loader
फ़ाइल फ़ोटो।

यूपी: मजबूत क़दमों के साथ ओबीसी, दलितों और मुसलिमों के बीच पहुंचेगी बीजेपी

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में बीजेपी अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी), दलित समुदाय और मुसलिमों के बीच पूरी ताक़त के साथ पहुंचने की तैयारी कर रही है। पार्टी जानती है कि चुनाव से पहले किसान आंदोलन को लेकर जिस तरह के हालात प्रदेश में बने हैं, ऐसे में उसे अपनी चुनावी तैयारियों को तेज़ करना ही होगा, वरना उसके सियासी रणबांकुरे चुनाव मैदान में हांफते नज़र आ सकते हैं। 

न्यूज़ एजेंसी पीटीआई की रिपोर्ट के मुताबिक़, बीजेपी ने ओबीसी, दलितों और मुसलिमों के बीच अपनी पकड़ को और मजबूत करने के लिए बड़ी रणनीति तैयार की है। इसके तहत वह ओबीसी और दलितों के बीच जाति आधारित रैलियां करेगी और मुसलिम बहुल बूथों के मतदाताओं तक पहुंचने के लिए कार्यकर्ताओं की टीम बनाएगी। 

ताज़ा ख़बरें

उत्तर प्रदेश में बीजेपी के ओबीसी मोर्चा के अध्यक्ष नरेंद्र कुमार कश्यप ने पीटीआई को बताया कि ओबीसी की तमाम जातियों तक पहुंचने के लिए तीन चरणों की रणनीति बनाई गई है। 

कश्यप ने कहा कि पहले चरण में पार्टी ओबीसी की उप श्रेणियों के बीच में 20 सामाजिक सम्मेलन करेगी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित तमाम बड़े नेता इन सम्मेलनों को खिताब करेंगे। उन्होंने कहा कि ये सम्मेलन कश्यप, राजभर, पाल, प्रजापति, जोगी, तेली, यादव, गुर्जर, सैनी, चौरसिया, कुर्मी के साथ ही जाट जाति के बीच किए जाएंगे। 

उन्होंने बताया कि पूरे प्रदेश में हर दो विधानसभा क्षेत्र में एक रैली की जाएगी। इस तरह कुल 202 ओबीसी रैलियां की जाएंगी। यह साफ है कि इस दौरान बीजेपी मोदी सरकार की ओर से ओबीसी समुदाय के लिए किए गए कामों को गिनाएगी। 

बीजेपी इस बात को भी जोर-शोर से प्रचारित करती है कि देश की आज़ादी के बाद से मोदी सरकार पहली ऐसी सरकार है, जिसने ओबीसी से सबसे ज़्यादा मंत्री बनाए हैं। मोदी सरकार में ओबीसी मंत्रियों की संख्या 27 है।

इसी तरह पार्टी का अनुसूचित मोर्चा प्रदेश के सभी 75 जिलों में ‘अनूसूचित जाति सम्मेलन’ कराने पर विचार कर रहा है। 

उत्तर प्रदेश में बीजेपी अल्पसंख्यक मोर्चा के अध्यक्ष कुंवर बासित अली पीटीआई से कहते हैं कि उनकी कोशिश प्रदेश के कुल मुसलिम मतदाताओं में से 20 फ़ीसद को अपने पाले में करने की है। 

ओबीसी के लिए उठाए क़दम 

मोदी सरकार ने बीते महीनों में ओबीसी समुदाय के लिए कई बड़े क़दम उठाए हैं। इनमें पिछड़े वर्ग को राष्ट्रीय आयोग का दर्जा देना, नीट परीक्षा में ओबीसी छात्रों के लिए 27 फ़ीसदी आरक्षण, क्रीमी लेयर की सीमा को 6 लाख से बढ़ाकर 8 लाख करना और केंद्रीय विद्यालयों, जवाहर नवोदय विद्यालय, सैनिक स्कूलों में ओबीसी समूहों के छात्रों के दाखिले को आसान बनाना जैसे क़दम शामिल हैं। 

BJP outreach programme for UP election 2022 - Satya Hindi

जातीय जनगणना गले की फांस 

लेकिन बीजेपी की राह में जातीय जनगणना का मुद्दा बड़ा रोड़ा है। जातीय जनगणना की मांग ने जोर पकड़ लिया है। ओबीसी समुदाय के तमाम नेता ओबीसी की जनगणना का मुद्दा उठा रहे हैं। इनमें बीजेपी के सहयोगी नीतीश कुमार से लेकर अनुप्रिया पटेल तक का भी नाम शामिल है। 

बीजेपी जातीय जनगणना कराने से इनकार कर चुकी है। उत्तर प्रदेश जैसे राज्य में जहां ओबीसी की आबादी 45 से 50 फ़ीसद है, वहां पर पार्टी को इसका जवाब देना भारी पड़ रहा है कि आख़िर वह जातीय जनगणना क्यों नहीं कराना चाहती। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

ओबीसी सीएम क्यों नहीं?

ओबीसी समुदाय को साथ रखने के लिए ही पार्टी ने कुर्मी समुदाय के स्वतंत्र देव सिंह को प्रदेश अध्यक्ष और केशव प्रसाद मौर्य को उप मुख्यमंत्री बनाया है। लेकिन इसके बाद भी ओबीसी वर्ग से मुख्यमंत्री न बनाने को लेकर वह विपक्षी नेताओं और राजनीतिक विश्लेषकों के निशाने पर रहती है।

बहरहाल, ओबीसी समुदाय के बीच में 202 रैलियां करने, दलितों और मुसलमानों के बीच में पहुंच बढ़ाने की बीजेपी की कोशिशें कितनी रंग लाती हैं, इसका पता पहले चुनाव प्रचार के दौरान और फिर नतीजों के बाद चल जाएगा।

ओबीसी सहयोगियों का सहारा 

बीजेपी के पास निषाद पार्टी के अध्यक्ष संजय निषाद और कुर्मी समुदाय से आने वालीं अनुप्रिया पटेल के रूप में मजबूत साथी हैं। देखना होगा कि ख़ुद के संगठन का जोर, पीएम मोदी के ओबीसी वर्ग से होने और इस वर्ग के लिए किए गए कामों का फ़ायदा क्या उसे उत्तर प्रदेश के चुनाव में मिलेगा। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें