loader

मुरादाबाद: वैक्सीन लगने के 24 घंटे के भीतर एक शख़्स की मौत

वैज्ञानिकों और केंद्र सरकार की ओर से बार-बार ये भरोसा दिलाने के बाद भी कि कोरोना की दोनों वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित हैं, लोग वैक्सीन लगवाने से हिचक रहे हैं। इसके पीछे ऐसी कुछ घटनाएं जिम्मेदार हैं, जिनमें वैक्सीन लगवाने के बाद लोगों की तबीयत बिगड़ी है। 

मुरादाबाद में कोरोना वैक्सीन की डोज लगवाने के 24 घंटे के भीतर महिपाल सिंह नाम के वार्ड ब्वॉय की मौत हो गई। 46 साल के महिपाल की मौत रविवार शाम को हुई। हालांकि मुरादाबाद के मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) का कहना है कि महिपाल की मौत का वैक्सीन से कोई लेना-देना नहीं है जबकि परिजनों का आरोप है कि टीका लगने के बाद उनकी तबीयत बिगड़ गई थी। 

ताज़ा ख़बरें

महिपाल के बेटे विशाल ने कहा, ‘वैक्सीन लगवाने के बाद दिन में 1.30 बजे पापा बाहर निकले। मैं उनको घर लेकर आया। पापा की सांस फूल रही थी और वे खांस रहे थे। उन्हें थोड़ा सा निमोनिया था और खांसी-जुकाम था। वैक्सीन लगने के बाद उन्हें ज़्यादा तकलीफ़ होने लगी।’

मुरादाबाद के सीएमओ एमसी गर्ग ने कहा, ‘महिपाल को शनिवार को दिन में वैक्सीन लगाई गई थी। उन्होंने रात में नाइट ड्यूटी की थी और कोई समस्या नहीं थी। इसके बाद रविवार को उन्हें सीने में दर्द और सांस फूलने की तकलीफ़ हुई थी। हम उनकी मौत के कारण की जांच कर रहे हैं। ऐसा नहीं लगता है कि वैक्सीन ने किसी तरह का रिएक्शन किया।’ सरकार का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चलता है कि दिल का दौरा पड़ने के कारण उनकी मौत हुई है। 

भारत में कोरोना वैक्सीन लगाने का कार्यक्रम 16 जनवरी से शुरू हुआ। पहले ही दिन केवल दिल्ली में ही 51 ऐसे मामले सामने आए जिन्हें वैक्सीन लगवाने के बाद लोगों को कुछ दिक़्कतें हुईं। इनमें से एक शख़्स को एम्स के आईसीयू में एडमिट कराना पड़ा। महाराष्ट्र में पहले दिन टीकाकरण के बाद सात लोगों को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। 

447 लोगों को हुई दिक्क़त

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि टीकाकरण के दूसरे दिन यानी रविवार को 17 हज़ार लोगों को वैक्सीन लगाई गई। मंत्रालय ने कहा कि अब तक देश भर में कुल 447 लोगों को इससे दिक्क़त होने की ख़बर आई है और इनमें से तीन लोगों को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा है। ऐसी ही ख़बरें देश में कई और जगहों से आ रही हैं। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

केंद्र सरकार के मुताबिक़, भारत में दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। अगले कुछ महीनों में ही 30 करोड़ भारतीयों को वैक्सीन लगाए जाने का लक्ष्य रखा गया है। इसकी शुरुआत स्वास्थ्य कर्मियों और फ्रंटलाइन वर्कर्स से की गई है और सबसे पहले ऐसे 3 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगाई जा रही है। 

भारत में कोरोना की दो वैक्सीन के इस्तेमाल की मंजूरी दी गई है। इनमें से एक को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और ऐस्ट्राज़ेनेका ने तैयार किया है जिसका नाम कोविशील्ड है जबकि दूसरी को भारत बायोटेक ने और इसका नाम कोवैक्सीन है। टीकाकरण अभियान की शुरुआत पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा था कि ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ़ इंडिया ने पूरी तरह संतुष्ट होने के बाद ही दोनों वैक्सीन को स्वीकृति दी है इसलिए लोग अफ़वाहों से दूर रहें। 

Mahipal Singh death in moradabad after dose of vaccine - Satya Hindi

कोवैक्सीन को लेकर हुआ था विवाद

भारत बायोटेक की कोवैक्सीन के क्लीनिकल ट्रायल यानी परीक्षण के बाद भोपाल में एक वालंटियर की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत के बाद काफी विवाद हुआ था और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इसके परीक्षण पर तत्काल रोक लगाने की मांग की गई थी। 

भोपाल के टीला जमालपुरा क्षेत्र के सूबेदार कालोनी में रहने वाले दिहाड़ी मजदूर दीपक मरावी को 12 दिसंबर को कोवैक्सीन का ट्रायल टीका लगाया गया था। मरावी की पत्नी का आरोप है कि कोवैक्सीन का ट्रायल टीका लगाने से पहले तक उसके पति सेहतमंद थे लेकिन ट्रायल के बाद से उनकी तबीयत बिगड़ने लगी थी। नौ दिनों के बाद 21 दिसंबर को दीपक की संदिग्ध हालात में मौत हो गई थी। 

मध्य प्रदेश में कई वालंटियर्स सामने आये थे जिन्हें टीके के परीक्षण के बाद स्वास्थ्य से जुड़ी कई तरह की  परेशानियां हुई थीं। आरोप है कि अंधेरे में रखते हुए आधा दर्जन बस्तियों में लगभग 700 ग़रीब लोगों पर टीके का परीक्षण किया गया। पीड़ितों ने बताया था कि टीका लगने के बाद से उन्हें भूख नहीं लगने, चक्कर आने, सिर दर्द, आंसू आने, कमर दर्द, वजन कम होने और पेट दर्द जैसी दिक्क़तें हो रही हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें