loader
फ़ोटो साभार: ट्विटर/निलेश मिश्रा

मथुरा ईदगाह में हनुमान पाठ, इमाम बोले- इबादत ही तो है

मथुरा के मंदिर में नमाज़ पढ़े जाने के बाद अब ईदगाह में हनुमान चालीसा पाठ पढ़े जाने का मामला सामने आया है। इस मामले में बिना किसी शिकायत के ही पुलिस ने 4 युवकों को गिरफ़्तार किया है। ईदगाह की ओर से हनुमान चालीसा पाठ करने पर कोई आपत्ति नहीं की गई है और कहा गया है कि कोई धार्मिक काम ही तो हुआ है, इससे कोई दिक्कत नहीं है।

मथुरा के बाहर गोवर्धन शहर की ईदगाह में हनुमान चालीसा पढ़ने का मामला मंगलवार को आया। यानी मथुरा के नंदगांव के नंद महल मंदिर में नमाज़ पढ़े जाने के विवाद होने के एक दिन बाद। लगता है कि ईदगाह का मामला मंदिर में नमाज़ पढ़ने की प्रतिक्रिया में हुआ।

सम्बंधित ख़बरें
वैसे, जब नमाज़ पढ़ी गई थी तब विवाद नहीं हुआ था और इसे सांप्रदायिक सौहार्द के तौर पर लिया गया था। 29 अक्टूबर को जब दो युवक वहाँ नमाज़ पढ़ रहे थे तब कोई प्रतिक्रिया मंदिर परिसर में नहीं हुई थी? तसवीर में भी अन्य लोग दिख रहे हैं। सबने इसकी अनदेखी की जैसे यह आम बात हो। लेकिन जैसे ही यह तसवीर बाहर आई और कई दिन बाद दो-तीन नवंबर को कुछ दक्षिणपंथियों के हाथ लगी तो इस पर विवाद हो गया।

'टाइम्स ऑफ़ इंडिया' की रिपोर्ट के अनुसार, ईदगाह के इमाम नेक मोहम्मद ने कहा कि उन्हें चार लोगों द्वारा हनुमान चालीसा के पाठ पढ़े जाने पर कोई आपत्ति नहीं है और उन्होंने इसकी कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई है। नेक मोहम्मद ने कहा, 'अगर मसजिद में कुछ धार्मिक पुस्तक पढ़ते हैं तो इसमें ख़राब बात नहीं है।'

मथुरा के एसएसपी गौरव ग्रोवर ने भी बताया कि अभी तक पुलिस को कोई शिकायत नहीं मिली है और पुलिस ने स्वत: संज्ञान लेते हुए चार लोगों को हिरासत में ले लिया है। बाद में उन्हें आपराधिक प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 151 (संज्ञेय अपराधों को रोकने के लिए गिरफ्तारी) के तहत 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

बहरहाल, जिस मंदिर मामले से इस पूरे विवाद की शुरुआत हुई है उस मामले ने तब तूल पकड़ा था जब सोशल मीडिया पर दक्षिणपंथियों ने इसके ख़िलाफ़ अभियान चलाया। सोशल मीडिया पर वह नमाज़ पढ़ने वाली तसवीर वायरल हुई।

इस बीच सोमवार को नंदगाँव मंदिर के पुजारी कान्हा गोस्वामी ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। इसके बाद पुलिस कार्रवाई की गई थी। 

वायरल हुई तसवीर में फैजल ख़ान और मोहम्मद चांद नमाज़ पढ़ते दिख रहे हैं। उनके साथ दो हिन्दू भी मंदिर परिसर में थे- नीलेश गुप्ता और आलोक रत्न। सभी के ख़िलाफ़ नफ़रत फैलाने समेत कई अन्य धाराओं में केस दर्ज हुए हैं। फैजल की गिरफ्तारी हो चुकी है और उन्हें 14 दिन की हिरासत में भी भेजा जा चुका है। मंगलवार को फैजल पर दो और आरोप लगाए गए। ये आरोप हैं भेष बदलने और धोखाधड़ी करने के।

mathura eidgah cleric has no complaint against hanuman chalisa recitation - Satya Hindi
फैजल ने उन सभी लोगों से माफी मांगी है जिनकी भावनाएँ मंदिर परिसर में उनके नमाज़ पढ़ने से आहत हुई हैं। उन्होंने अपनी साफ़ नीयत की दुहाई देते हुए बताया है कि वे और उनके साथ के बाक़ी तीनों लोगों ने मंदिर परिसर में कोसी परिक्रमा की। पूजा की। प्रसाद ग्रहण किए। ये सभी धार्मिक सद्भाव यात्रा पर थे। इन सबका संबंध खुदाई खिदमतगार नामक संगठन से है। यह वही संगठन है जिसे 1929 में भारत रत्न ख़ान अब्दुल गफ्फार ख़ान ने बनाया था। ख़ान अब्दुल गफ्फार ख़ान हिन्दू-मुसलिम सद्भाव के लिए जीवन भर समर्पित रहे।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें