loader

उत्तर प्रदेश के झाँसी स्टेशन पर प्रवासी मज़दूर का शव ट्रेन के टॉयलेट में मिला

उत्तर प्रदेश के झाँसी में रेलवे स्टेशन पर एक प्रवासी मज़दूर का शव ट्रेन के टॉयलेट में मिला है। माना जा रहा है कि शव वहाँ कई दिनों से पड़ा हुआ होगा। जिस ट्रेन में शव मिला है वह मुंबई से श्रमिकों को लेकर आई थी और श्रमिकों को छोड़कर वापस लौट रही थी। ट्रेन के लौटने के दौरान ही झाँसी स्टेशन पर जब ट्रेन कोच को सैनिटाइज़ किया जा रहा था तब शव मिला।

मृतक की पहचान यूपी के बस्ती ज़िले के 38 वर्षीय मोहनलाल शर्मा के रूप में हुई है। वह मुंबई में दिहाड़ी का काम करते थे। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, उनके परिवार वालों का कहना है कि लॉकडाउन के बाद काम बंद होने से उनकी नौकरी चली गई थी और मुंबई में रहना मुश्किल हो रहा था। जब लाखों लोग जैसे-तैसे घर पहुँचना चाह रहे थे तो मोहनलाल भी ट्रेन से मुंबई से निकले थे। 

ताज़ा ख़बरें

मोहनलाल 23 मई को झाँसी स्टेशन पहुँचे थे। 'एनडीटीवी' की रिपोर्ट के अनुसार, ट्रेन से झाँसी में उतरे लोगों को ज़िला प्रशासन ने वापस स्टेशन पर भेज दिया ताकि वे गोरखपुर वाली ट्रेन में चले जाएँ। बस्ती वहाँ से 70 किलोमीटर दूर है। अब यह साफ़ नहीं हुआ है कि जो ट्रेन मुंबई से आई थी वह ट्रेन आगे गोरखपुर तक गई या उससे आगे भी। लेकिन जब यह ट्रेन बुधवार को झाँसी वापस लौटी तो कोचों को सैनिटाइज करने के दौरान मोहनलाल का शव मिला। 

इसके बाद उनके रिश्तेदारों को इसकी जानकारी दी गई। पुलिस ने पोस्टमार्टम किया और कोरोना टेस्ट किया गया। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

बता दें कि हाल के दिनों में कई श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में अब तक कई लोगों की मरने की रिपोर्ट आ चुकी है। एक दिन पहले ही अधिकारी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि ट्रेनों में ऐसे 9 लोगों की मौत हुई है। 

ऐसा ही झकझोर देने वाला मामला बिहार के मुज़फ़्फ़रपुर के रेलवे स्टेशन से आया था। उसका एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। वीडियो में दिखता है कि स्टेशन पर एक महिला का शव पड़ा है और उसे चादर से ढंका गया है। एक छोटा सा बच्चा उससे खेल रहा है। वह चादर को कभी उठा रहा है और अपनी माँ के चेहरे को देखकर वापस चादर को छोड़कर आसपास चला जा रहा है। बच्चा अपनी मृत पड़ी माँ को उठाने की कोशिश कर रहा है। उसे यह अहसास भी नहीं है कि उसकी माँ अब ज़िंदा नहीं है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें