loader

यूपी पुलिस ने शुरू की अपने ही लोगों की जाँच, पुलिसकर्मियों से पूछताछ

अपने 8 जवानों को गंवाने, पूरी फ़ोर्स का मनोबल गिराने और काफी फजीहत होने के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस ने अपने ही लोगों की जाँच शुरू कर दी है। चौबेपुर थाने के पुलिसकर्मियों की जाँच शुरू की जा चुकी है और यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि अपराधी को गिरफ़्तार करने की योजना उन तक किसने पहुँचाई थी। 
चौबेपुर थाना प्रभारी विनय तिवारी को निलंबित कर दिया गया है और उनसे पूछताछ की जा रही है। इसके अलावा पूरे थाने की ही जाँच की जा रही है, यानी हर पुलिसकर्मी से पूछताछ की जा रही है।
उत्तर प्रदेश से और खबरें

इस मामले में पुलिस ने विकास दुबे गैंग के दयाशंकर अग्निहोत्री को गिरफ़्तार कर लिया है। गिरफ़्तार बदमाश ने पुलिस को बताया कि गैंग को संभावित पुलिस कार्रवाई की जानकारी पहले ही मिल गई थी।

एनडीटीवी ने कानपुर पुलिस प्रमुख मोहित अग्रवाल के हवाले यह जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि चौबेपुर थाने के हर कर्मचारी की जाँच हो रही है उनकी कॉल डिटेल का पता लगाया जा रहा है। अगर कोई भी घर का भेदी पाया गया तो उसके खिलाफ कड़ी आपराधिक कार्रवाई की जाएगी। 
उन्होंने एनडीटीवी से कहा, 

'डिप्टी एसपी देवेंद्र मिश्र की अगुवाई में छापामारी के लिए पुलिस की टीम में विनय तिवारी शामिल तो हुए लेकिन उसके घर पहुँचने से पहले ही टीम छोड़कर भाग गए। इसलिए वह शक के दायरे में हैं और उनकी भूमिका की जाँच की जा रही है।'


मोहित अग्रवाल, डीएसपी, कानपुर पुलिस

अग्रवाल ने कहा कि 'अगर पूर्व थाना इंचार्ज विनय तिवारी या चौबेपुर थाने का कोई भी पुलिस कर्मचारी विकास के लिए मुखबिरी करने का दोषी पाया गया तो उसके ख़िलाफ़ पुलिस कर्मियों की हत्या की साजिश में शामिल होने का भी मुकदमा भी चलाया जाएगा।'  
अग्रवाल ने न्यूज़ एजेंसी पीटीआई को बताया कि पुलिस की 25 टीमें विकास दुबे और उसके साथियों की तलाश में जुटी हुई हैं। ये टीमें उत्तर प्रदेश के कई जिलों में और दूसरे राज्यों में भी भेजी गई हैं। उन्होंने विकास दुबे के बारे में सूचना देने वाले शख़्स के लिए 50 हज़ार का नक़द इनाम भी घोषित किया है। 

दुबे के बारे में कहा जाता है कि उसकी सभी राजनीतिक दलों में अच्छी पकड़ है और वह जिला पंचायत का सदस्य भी रह चुका है। कई पार्टियों के नेता पंचायत और स्थानीय निकाय के चुनावों में दुबे की मदद लेते रहे हैं।

दुबे का कानपुर के आसपास के इलाक़ों में ख़ौफ़ माना जाता है और कहा जाता है कि उसके पास बदमाशों की एक अच्छी-खासी टीम है। दुबे को कानपुर के रिटायर्ड प्रिंसिपल सिद्धेश्वर पांडे की हत्या में उम्र क़ैद की सजा हो चुकी है। विकास दुबे पर 60 आपराधिक मुक़दमे दर्ज हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें