loader

यूपी: निषेधाज्ञा तोड़ हज़ारों लड़कियों ने कांग्रेस के मैराथन में लिया भाग 

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में महिलाओं-लड़कियों को अपनी ओर खींचने की कांग्रेस की रणनीति कामयाब होती नज़र आ रही है। इसे इससे समझा जा सकता है कि प्रियंका गांधी की अपील पर हज़ारों लड़कियों ने निषेधाज्ञा का उल्लंघन किया और प्रतिबंधों को तोड़ कर मैराथन में भाग लिया। कांग्रेस ने लड़कियों के लिए मैराथन का आयोजन किया है। 

राज्य सरकार के प्रतिबंधों की धज्जियाँ उड़ाते हुए हजारों महिलाओं ने झांसी और लखनऊ में आयोजित कांग्रेस की मैराथन दौड़ में भाग लिया। इस मैराथन में युवतियों की लंबी कतार सड़कों पर दौड़ती दिखी।

लड़कियों के लिए मैराथन

कांग्रेस ने मैराथन दौड़ का वीडियो ट्विटर और अन्य सोशल मीडिया पर शेयर किया गया है। वीडियो में देखा जा सकता है कि लखनऊ और झांसी में मैराथन दौड़ में बड़ी भीड़ उमड़ी है।

कांग्रेस ने ट्विटर पर जो पोस्ट डाले हैं, उनमें एक वीडियो में एक महिला कह रही है, "राज्य सरकार को तब कोई समस्या नहीं हुई, जब एक सरकारी कार्यक्रम के दौरान कोविड प्रोटोकॉल का उल्लंघन किया गया और वहाँ लाखों छात्र जुटाकर लैपटॉप वितरित किए गए थे, तो फिर अब क्यों दिक्कत हो रही है?"

कांग्रेस ने दोनों मैराथन में पहले तीन विजेताओं के लिए स्कूटी की घोषणा की है और चौथे से 25वें स्थान पर आने वालों को स्मार्टफोन देने का एलान किया गया है।अगले 100 को फिटनेस बैंड, जबकि अगली 1,000 महिलाओं को पदक दिया जाना है।  पार्टी ने मैराथन प्रतिभागियों के लिए प्रवेश शुल्क नहीं लिया था।
उत्तर प्रदेश से और खबरें

क्या कहा था प्रियंका गांधी ने?

बता दें कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के निर्देश पर पार्टी ने युवा लड़कियों के लिए यह कार्यक्रम रखा था। प्रियंका ने हाल ही में नारा दिया था - लड़की हूं लड़ सकती हूं।

सरकार ने धारा 144 का हवाला देकर कांग्रेस के कार्यक्रम को अनुमति देने से मना कर दिया था।

ओमिक्रॉन के खतरों के मद्देनजर लखनऊ में धारा 144 और नाइट कर्फ्यू लागू है।

Priyanka Gandhi, UP Congress organise Marathon for girls  - Satya Hindi
प्रियंका गांधी, महासचिव, कांग्रेस

दूसरी ओर, हालांकि मुख्यमंत्री योगी खुद लखनऊ में ही सार्वजनिक कार्यक्रम में शामिल हुए, जिनमें उन्होंने छात्र-छात्राओं को स्मार्ट फोन और टैबलेट बांटीं।

योगी बटेश्वर भी गए। वहां भी सार्वजनिक कार्यक्रम था। राज्य के कई मंत्री आज कई शहरों और ग्रामीण इलाकों में दौरे पर थे।

सूत्रों ने बताया कि राज्य सरकार के अधिकारियों ने कांग्रेसी नेताओं को बताया है कि ऊपर के आदेश पर इस कार्यक्रम को अनुमति नहीं दी गई।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें