loader

कहां गई विकास दुबे की काली कमाई और ज़मीनें, न विदेश गया, न टैक्स देता था

कानपुर के बिकरू गांव में आठ पुलिस वालों की हत्या के बाद पांच साथियों सहित मुठभेड़ में मार गिराए गए विकास दुबे को योगी सरकार अरबों की संपत्ति का मालिक, भूमाफिया से लेकर विदेशों तक फ्लैट व पैसे जमा करने वाला बता रही है। विकास दुबे पर करोड़ों की सरकारी ज़मीन हड़पने से लेकर अब तक 13 बार विदेश यात्राएं करने के बारे में जानकारी दी गयी है। हालांकि पड़ताल में पता चला है कि विकास दुबे के पास बैंक खातों में मामूली रकम थी और आज तक उसने कभी आयकर का रिटर्न तक दाखिल नहीं किया था। 

इतना ही नहीं, पुलिस के मुताबिक विकास दुबे की हर महीने होने वाली करोड़ों की काली कमाई कहां गयी है इसका भी पता नहीं चल पा रहा है। विकास की संपत्तियों और काली कमाई की जांच प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) कर रहा है।

कानपुर में लंबे अरसे से तैनात पुलिसकर्मियों के मुताबिक़, विकास को दबंगई और गुंडई के अलावा कोई शौक नहीं था। ऐसे में ईडी के सामने सबसे बड़ा सवाल यही खड़ा हो गया है कि आखिर हर महीने एक करोड़ की उगाही करने वाले विकास की संपत्ति गई कहां?

मौजूद रिकॉर्डों के मुताबिक़, विकास दुबे थाने का ना तो मोस्ट वांटेड था और ना ही जिला प्रशासन का चिन्हित भूमाफिया। इसी साल जारी की गयी कानपुर जिला प्रशासन की भूमाफिया की सूची में विकास दुबे का नाम नहीं है। कानपुर के भूमाफियाओं की सूची में 72 लोगों के नाम हैं लेकिन विकास दुबे का नाम नहीं है। 

ताज़ा ख़बरें

ज़मीन कब्जा करने की शिकायत तक नहीं 

कानपुर के एक तहसीलदार के मुताबिक़, उनके पास विकास दुबे के सरकारी ज़मीन कब्जा करने के संबंध में कोई शिकायत तक नहीं है। कानपुर प्रशासन की ओर से जारी सूची में सबसे बड़ा भूमाफिया बर्रा के रहने वाले निजामुद्दीन को बताया गया है। निजामुद्दीन के कब्जे में 4 हेक्टेयर सरकारी ज़मीन बताई जा रही है।

पासपोर्ट नहीं था, विदेश कैसे गया?

बिकरू कांड के बाद पुलिस ने जानकारी दी कि विकास दुबे की विदेशों में संपत्ति है। विकास के खास साथी जय बाजपेयी को उसकी काली कमाई को निवेश करने वाला बताते हुए दुबई वगैरह में फ्लैट व पेंटहाउस होने की जानकारी दी गयी। पुलिस के हवाले से देश के अंग्रेजी के एक बड़े अखबार ने तो विकास दुबे के 13 बार विदेश यात्रा करने की ख़बर भी छाप दी। लेकिन पड़ताल में अब तक विकास दुबे के एक बार भी विदेश जाने की जानकारी सामने नहीं आई है। विकास दुबे के नाम से कोई पासपोर्ट तक नहीं बना था। 

विकास दुबे की पत्नी ने भी पूछताछ में इस बात की तस्दीक की है कि वह और दुबे कभी विदेश नहीं गए और न ही कोशिश की।
दुबे के जिस बड़े बेटे के विदेश में होने की बात कही जा रही थी, मुठभेड़ में पिता के मारे जाने के बाद वह भी सामने आ गया और बताया गया कि उसे एक रिश्तेदार के घर लखनऊ में रखा गया था।

पुलिस-प्रशासन मेहरबान था दुबे पर 

विकास दुबे पर पुलिस की मेहरबानी इस कदर थी कि न तो प्रदेश और न ही कानपुर के भूमाफिया या बड़े अपराधियों की सूची में उसका नाम रखा गया था। कानपुर प्रशासन की सूची में ज्यादातर भूमाफिया चकेरी और नौबस्ता इलाके के हैं। सूची के मुताबिक़, विकास दुबे न थाने का हिस्ट्रीशीटर था और ना भू माफिया। अब ऐसे में विकास दुबे पर पहले से कार्रवाई कैसे होती। 

टॉप मोस्ट अपराधियों की सूची से 60 मुक़दमों वाले विकास का नाम गायब होना साफ बताता है कि पुलिस और जिला प्रशासन के अधिकारी किस हद तक उस पर मेहरबान थे।

जिन भी लोगों को अब तक पुलिस ने सामने लाकर विकास दुबे द्वारा उनकी ज़मीन कब्जाने का दावा किया है, वे सब अपने विवाद में विकास के विरोधी पक्ष की ओर से आने की बात कह रहे हैं।

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे की मौत के बाद उसके बारे में खूब खुलासे हो रहे हैं। विकास के बारे में एक और खुलासा हुआ है कि करोड़ों कमाने वाले विकास ने आज तक टैक्स देना तो दूर कभी इनकम टैक्स रिटर्न तक फाइल नहीं किया है। विकास दुबे की कमाई कथित रूप से भले ही एक करोड़ रुपये महीना रही हो। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

जय बाजपेयी की कमाई बढ़ती गई 

यह भी पता चला है कि जय बाजपेयी का इनकम टैक्स रिटर्न चार साल में दोगुना हो गया जबकि उसकी पत्नी श्वेता बाजपेयी की आय तीन साल में तीन लाख घट गई। विकास दुबे का काला-चिट्ठा खंगाल रही एजेंसियों के सामने सबसे बड़ा सवाल है कि आखिर विकास दुबे की काली कमाई कहां गई।

जय बाजपेयी ने वित्त वर्ष 19-20 में 11.93 लाख रुपये की आय घोषित की और 1.40 लाख रुपये टैक्स दिया। वर्ष 18-19 में 10.54 लाख रुपये का आईटीआर भरा और 1.26 लाख रुपये टैक्स दिया। इसके पहले वर्ष 17-18 में 10.23 लाख रुपये आय दिखाई और 1.07 लाख रुपये टैक्स दिया। वर्ष 16-17 में 6.55 लाख रुपये आय घोषित की और 28 हजार रुपये टैक्स दिया। 15-16 में 5.43 लाख रुपये की आय पर 16 हजार रुपये टैक्स भरा। महज चार साल में जय की आय 5.43 लाख रुपये से 11.93 लाख रुपये हो गई।

सूत्रों के मुताबिक, जितनी आय उसने एक साल में दिखाई है, इतना तो उसका एक महीने का खर्च है और यही जांच का केंद्र बिंदु है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
कुमार तथागत
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें