loader
बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह।

यूपी: चुनावी तैयारियों में जुटी बीजेपी, तीन बड़े नेता कर रहे ताबड़तोड़ दौरे

उत्तर प्रदेश बीजेपी में आया सियासी तूफ़ान थम गया है और पार्टी अब पूरी तरह से चुनावी मोड में आ गयी है। ऐसा नहीं होता तो प्रदेश में पार्टी के तीन बड़े चेहरों को कार्यकर्ताओं को एकजुट करने, पूरे प्रदेश के लगभग सभी जिलों में जाने और कार्यकर्ता  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार के कामों का प्रचार करें, यह बताने का जिम्मा नहीं दिया जाता। 

इन तीन बड़े नेताओं में प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, पार्टी के महासचिव (संगठन) सुनील बंसल और प्रदेश प्रभारी राधा मोहन सिंह शामिल हैं। 

‘इकनॉमिक टाइम्स’ ने कहा है कि इन तीनों ही नेताओं को लक्ष्य दिया गया है कि वे राज्य भर का दौरा कर असंतुष्ट कार्यकर्ताओं को समझाएं और जिलों में ज़मीनी स्तर पर इस बात की समीक्षा करें कि आने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारियां कैसी चल रही हैं। 

प्रदेश में 8 महीने बाद विधानसभा के चुनाव हैं और 24 करोड़ आबादी वाले और 403 विधानसभाओं वाले इस राज्य में चुनावी तैयारियों के लिए इतना वक़्त कम होता है। यही सोचकर पार्टी ने इन नेताओं को जिम्मेदारियां सौंप दी हैं।

कई इलाक़ों का दौरा

ये तीनों नेता इन दिनों राज्य के कई इलाक़ों का दौरा कर रहे हैं। इस दौरान वे हर जिले में वरिष्ठ नेताओं के साथ बंद कमरों में बैठक कर रहे हैं और सांसदों-विधायकों, जिलाध्यक्षों और जिला प्रभारियों से बातचीत कर रहे हैं। इनकी कोशिश उत्तर प्रदेश के 75 जिलों में से ज़्यादा से ज़्यादा जिलों को कवर करने की है। इनके ये दौरे 23 जून से शुरू हुए थे और 6 जुलाई से पहले ख़त्म हो सकते हैं।

ताज़ा ख़बरें

सरकार के काम का करें प्रचार 

‘इकनॉमिक टाइम्स’ के मुताबिक़ बंद कमरों में होने वाली बैठकों में इन नेताओं ने इस बात पर जोर दिया है कि मोदी व योगी सरकार के द्वारा राज्य के लिए किए गए कामों के बारे में जनता को बताएं। इसमें विशेष तौर पर केंद्र सरकार के सभी के लिए मुफ़्त टीकाकरण के फ़ैसले के बारे में लोगों को बताने के लिए कहा गया है। 

BJP ready for UP election 2022  - Satya Hindi
बैठक लेते महासचिव (संगठन) सुनील बंसल।

सियासी अनिश्चितता का था माहौल 

उत्तर प्रदेश में एक महीने पहले जबरदस्त राजनीतिक अनिश्चितता का माहौल बन गया था। इस दौरान बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) बीएल संतोष दो बार लखनऊ के दौरे पर आ चुके हैं। यहां उन्होंने पार्टी और आरएसएस के पदाधिकारियों के साथ बैठक की थी। इसके अलावा संघ में नंबर दो दत्तात्रेय होसबोले भी लखनऊ आए थे। 

बीजेपी के प्रदेश प्रभारी राधा मोहन सिंह जब विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित और राज्यपाल आनंदी बेन पटेल से मिले तो तमाम तरह की सियासी चर्चाओं ने जोर पकड़ लिया था। 

BJP ready for UP election 2022  - Satya Hindi
बैठक लेते प्रदेश प्रभारी राधा मोहन सिंह।

कैबिनेट विस्तार बाक़ी

इसके बाद योगी आदित्यनाथ दिल्ली जाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा और गृह मंत्री अमित शाह से मिले थे और माना जा रहा था कि उत्तर प्रदेश सरकार और बीजेपी संगठन में कोई बड़ा बदलाव हो सकता है लेकिन मोदी के करीबी अफ़सर अरविंद कुमार शर्मा को प्रदेश बीजेपी का उपाध्यक्ष बनाए जाने से तमाम तरह की चर्चाओं पर विराम लग गया था। हालांकि अभी कैबिनेट का विस्तार होना बाक़ी है। 

स्वतंत्र देव सिंह को बृज और कानपुर के जिलों की, सुनील बंसल को अवध के और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कुछ इलाक़ों की और राधा मोहन सिंह को पूर्वी उत्तर प्रदेश और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बचे हुए हिस्सों की जिम्मेदारी दी गई है।

एकजुट होने की हिदायत

इस दौरान ये नेता कार्यकर्ताओं से चुनाव के लिए तैयार रहने, सभी मोर्चों के पदाधिकारियों को सक्रिय करने और अपने व्यक्तिगत झगड़ों को छोड़कर एकजुट होकर पार्टी के लिए काम करने की बात समझा रहे हैं। ये नेता कार्यकर्ताओं को समझा रहे हैं कि इस चुनाव में हमें वे सीटें भी जीतनी हैं जिन्हें हम 2017 में हार गए थे। 

पार्टी के इन तीनों बड़े नेताओं ने जिलाध्यक्षों से कहा है कि वे बूथ मैनेजमेंट पर ज़्यादा ध्यान दें क्योंकि हालिया पंचायत चुनाव में पार्टी का प्रदर्शन ख़राब रहा है। 

कोरोना काल के दौरान उत्तर प्रदेश में बीजेपी के कई विधायकों, मंत्रियों, सांसदों और यहां तक कि केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार ने भी नाराज़गी ज़ाहिर की थी। इसे भी पार्टी ने गंभीरता से लिया है और बीजेपी और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की ओर से पहले भी हालात को संभालने की कोशिश की जा चुकी है।

फ़ीडबैक ले रही पार्टी 

स्वतंत्र देव सिंह ने ‘इकनॉमिक टाइम्स’ को बताया कि इन दौरों के जरिये पार्टी कार्यकर्ताओं और आम जनता से फ़ीडबैक लिया जा रहा है और हर जिले की समस्याओं को भी समझा जा रहा है जिससे इन्हें संबंधित मंत्री के सामने उठाया जा सके।

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

पूर्वांचल को लेकर चिंता

किसान आंदोलन के कारण पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बीजेपी की सांसें फूली हुई हैं और वह लगातार जाट समुदाय के लोगों के बीच में बैठक कर रही है लेकिन कुछ वरिष्ठ नेता ‘इकनॉमिक टाइम्स’ से कहते हैं कि वे पूर्वांचल को लेकर ज़्यादा चिंतित हैं क्योंकि यहां बीजेपी के नेता अपना दल, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी और कुछ अन्य छोटे दलों के साथ बैठकें कर रहे हैं और योगी सरकार की आलोचना भी कर रहे हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें