loader

यूपी: करणी सेना ने रुकवाई अंतरधार्मिक शादी, धर्मांतरण का लगाया आरोप

उत्तर प्रदेश में अंतरधार्मिक शादी करने वाले जोड़ों पर पुलिस के साथ-साथ संस्कृति के ठेकेदार बने कुछ संगठनों की भी नज़र है। बीते कुछ वक़्त में आए कथित लव जिहाद के मामलों के बाद ताजा मामला बलिया का है, जहां पर करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने एक अंतरधार्मिक शादी को रुकवा दिया। करणी सेना का कहना था कि यह जबरदस्ती धर्म परिवर्तन और लव जिहाद का मामला है। 

यह घटना बुधवार को उस वक़्त हुई जब युवती अपने मंगेतर के साथ अपनी शादी को रजिस्टर करवाने के लिए एक स्थानीय अदालत में पहुंची थी। 

लेकिन करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने अदालत परिसर में ही युवती पर कोतवाली जाने के लिए दबाव डाला। कोतवाली में हंगामा होने बाद पुलिस ने युवती को उसके परिजनों के हवाले कर दिया है और युवक के ख़िलाफ़ केस दर्ज कर लिया है।  

ताज़ा ख़बरें
‘द इंडियन एक्सप्रेस’ के मुताबिक़, बलिया पुलिस का कहना है कि युवती अदालत में क्या बयान देती है, इस आधार पर ही आगे की कार्रवाई की जाएगी। पुलिस ने कहा कि कुछ लोगों ने आरोप लगाया है कि युवती का ग़लत ढंग से धर्म परिवर्तन कराया गया है, लेकिन ऐसा कुछ नहीं मिला है। 

नाम, जाति के बारे में पूछा 

इस घटना के वीडियो में दिख रहा है कि करणी सेना के कार्यकर्ता एक युवती के साथ धक्का-मुक्की कर रहे हैं। युवती कहती है कि उसने 24 साल के शख़्स दिलशाद सिद्धीक़ी के साथ शादी कर ली है। लेकिन करणी सेना का कार्यकर्ता युवती से उसका नाम, उसकी जाति, लड़के की जाति पूछता है। वह यह भी पूछता है कि क्या वह लड़का मुसलिम है और तुम उससे क्यों शादी कर रही हो। 

युवती कहती है कि वह दलित समुदाय से है, बालिग है और अपनी मर्जी से दिलशाद से शादी कर रही है। वीडियो से पता चलता है कि दिलशाद उबाहां पुलिस थाने के पादरी गांव का रहने वाला है। करणी सेना के लोग दिलशाद से भी सवाल पूछते हैं और उसे धमकाते हैं। हंगामा बढ़ने के बाद वह अदालत परिसर से भाग जाता है। 

‘द इंडियन एक्सप्रेस’ के मुताबिक़, इस घटना के एक और वायरल वीडियो में लोग इस युवती से पूछते हैं कि तुम अपने माता-पिता के साथ ऐसा कैसे कर सकती हो, जिन्होंने तुम्हें पाला-पोसा और पढ़ाया-लिखाया। 

पिता ने दी शिकायत 

उबाहां थाने के एसएचओ ज्ञानेश्वर मिश्रा ने बताया कि युवती के पिता ने अपनी शिकायत में कहा था कि उनकी बेटी दो दिन से घर नहीं लौटी है और उन्हें पता चला कि दानिश के साथ शामिल कुछ लोगों ने उनकी बेटी पर दबाव डालकर उसकी शादी करवा दी। एसएचओ ने कहा कि अदालत में हंगामा होने के बाद पिता ने इस मामले में शिकायत दी है। 

उत्तर प्रदेश में ऐसी कई घटनाएं बीते महीनों में हो चुकी हैं, जहां या तो पुलिस ने यहां फिर ऐसे ही कुछ संगठनों ने अंतरधार्मिक शादियों को रुकवा दिया है। आगरा के ऐसे ही एक मामले में नजमा और नरेंद्र को 5 साल तक जेल में रहना पड़ा।

एटा ज़िले के एक मामले में जहां अंतरधार्मिक शादी हुई थी, पुलिस ने पूरे परिवार और रिश्तेदारों को जेल भेज दिया था। 

कहा जा सकता है कि हत्या, बलात्कार, लूटपाट की ताबड़तोड़ वारदातों से सहमे उत्तर प्रदेश में पुलिस इन घटनाओं को तो रोक नहीं पा रही है लेकिन उसका सारा ध्यान इस बात पर है कि कहां पर हिंदुओं और मुसलमानों के बीच शादियां हो रही हैं। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

बीते साल कुशीनगर में हो रही एक शादी को पुलिस ने रुकवा दिया था। पुलिस को फ़ोन पर सूचना मिली ती कि एक मुसलिम लड़के की शादी हिंदू लड़की से हो रही है और उसका धर्म परिवर्तन कराया गया है। लेकिन अगले दिन पता चला कि लड़का और लड़की दोनों मुसलिम हैं। मतलब पुलिस यह भी जांच नहीं कर रही है कि उसे मिली सूचना सही है या ग़लत। 

ऐसी ही कई और घटनाएं हैं, जिन्हें समझने के बाद कहा जा सकता है कि संविधान द्वारा बालिग युवक-युवतियों को अपना साथी चुनने का अधिकार देने के बाद भी इससे जुड़े क़ानून बनाना या पुलिस की ग़ैर क़ानूनी कार्रवाई पूरी तरह संविधान का मखौल उड़ाने जैसी है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें