कहा था कि राशन किटों में घोटाला हो रहा है।

‘कोरोना के नाम पर लूट-खसोट’

विधायक सुरेश्वर सिंह ने कहा था कि पुलिस दुकान का शटर उठा देने के नाम पर हजारों रुपये की वसूली कर रही है और कोरोना के नाम पर जमकर लूट-खसोट हो रही है। बहराइच जिले के कई पुलिस थानों का नाम लेते हुए विधायक ने कहा था कि ये लूट के अड्डे बन गए हैं। इस दौरान विधायक रात को औचक निरीक्षण पर निकले थे। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें