loader

विकास दुबे एनकाउंटर: राहुल का तंज, बोले - 'कई जवाबों से अच्छी है ख़ामोशी उसकी… 

विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद तमाम राजनीतिक दलों की ओर से तीख़ी प्रतिक्रियाएं आ रही हैं। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी ट्वीट कर इशारों-इशारों में अपनी बात कही है। राहुल ने शुक्रवार को ट्वीट किया है - ‘कई जवाबों से अच्छी है ख़ामोशी उसकी, न जाने कितने सवालों की आबरू रख ली।’

शायद राहुल गांधी का इशारा इस ओर है कि अगर विकास दुबे से पूछताछ की जाती तो न जाने कितने सफेदपोश लोगों का सच सामने आ जाता। इस बात की आशंका विकास की गिरफ़्तारी के बाद से ही लगाई जा रही थी कि उसका एनकाउंटर हो सकता है क्योंकि पूछताछ में वह कई राज उगल सकता था। 

ताज़ा ख़बरें

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी इस मामले में ट्वीट कर योगी सरकार को निशाने पर लिया है। प्रियंका ने शुक्रवार को कहा, ‘उत्तर प्रदेश की कानून-व्यवस्था बदतर हो चुकी है। राजनेता-अपराधी गठजोड़ प्रदेश पर हावी है और कानपुर कांड में इस गठजोड़ की सांठगांठ खुलकर सामने आई।’

कांग्रेस नेत्री ने कहा कि कौन-कौन लोग इस तरह के अपराधी की परवरिश में शामिल हैं, ये सच सामने आना चाहिए और सुप्रीम कोर्ट के मौजूदा जज से पूरे कांड की न्यायिक जाँच कराई जानी चाहिए। 

प्रियंका गांधी ने शुक्रवार सुबह भी ट्वीट किया था - ‘अपराधी का तो अंत हो गया, लेकिन उसको संरक्षण देने वाले लोगों का क्या?’

पुलिस के मुताबिक़, जिस गाड़ी में विकास दुबे को मध्य प्रदेश के उज्जैन से उत्तर प्रदेश के कानपुर ले जाया जा रहा था, वह गाड़ी पलट गई थी, इस पर समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा था - ‘दरअसल ये कार नहीं पलटी है, राज़ खुलने से सरकार पलटने से बचाई गयी है।’

इस एनकाउंटर को लेकर देखिए, वरिष्ठ पत्रकार मुकेश कुमार का वीडियो - 

विकास दुबे बेहद शातिर बदमाश था और सभी राजनीतिक दलों के नेताओं से उसके बेहतर संबंध थे। अपराध और राजनीति की दुनिया में वह खासा सक्रिय था और बिकरू गांव की घटना के बाद उसकी और उसके गुर्गों की राजनेताओं और आला पुलिस अधिकारियों के साथ तसवीरें सोशल मीडिया पर ख़ूब वायरल हुई थीं। ऐसे में माना जा रहा था कि विकास का मुंह खोलना कई लोगों के लिए मुसीबत बन सकता है। 

पुलिस ने बिकरू गांव की घटना के बाद से ही उसके गुर्गों को ढेर करना शुरू कर दिया था और कई को गिरफ़्तार कर लिया था। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें