loader
प्रतीकात्मक तसवीर।

लॉकडाउन: भूख से घास खाने की नौबत, ख़बर छापी तो पत्रकार पर कार्रवाई

बनारस के कोइरीपुर गाँव में मुसहर जाति के लोग लॉकडाउन के दौरान खाने को दाना न होने के चलते घास खाकर गुज़ारा कर रहे हैं। खेतों से चूहा पकड़कर खाने के लिए जाने जाने वाले मुसहरों के पास कोई काम नहीं और अब भूखे रहने का संकट है। इस सच को उजागर करने वाले बनारस के पत्रकार विजय विनीत को सरकार के ग़ुस्से का शिकार होना पड़ा है। पत्रकार को ज़िलाधिकारी बनारस कौशलराज शर्मा ने नोटिस भेज कर इस ख़बर का खंडन छापने को कहा है और वह भी उसी प्रमुखता के साथ। बनारस व लखनऊ के प्रकाशित अख़बार ‘जनसंदेश टाइम्स’ के प्रधान संपादक सुभाष राय को भी नोटिस भेजा गया है।

ख़बर छपने के बाद ज़िलाधिकारी ने एक एडीएम स्तर के अधिकारी से जाँच करवाई और घास खाने की ख़बर को झूठा क़रार दिया। ज़िलाधिकारी ने घास को पौष्टिक आहार बता दिया और कहा कि इसे खाना ठीक है। ज़िलाधिकारी के इस नोटिस के बाद पत्रकार संगठनों व राजनैतिक दलों ने सरकार को आड़े हाथों लेते हुए विजय विनीत के उत्पीड़न को चिंताजनक बताया है। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने इसे दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए नोटिस वापस लेने और मुसहरों के लिए कुछ ठोस करने को कहा है।

ताज़ा ख़बरें

डीएम ने कहा- घास नहीं, अंकरी के दाने थे

मुसहरों के घास खाने की ख़बर प्रकाशित होने के बाद हरकत में आयी प्रदेश सरकार ने ज़िलाधिकारी बनारस से पूछताछ की। आनन-फानन में ज़िलाधिकारी ने एक एडीएम स्तर के अधिकारी को कोइरीपुर गाँव भेज कर जाँच करवाई और पूरे प्रकरण को झूठा क़रार दे दिया। ज़िलाधिकारी कौशलराज शर्मा ने जाँच रिपोर्ट के आधार पर पत्रकारों को बताया कि मुसहर दरअसल घास नहीं बल्कि एक खास क़िस्म का गेहूँ, अंकरी के दाने खा रहे थे। ग़ौरतलब है कि अंकरी को घास माना जाता है और यह गेहूँ के खेतों में उगती है। ज़िलाधिकारी ने पत्रकारों के सामने ख़ुद अपने बेटे को बिठा अंकरी घास खिलाकर भी दिखाया। 

संबंधित ख़बर में भी यह साफ़ कहा गया गया था कि घरों में अन्न का दाना न होने के चलते मुसहर गेहूँ के खेतों से अंकरी घास निकाल कर खा रहे हैं। मुसहरों ने पत्रकार विजय विनीत को घर में रखे खाली बर्तन और अंकरी घास को भी दिखाया था जिससे उनका जीवन चल रहा है। ख़बर में यह भी साफ़ लिखा था कि भूख शांत करने के लिए मुसहरों का परिवार खेतों से अंकरी घास उखाड़ कर लाए और उसके दाने छीलकर काम चलाने की कोशिश की।

हालाँकि कृषि वैज्ञानिकों का कहना है कि अंकरी घास वास्तव में हानिकारक होती है और इसीलिए गेहूँ की कटाई के समय अलग कर देते हैं। अगर यह नुक़सानदायक न होता तो अन्न में शामिल होता।

मदद पहुँची 

मुसहरों की दर्दनाक कहानी सामने आने के बाद मानवाधिकार जन निगरानी समिति (पीवीसीएचआर) के लेनिन रघुवंशी और कांग्रेस नेता अजय राय खाद्यान्न व साबुन लेकर पहुँचे और कुछ राहत पहुँचाई। सरकार की नज़र में मामला आने के बाद मुसहरों को और भी राहत पहुँचाई गयी है। लेनिन ने बताया कि बुधवार को भी उन्होंने अनाज लेकर मुसहरों की बस्ती में जाने की कोशिश की थी पर सुरक्षा बलों ने रोक दिया था। उनके मुताबिक़ मास्क सैनिटाइजर की कौन कहे मुसहरों के पास तो साबुन और अनाज तक मयस्सर नहीं हैं। उन्होंने बताया कि मुसहर लोग ज़्यादातर ईंट-भट्टों पर काम करते हैं जो आजकल लॉकडाउन के कारण बंद हैं। मुसहरों का भूख मिटाने का एक बड़ा ज़रिया गेहूँ के खेतों में पाए जाने वाले चूहे थे। जब से उन्हें पता चला है कि चूहा खाने से जानलेवा बीमारी हंता फैल रही तो ये ज़रिया भी बंद हो गया है।

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

नोटिस को बताया उत्पीड़न

मुसहरों की व्यथा छपने के अगले ही दिन ज़िलाधिकारी कौशलराज शर्मा ने पत्रकार विजय विनीत और संपादक सुभाष राय को नोटिस भेज दिया। नोटिस में कहा गया कि मुसहर चना और अंकरी दाल खा रहे थे जिसे दुर्भावनावश समाचार बनाकर छापा गया। ज़िलाधिकारी ने ख़ुद और बेटे की फोटो भेजते हुए कहा कि उन्होंने अपने परिवार के साथ वही खाया है और इसमें कोई ग़लत बात नहीं है। उन्होंने संबंधित अख़बार में तुरंत खंडन छापने को कहा। जवाब में पत्रकार ने ज़िलाधिकारी को पत्र लिख कर वीडियो व फोटो भेजकर अपनी बात को सही बताया है। विजय विनीत का कहना है कि ख़बर में साफ़ लिखा है कि मुसहर अंकरी घास खा रहे हैं जो अखाद्य है। कांग्रेस अध्यक्ष लल्लू ने कहा कि पत्रकार ने लॉकडाउन के दौरान होने वाली समस्याओं की ओर प्रशासन का ध्यान दिलाया तो उल्टा उसे ही नोटिस भेज दिया गया और उनका ही उत्पीड़न शुरू हो गया है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
कुमार तथागत
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें