loader
सीमा पर रोके गए प्रवासी मज़दूर (फ़ाइल फ़ोटो)

यूपी में मज़दूरों के पैदल या निजी वाहनों से चलने पर रोक, सीमाएँ सील, हज़ारों फँसे

48 घंटों में घर वापसी कर रहे 60 से ज़्यादा मज़दूरों की सड़कों पर कुचल कर हुई मौत के बाद योगी सरकार ने शहरों की सीमाएँ सील कर पैदल या अन्य गाड़ियों से आ रहे मज़दूरों को रोक दिया है। मुख्य सचिव आरके तिवारी ने शनिवार दोपहर एक आदेश जारी कर पैदल, मिनी ट्रक, ट्रक, मेटाडोर, ऑटो, साइकिल या किसी अन्य निजी वाहन से मज़दूरों के आने पर रोक लगा दी है। आदेश में पुलिस कप्तानों पर ज़िलाधिकारियों से कहा गया है कि उन्हें 200 बसें प्रत्येक ज़िले में दी जाएँगी जिससे मज़दूरों को उनके घर तक भेजा जा सके।

मुख्य सचिव के इस आदेश के बाद लखनऊ की सीमा को सील कर दिया गया है। इसके बाद लखनऊ कानपुर हाईवे पर उन्नाव के क़रीब 10 किलोमीटर लंबा जाम लग गया। बीते सात घंटे से इस राजमार्ग पर भीषण जाम की स्थिति है और कम से कम छह हज़ार मज़दूर फँसे हुए हैं। लखनऊ की सीमा में घुसने का प्रयास कर रहे मज़दूरों को रोकने के लिए पुलिस के साथ ही पीएसी को भी बुलाना पड़ा है। लखनऊ कानपुर सीमा पर मज़दूरों से भरी गाड़ियों की कतारें लगी हैं। भीषण गर्मी में फँसे कई मज़दूरों की तबियत भी खराब हुई है।

ताज़ा ख़बरें

उन्नाव में सरकारी इंटर कॉलेज में जमा कर रहे मज़दूरों को 

घंटों लंबे जाम के बाद लखनऊ व उन्नाव के ज़िला प्रशासन ने सड़कों पर आ रहे मज़दूरों को स्थानीय राजकीय इंटर कॉलेज में भरना शुरू कर दिया है। प्रशासन का कहना है कि यहाँ से मज़दूरों को उनके घर के लिए सरकारी बसों में भेजा जाएगा। हालाँकि देर रात तक सभी मज़दूरों को भेजने का काम शुरू नहीं हो पाया था। उधर मध्य प्रदेश से आ रहे मज़दूरों को भी झाँसी के पास रोका गया है। इसके साथ ही कई अन्य जगहों पर भी मज़दूरों को रोके जाने की ख़बर है।

दुर्घटनाओं के चलते रोका मज़दूरों को

शनिवार तड़के उत्तर प्रदेश में कानपुर के क़रीब औरैय्या में ज़बरदस्त सड़क दुर्घटना में अपने घर को लौट रहे 26 मज़दूरों की मौत हो गयी थी। इसके तुरंत बाद मध्य प्रदेश से आ रहे यूपी के पाँच मज़दूर बांदा में सीमा पर कुचल कर मारे गए। शनिवार दोपहर में आगरा एक्सप्रेस वे पर उन्नाव के बांगरमऊ में दो मज़दूर कुचल कर मर गए। प्रयाग में घर वापसी कर रहे एक मज़दूर की मौत दुर्घटना में हो गयी। इससे पहले के 24 घंटों में अलग-अलग घटनाओं में 26 मज़दूरों की सड़क दुर्घटना में मौत हो गयी थी। बीते 48 घंटों में 60 से ज़्यादा मौतों के बाद योगी सरकार ने पैदल चलने या किसी निजी वाहन से चलने पर पूरी तरह से रोक लगाते हुए इसे रोकने का ज़िम्मा ज़िला प्रशासन को सौंप दिया।

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

प्रियंका ने कहा- 1000 बसें चलाने की इजाज़त दो 

उधर कांग्रेस महासचिव और यूपी प्रभारी प्रियंका गाँधी ने शनिवार दोपहर मुख्यमंत्री को पत्र भेज माँग की कि उन्हें नोयडा और गाज़ियाबाद बॉर्डर से 500-500 बसें चलाने की इजाज़त दी जाए। प्रियंका ने मज़दूरों को भेजने के सरकारी प्रयासों को नाकाफ़ी बताते हुए पार्टी की ओर से बसें चलाने की इजाज़त माँगी। प्रियंका की चिट्ठी लेकर कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू और विधानमंडल दल की नेता आराधना मिश्रा ख़ुद मुख्यमंत्री कार्यालय गए। देर रात तक कांग्रेस को बसें चलाने की इजाज़त नहीं दी गयी थी।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
कुमार तथागत
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें