loader

राम मंदिर निर्माण: भूमि पूजन से उमा भारती की दूरी, क्या यह सांकेतिक विरोध है?

बीजेपी की दिग्गज नेताओं में शुमार उमा भारती 'राम मंदिर' को यज्ञ बोलती थीं और इसके लिए प्राणों की सहर्ष आहूति देने की बात करतीं थीं लेकिन आज ऐसा क्या हो गया है कि इस ऐतिहासिक क्षण से उन्होंने दूरी बना ली है। यही नहीं, वे इस दौरान अयोध्या में ही रहेंगी लेकिन किसी संन्यासी की तरह सरयू नदी के किनारे ध्यान करेंगी! 

उमा भारती का यह रुख सबको हैरान करने वाला है। क्या यह उनका सांकेतिक विरोध है? कोरोना से ऐसा डर तो नहीं हो सकता! नेता आज भी लोगों से मिल रहे हैं, सरकारें बनाने, बिगाड़ने का खेल भी इस दौरान हुआ और ख़ास तौर पर मध्य प्रदेश में भी हुआ। उमा भारती इस प्रक्रिया में शामिल भी रहीं, विधायकों से मिलने-जुलने की उनकी ख़बरें भी मीडिया में आयीं। कांग्रेस के बाग़ी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया से भी वे मिलीं थीं। 

ऐसे में उमा भारती की यह बात हजम नहीं होती कि कोरोना संक्रमण की किसी आशंका के चलते वे इतने ऐतिहासिक कार्यक्रम में शामिल नहीं हो रही हैं।

पुख्ता हैं तैयारियां

अयोध्या में राम मंदिर का यह कार्यक्रम भव्य होने वाला है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार और उत्तर प्रदेश सरकार इसे भव्यता प्रदान करने में जुटी हैं। इस कार्यक्रम में कोरोना संक्रमण नहीं फैले, इस बात का भी भरपूर ध्यान रखा जा रहा है। 

ताज़ा ख़बरें

कोरोना की जांच के चलते ही मंदिर के पुजारियों व सुरक्षाकर्मियों के पॉजिटिव आने का पता भी चला है। ऐसे में यह नहीं कह सकते कि इस कार्यक्रम में कोरोना को लेकर कोई अनदेखी या लापरवाही बरती जाएगी। क्योंकि कार्यक्रम में प्रधानमंत्री भी आने वाले हैं, इसलिए भी, ध्यान विशेष रूप से दिया जा रहा है।

उमा भारती जैसी शख्सियत, जिनकी पहचान ही राम जन्म भूमि आंदोलन के दम पर बनी हो, वे इस ऐतिहासिक क्षण पर इससे दूरी बना लें, उनका यह क़दम कई सवाल खड़े करता है। 

उमा भारती ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर कहा, ‘कल जब से मैंने अमित शाह और यूपी बीजेपी के नेताओं के कोरोना पॉजिटिव होने का समाचार सुना तभी से मैं अयोध्या में मंदिर के शिलान्यास में उपस्थित लोगों के लिए खासकर पीएम नरेंद्र मोदी के लिए चिंतित हूं।’ 

उमा भारती ने दूसरा ट्वीट किया, ‘इसलिए मैंने रामजन्मभूमि न्यास के अधिकारियों को सूचना दी है कि शिलान्यास के कार्यक्रम के मुहूर्त पर मैं अयोध्या में सरयू के किनारे पर रहूंगी।’ उमा ने लिखा है कि भोपाल से अयोध्या तक के रास्ते में वह किसी कोरोना संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आ सकती हैं, इसलिए मुख्य कार्यक्रम में जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रहेंगे, उनका शामिल होना उचित नहीं होगा। उमा भारती का कहना है कि कार्यक्रम समाप्त होने के बाद वह अलग से रामलला के दर्शन करने जाएंगी।

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

बता दें कि केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद उनके संपर्क में आए लोगों को क्वारेंटीन रहने की सलाह दी गई है। वहीं बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह और कैबिनेट मंत्री महेंद्र सिंह की रिपोर्ट भी कोरोना पॉजिटिव आने के बाद हड़कंप मचा हुआ है। कैबिनेट मंत्री कमल रानी वरुण का कोरोना के चलते निधन हो चुका है। 

लेकिन सिर्फ इसलिए उमा भारती नहीं आ रही हैं इस पर विश्वास नहीं होता। वैसे, इस कार्यक्रम से दिग्गज नेता लाल कृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी की दूरी भी बहुत से सवाल खड़े कर रही है। तो क्या उमा भारती अपने इन वरिष्ठ नेताओं को निमंत्रण देने में सिर्फ़ औपचारिकता निभाने या देर से निमंत्रण देने को लेकर नाराजगी व्यक्त कर रही हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजय राय
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें