loader

नोएडा में अब आरोग्य सेतु ऐप को फ़ोन में न रखने पर नहीं होगी कार्रवाई

नोएडा में अब आरोग्य सेतु ऐप को फ़ोन में न रखने पर आप पर कार्रवाई नहीं होगी। गौतम बुद्ध नगर जिला प्रशासन के ऐप को डाउनलोड करने को अनिवार्य बनाने के आदेश को नोएडा, ग्रेटर नोएडा और सिविल सोसाइटी के लोगों द्वारा क़ानूनी चुनौती दी गई थी। जिसके बाद जिला प्रशासन ने अपना पुराना आदेश वापस ले लिया है। नए आदेश में ऐप के बारे में कहीं कोई जिक्र नहीं किया गया है। 
ताज़ा ख़बरें

इससे पहले जिला प्रशासन ने 3 मई को आदेश जारी कर कहा था कि जिसके फ़ोन में यह ऐप नहीं होगा, इसे आदेश का उल्लंघन माना जाएगा और ऐप न रखने वाले व्यक्ति को आपराधिक जुर्माना भी देना होगा। इसमें 6 माह तक की जेल या फिर 1000 रुपये जुर्माना लगाए जाने की बात कही गई थी। 

5 मई को वकील ऋत्विक श्रीवास्तव के साथ मिलकर जिले के लोगों ने अतिरिक्त आयुक्त (क़ानून एवं व्यवस्था) आशुतोष द्विवेदी को एक पत्र भेजा जिसमें इस ऐप को अनिवार्य बनाने की वैधानिकता को चुनौती दी गई थी। न्यूज़ वेबसाइट ‘द क्विंट’ से बातचीत में ऋत्विक श्रीवास्तव ने कहा कि नये आदेश में बहुत बड़ा बदलाव किया गया है। 

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने 1 मई को जारी गाइडलाइंस में कहा था कि सभी कंटेनमेंट ज़ोन में आरोग्य सेतु ऐप 100 फ़ीसदी लोगों के पास होना चाहिए और तब इसे पब्लिक और प्राइवेट सेक्टर में काम करने वालों के लिए भी अनिवार्य किया गया था। लेकिन 17 मई को जारी गाइडलाइंस में इसे बेहतर प्रयास के आधार पर इंस्टाल करना ज़रूरी बताया गया था। 

लेकिन 18 मई को उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से जारी गाइडलाइंस में कहा गया है कि लोगों को इस ऐप को डाउनलोड करने के लिए प्रोत्साहित किया जाए। इसके बाद 20 मई को गौतम बुद्ध नगर जिला प्रशासन का जो आदेश आया है, उसमें कहीं भी ऐप का जिक्र नहीं किया गया है। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

अनिवार्यता को लेकर विवाद

आरोग्य सेतु ऐप को डाउनलोड करने को अनिवार्य बनाए जाने को लेकर काफ़ी दिनों से विवाद चल रहा है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा था कि यह ऐप निगरानी करने वाली काफ़ी उन्नत प्रणाली है जिसे आउटसोर्स कर निजी ऑपरेटर के हाथों में दे दिया गया है और इससे डाटा और लोगों की गोपनीय जानकारियों की सुरक्षा को गंभीर ख़तरे की आशंका है। 

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज बी.एन. श्रीकृष्ण ने कहा था कि आरोग्य सेतु ऐप को लोगों के लिए अनिवार्य करना पूरी तरह ग़ैर-क़ानूनी है। उन्होंने पूछा था कि किस क़ानून के तहत आप इसे किसी पर ज़बरदस्ती लाद रहे हैं? 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें