loader

यूपी: सभी दलों के लिए पूज्य हो गए ब्राह्मण, रिझाने की हर संभव कोशिश

उत्तर प्रदेश में अचानक से पिछड़े नहीं ब्राह्मण मतदाता राजनीति की धुरी बन गए हैं। वर्णवादी व्यवस्था की इस सबसे अगड़ी जाति के वोटों की अरसे तक स्वाभाविक दावेदार रही कांग्रेस और हाल-फिलहाल में इसका साथ पाकर सत्ता की सीढ़ियां चढ़ती रही बीजेपी या फिर दलित-ब्राह्मण गठजोड़ से उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री की कुर्सी पा चुकी बीएसपी तो इन्हें रिझाने में लगी ही है। अब एसपी भी इस मैदान में कूद पड़ी है। भगवान परशुराम की जयंती पर अवकाश घोषित करने के अपने फ़ैसले को याद करते हुए पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने अब इनकी मूर्ति लगवाने की मुहिम शुरू कर दी है।

दरअसल, कानपुर के बिकरू कांड के मास्टरमाइंड विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद उपजी प्रतिक्रियाओं में विपक्ष को ब्राह्मण वोट साधने की संभावना दिखने लगी है। 22 करोड़ से ज्यादा की आबादी वाले उत्तर प्रदेश में करीब 11 प्रतिशत ब्राह्मण हैं। ब्राह्मण मतों के सहयोग से सत्ता का सुख प्राप्त कर चुके सभी दल अब इस समुदाय को रिझाने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ रहे हैं। 

फिलहाल ब्राह्मण ही सूबे की सियासत का केंद्र बने हुए हैं। 2022 के विधानसभा चुनाव के मद्देनजर सूबे के चारों प्रमुख सियासी दल अपने-अपने तरीके से ब्राह्मण समुदाय को पाले में लाने की कवायद में जुटे हैं।

कांग्रेस का "ब्राह्मण चेतना संवाद" 

कांग्रेस उसका साथ छोड़ चुके ब्राह्मण मतदाताओं को "ब्राह्मण चेतना संवाद" के माध्यम से पुनः साधने में जुटी है तो 2007 में ब्राह्मणों को साथ लेकर सरकार बना चुकी बीएसपी भी कहीं पीछे नहीं है। इसी क्रम में अब एसपी ब्राह्मणों को साधने के लिए भगवान परशुराम के सहारे ब्राह्मण कार्ड खेलने जा रही है।

ताज़ा ख़बरें

बीजेपी ने हाल-फिलहाल में विधानसभा से लेकर राज्यसभा में मुख्य सचेतकों की नियुक्ति तक में ब्राह्मण कार्ड खेला है और अब पार्टी उनकी हर समस्या में फौरन राहत पहुंचा रही है। कांग्रेस ने और आगे निकल कर न केवल अपने पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद को ब्राह्मण समुदाय के जख्मों पर मरहम लगाने भेजा है बल्कि वाराणसी के इस समुदाय के अपने नेता राजेश मिश्रा को भी सक्रिय कर दिया है।

भगवान परशुराम की मूर्तियां लगवाएगी एसपी

एसपी नेताओं की अगुआई वाले चिरंजीव भगवान परशुराम ट्रस्ट की ओर से लखनऊ में 108 फुट की भगवान परशुराम की प्रतिमा लगवाई जाएगी। वहीं, एसपी प्रबुद्ध सभा की ओर से हर जिले में परशुराम प्रतिमा लगाने का फ़ैसला किया गया है। कई जिलों में भगवान परशुराम और कुछ जिलों में प्रथम स्वाधीनता संग्राम के नायक मंगल पांडेय की प्रतिमा लगवाये जाने की तैयारी की जा रही है। 

एसपी नेताओं का कहना है कि उनकी पार्टी हमेशा सामाजिक भागीदारी व सम्मान की पक्षधर रही है। एसपी की सरकार रहते हुए परशुराम जयंती पर छुट्टी घोषित की गई थी, जिसे बीजेपी सरकार ने खत्म कर दिया।
एसपी प्रदेश में ग़रीब ब्राह्मण परिवारों को उनकी बेटियों की शादी कराने में आर्थिक मदद भी करेगी। इस सम्बन्ध में पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ ब्राह्मण नेताओं- पूर्व विधानसभा अध्यक्ष माता प्रसाद पाण्डेय, पूर्व मंत्री मनोज पाण्डेय, अभिषेक मिश्र आदि की बैठक भी हुई। इतना ही नहीं प्रतिमा बनवाने के लिए परशुराम चेतना पीठ ट्रस्ट बनाकर इसके निर्माण के लिए चंदा जुटाने का काम भी किया जाएगा।
उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

कांग्रेस पहले से ही सक्रिय 

उत्तर प्रदेश में अपनी खोई जमीन वापस पाने को बेकरार कांग्रेस की निगाहें काफी पहले से ब्राह्मणों पर है। पार्टी ने अलग-अलग क्षेत्रों में अपने ब्राह्मण नेताओं को सक्रिय किया है। पिछड़ी जाति से आने वाले प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के साथ बराबर की तरजीह के साथ विधानमंडल दल की नेता आराधना शुक्ला मोना को खड़ा किया है। 

लखनऊ, कानपुर सहित कई प्रमुख जिलों में कांग्रेस की कमान ब्राह्मण चेहरों को ही दी गयी है। हाल ही में पार्टी ने अपने जिला अध्यक्षों की नियुक्ति में इस समुदाय का खास ख्याल रखा है।

वाराणसी से सांसद रहे राजेश मिश्रा को पूर्वांचल के ब्राह्मणों को जोड़ने के काम में लगाया गया है। जितिन प्रसाद ब्राह्मण वोट बैंक को फिर से कांग्रेस के पाले में लाने के लिए 'ब्राह्मण चेतना संवाद' की शुरुआत कर चुके हैं और ब्राह्मणों से जुड़े मसलों पर खुलकर सक्रिय हैं। प्रियंका गांधी की अगुआई वाला कांग्रेस नेतृत्व भी ऐसा ही संदेश देने में जुटा है। 

पिछले दिनों गाजीपुर में फौजी ब्राह्मण परिवार की पुलिस द्वारा पिटाई की घटना के बाद कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल वहां पहुंचा भी था। 

Brahmin Politics in Uttar Pradesh - Satya Hindi
उत्तर प्रदेश की राजनीति में प्रियंका की सक्रियता बढ़ रही है।

बीजेपी भी डैमेज कंट्रोल में जुटी 

विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद कांग्रेस व एसपी ने बीजेपी पर ब्राह्मणों को प्रताड़ित करने का आरोप लगाया था। जिसके बाद डैमेज कंट्रोल में जुटे सरकार के तीन ब्राह्मण मंत्री डॉ. दिनेश शर्मा, ब्रजेश पाठक और सतीश द्विवेदी, ने विपक्ष पर हमला बोलते हुए ब्राह्मणों को बीजेपी के साथ रहने और होने की बात कही थी।

बीएसपी: सोशल इंजीनियरिंग का सहारा

विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने भी एक बयान जारी कर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार पर अपरोक्ष रूप से ब्राह्मणों को प्रताड़ि‍त करने का आरोप लगाया था। 

मायावती ने योगी सरकार पर हमला करते हुए कहा था कि प्रदेश सरकार ऐसा कुछ ना करे जिससे ब्राह्मण समाज आतंकित‍, भयभीत और असुरक्षित महसूस करे। गौरतलब है कि 2007 के विधानसभा चुनाव में मायावती ब्राह्मण वोटों के चलते ही प्रदेश में पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने में सफल रही थीं। बदले हालात में एकबार फिर से मायावती ने बीएसपी की ब्राह्मण भाईचारा समिति को सक्रिय करते हुए इस समुदाय को अपने पाले मे लाने की जिम्मेदारी वरिष्ठ नेता सतीश चंद्र मिश्रा को सौंपी है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
कुमार तथागत
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें