loader

पिता आज़ादी की लड़ाई में शामिल थे, मुख़्तार बन गया अपराधी

मुख़्तार अंसारी, ये वो नाम है, जिसका एक वक़्त में उत्तर प्रदेश की राजनीति में ख़ासा रसूख था। सरकार चाहे किसी की भी बने मुख़्तार की तूती बोलती थी। लेकिन सामान्य जीवन में जिस तरह हर लम्हा ख़ुशनुमा नहीं रहता, ठीक वैसा ही राजनीति में भी होता है। 2017 में उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री क्या बने, मुख़्तार के बुरे दिन शुरू हो गए। 

मुख़्तार अंसारी पूर्वांचल के मऊ से 5 बार विधायक रहे हैं। आगे बढ़ने से पहले थोड़ा मुख़्तार के पारिवारिक इतिहास के बारे में जानते हैं। मुख़्तार के दादा डॉ. मुख़्तार अहमद अंसारी 1927–28 में कांग्रेस के अध्यक्ष बने थे। उनके नाना ब्रिगेडियर मोहम्मद उस्मान अंसारी ‘नौशेरा के शेर’ थे और उन्हें महावीर चक्र से सम्मानित किया गया था। 

ताज़ा ख़बरें

पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी, ओडिशा के पूर्व राज्यपाल शौकत उल्लाह अंसारी, इलाहाबाद हाई कोर्ट के जज रहे न्यायमूर्ति आसिफ अंसारी से मुख़्तार अंसारी के पारिवारिक रिश्ते हैं। मुख़्तार के पिता सुभान अल्लाह अंसारी ने देश की आज़ादी की लड़ाई में भाग लिया था और वह कम्युनिस्ट नेता थे। मुख़्तार के बेटे अब्बास अंसारी राष्ट्रीय स्तर के शूटर हैं। उनके भाई अफ़ज़ाल अंसारी वर्तमान में ग़ाज़ीपुर सीट से बीएसपी के सांसद हैं। 

तो फिर सवाल यह है कि इतने अच्छे परिवार से आने वाला मुख़्तार आख़िर ज़रायम की दुनिया में क्यों कूद गया। इसके पीछे कारण ज़रायम और सियासत की दुनिया के कॉकटेल से मिलने वाली शौहरत और ताक़त हासिल करने की भूख को बताया जाता है। 

Mukhtar Ansari Gangster turned MLA in poorvanchal - Satya Hindi

कृष्णानंद राय की हत्या

मुख़्तार अंसारी ने जब पूर्वांचल की सियासत में क़दम रखा तो उनकी पहचान सीमित थी। लेकिन नवंबर, 2005 में हुए एक हत्याकांड ने मुख़्तार को चर्चा में ला दिया। बीजेपी के तत्कालीन विधायक कृष्णानंद राय की बदमाशों ने हत्या कर दी थी। विधायक की पत्नी अल्का राय ने जिन लोगों के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज कराई थी, उनमें मुख़्तार के अलावा उनके भाई अफ़ज़ाल अंसारी सहित कई लोगों के नाम शामिल थे। 

बीजेपी ने तब विधायक राय की हत्या को मुद्दा बनाया था। इस मामले की जांच सीबीआई को सौंपी गई थी। 2019 में सीबीआई ने सभी को बरी कर दिया था। 

कायम रहा मुख़्तार का जलवा 

2007 के बाद उत्तर प्रदेश में आई मायावती और 2012 में आई अखिलेश यादव की सरकारों में भी मुख़्तार का जलवा कायम रहा। धीरे-धीरे मुख़्तार अंसारी के गैंग का नाम कई आपराधिक वारदातों- जैसे हत्या, ज़मीनों पर कब्जा करने व कई अन्य मामलों में सामने आया और देखते ही देखते वह पूर्वांचल में ख़ौफ़ का पर्याय बन गया। अंसारी के ख़िलाफ़ उत्तर प्रदेश में 52 आपराधिक मुक़दमे दर्ज हैं। 

बृजेश सिंह से अदावत 

लेकिन इस दौरान मुख़्तार अंसारी के दुश्मन बृजेश सिंह से उसकी अदावत बढ़ती गई और पूर्वांचल में इन दोनों के गैंग के बीच मुठभेड़ होती रहीं। मुख़्तार का असर इतना था कि 15 साल जेल में रहने के बाद भी वह विधानसभा का चुनाव जीतता रहा। लेकिन 2017 में मुख्यमंत्री बनने के बाद योगी आदित्यनाथ ने माफियाओं के ख़िलाफ़ शिकंजा कसना शुरू किया और मुख़्तार की कई अवैध संपत्तियों पर बुलडोजर चलवा दिया। अंसारी परिवार ने ख़ुद भी कई संपत्तियों को प्रशासन के डर से गिरवा दिया था। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

मुख़्तार की मुश्किलें तब बढ़ीं जब 2018 में उसके ख़ास शूटर मुन्ना बजरंगी की बाग़पत की एक जेल में हत्या कर दी गई। मुख़्तार के ख़िलाफ़ 2019 में पंजाब के एक रियल इस्टेस कारोबारी ने 10 करोड़ रुपये की रंगदारी मांगने की शिकायत दर्ज कराई थी। इसके बाद पंजाब पुलिस मुख़्तार को बांदा जेल से रोपड़ की जेल में ले आई थी और 2 साल के बाद भी मुख़्तार ने इस मामले में अपनी जमानत नहीं कराई थी। 

इस बीच योगी सरकार ने पूरा जोर लगाया लेकिन मुख़्तार ने यूपी में अपनी जान को ख़तरा बताया और अपने ख़राब स्वास्थ्य का भी हवाला दिया। पंजाब सरकार भी मुख़्तार को यूपी भेजे जाने के ख़िलाफ़ खड़ी रही लेकिन सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद मुख़्तार को अंतत: बांदा की जेल में आना ही पड़ा। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें