loader
फ़ोटो साभार: ट्विटर/ब्रजेश मिश्रा/वीडियो ग्रैब

यूपी में गंगा किनारे मिलीं 2 हज़ार से ज़्यादा लाशें: रिपोर्ट

बिहार के बक्सर में जब सबसे पहले क़रीब 40-45 शवों के गंगा में तैरते मिलने की ख़बर आई थी तो कोरोना संकट की एक भयानक तसवीर दिखी। फिर बिहार के साथ ही यूपी में कई जगहों से दर्जनों शव मिलने की ख़बरें आती रहीं। लेकिन अब यूपी से बेहद विचलित करने वाली एक रिपोर्ट सामने आई है। 'दैनिक भास्कर' की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि यूपी में 27 ज़िलों में 1140 किलोमीटर की दूरी में गंगा किनारे 2 हज़ार से ज़्यादा शव मिले हैं। ये शव गंगा किनारे कहीं पानी में तैरते मिले तो कहीं रेतों में दफनाए हुए।

इतनी बड़ी संख्या में शवों के मिलने से सवाल खड़े होते हैं कि आख़िर ये शव गंगा नदी में क्यों बहाए जा रहे हैं? क्या कोरोना संक्रमित लोगों की मौत के बाद उन्हें बहा दिया गया है? इन शवों को परिजनों ने गंगा में बहाया है या फिर प्रशासन ने? क्या श्मशान घाटों में लकड़ी की कमी हो गई है? या ग़रीब पैसे की कमी के कारण लकड़ियाँ नहीं खरीद पा रहे और इस कारण शव ऐसे फेंके जा रहे हैं? संभव है कि ये सभी कारण सही हों। 

ताज़ा ख़बरें

यूपी और बिहार में पिछले 4-5 दिनों से हर रोज़ दर्जनों शवों के मिलने की ख़बरें आ रही हैं। गुरुवार को भी 'अमर उजाला' की रिपोर्ट के अनुसार यूपी के गाजीपुर, वाराणसी, चंदौली और भदोही में 21 शव मिले। रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रशासन के मुताबिक़ ही सिर्फ़ गाजीपुर में 169 शव मिल चुके हैं। पाँच दिन पहले उत्तर प्रदेश के हमीरपुर में भी यमुना में 7 शव मिले थे। 

इसी बीच अब सिर्फ़ यूपी में ही 2 हज़ार से ज़्यादा शव मिलने का 'दैनिक भास्कर' की रिपोर्ट में दावा किया गया है। अख़बार ने दावा किया है कि इसके 30 रिपोर्टरों ने बिजनौर, मेरठ, मुजफ्फरनगर, बुलंदशहर, हापुड़, अलीगढ़, कासगंज, संभल, अमरोहा, बदांयू, शाहजहांपुर, हरदोई, फर्रुखाबाद, कन्नौज, कानपुर, उन्नाव, रायबरेली, फतेहपुर, प्रयागराज, प्रतापगढ़, भदोही, मिर्जापुर, वाराणसी, चंदौली, गाजीपुर और बलिया में गंगा किनारे घाट और गाँवों का जायजा लिया। 

अख़बार की रिपोर्ट कहती है कि कन्नौज में महादेवी गंगा घाट के पास 350 से ज़्यादा लाशें दफन हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि कानपुर के शेरेश्वर घाट पर आधा किलोमीटर में ही 400 से ज़्यादा लाशें दफन हैं। उन्नाव के शुक्लागंज घाट और बक्सर घाट के पास क़रीब 900 से ज़्यादा शव दफन हैं। दैनिक भास्कर की ताज़ा रिपोर्ट के अनुसार गाजीपुर में 280 लाशें मिलीं। प्रयागराज, वाराणसी, चंदौली, भदोही, मिर्जापुर में 50 शव मिले। फतेहपुर और बलिया में भी 35 शव मिले। 

इन बहते शवों के वीडियो, फोटो सोशल मीडिया, टीवी पर वायरल हो रहे हैं। शवों के धार्मिक रिती-रिवाज से अंतिम संस्कार नहीं किए जाने पर सवाल उठाए जा रहे हैं।

इनकी मौत के तमाम कारण गिनाए जा रहे हैं कि शायद इन वजहों से इन लाशों को इनके परिजनों द्वारा नदियों में बहा दिया गया। इनमें से पहला कारण इन लोगों की कोरोना से मौत होना ही बताया जा रहा है क्योंकि गांवों में कोरोना संक्रमण फैलने का डर इतना ज़्यादा है कि परिजन किसी की कोरोना से मौत होने पर अंतिम संस्कार करने से भी डर रहे हैं।

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

'इंडिया टुडे' से बातचीत में स्थानीय लोगों ने कहा था कि कोरोना से होने वाली मौतों के कारण श्मशान घाटों में बहुत भीड़ है और लकड़ियों की भी खासी कमी है, इसलिए यह आम बात हो गयी है कि लोग अपने परिजनों के शवों को नदियों में बहा दे रहे हैं। 

एक ग्रामीण ने पीटीआई को बताया था कि कई पीड़ित परिवार ऐसे हैं जिन्हें अपने परिजनों के शवों को नदियों में बहाने के लिए मजबूर किया गया। 

'एनडीटीवी' की रिपोर्ट के अनुसार, बिहार बीजेपी के सांसद जनार्दन सिंह सिगरिवाल ने आरोप लगाया था कि कोरोना पीड़ितों के शव को जय प्रकाश सेतु नाम के ब्रिज से गुजरने वाली एंबुलेंस से नदी में फेंका जा रहा है। यह ब्रिज यूपी के बलिया के पास सीमा से सटे बिहार के सारण में है। रिपोर्ट के अनुसार, सिगरिवाल ने कहा है कि उन्होंने ज़िला प्रशासन से आग्रह किया है कि वे सुनिश्चित करें कि एंबुलेंस चालक शवों को वहाँ नहीं फेंकें।
ख़ास ख़बरें
यूपी और बिहार में गंगा में मिल रहे इन शवों को लेकर दोनों राज्यों में आरोप-प्रत्यारोप भी लगाए जा रहे हैं। ये तभी शुरू हो गए थे जब बक्सर में गंगा किनारे पहली बार शव मिले थे। अब तक क़रीब 100 शव बक्सर में मिल चुके हैं। फिर गाजीपुर में भी शव मिलने की ख़बर आई। बिहार के बक्सर प्रशासन ने पहले आरोप लागए तो गाजीपुर प्रशासन ने बिहार की सीमा से सटे क्षेत्रों से आने वाले शवों को लौटाना शुरू कर दिया। प्रशासन की तरफ़ से ऐसा कोई आदेश नहीं निकाला गया है, लेकिन सीमा पर पुलिस तैनात है। ऐसे हालात के बीच ही गंगा में शवों के मिलने का सिलसिला जारी है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें