loader

राम मंदिर निर्माण के लिए ज़मीन की खरीद में फर्जीवाड़े के आरोप झूठे: चंपत राय

अयोध्या में रामजन्म भूमि पर मंदिर का निर्माण करा रहे ट्रस्ट पर ज़मीन खरीद में फर्जीवाड़े के आरोप के बाद ट्रस्ट की ओर से सफाई आई है। ट्रस्ट ने कहा है कि फर्जीवाड़े के आरोप पूरी तरह भ्रामक हैं और राजनीति से प्रेरित हैं। 

बता दें कि आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह और पूर्व विधायक पवन पांडेय ने रविवार को आरोप लगाया था कि राम जन्मभूमि ट्रस्ट ने दो करोड़ रुपये की ज़मीन 18.50 करोड़ रुपये में खरीदी और इस तरह इसमें करोड़ों रुपये का घपला किया गया। 

चंपत राय ने सोमवार को एक विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि 9 नवंबर, 2019 को श्री राम जन्मभूमि पर सुप्रीम कोर्ट का फ़ैसला आने के बाद अयोध्या में ज़मीन खरीदने के लिए देश भर से लोग आने लगे। इसके अलावा उत्तर प्रदेश सरकार भी अयोध्या के विकास के लिए ज़मीन खरीद रही है, इस कारण अयोध्या में ज़मीनों के दाम तेज़ी से बढ़ गए। 

ताज़ा ख़बरें

राम मंदिर निर्माण को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा में इस ट्रस्ट को कायम किए जाने की घोषणा की थी। उन्होंने कहा था कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के मुताबिक़ ही यह ट्रस्ट बनाया जाएगा और राम मंदिर के निर्माण से जुड़े सभी विषयों को लेकर फ़ैसले लेगा। इस ट्रस्ट का नाम श्री रामजन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र रखा गया था। 

ram mandir ghotala champat rai reacts - Satya Hindi

चंपत राय ने कहा है कि जिस ज़मीन को लेकर मीडिया में शोर हो रहा है वह रेलवे स्टेशन के पास की एक प्रमुख जगह है। इस ज़मीन को ख़रीदने के लिए वर्तमान विक्रेतागणों ने सालों पहले जिस मूल्य पर रजिस्टर्ड अनुबंध किया था, उस ज़मीन का उन्होंने 18 मार्च, 2021 को बैनामा कराया और फिर ट्रस्ट के साथ अनुबंध किया। 

उन्होंने कहा कि श्री रामजन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ने अब तक जितनी भी ज़मीन ख़रीदी है, वह खुले बाज़ार की क़ीमत से बहुत कम मूल्य पर ख़रीदी है। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

क्या है पूरा मामला?

संजय सिंह ने रविवार को लखनऊ में दस्तावेज़ जारी कर आरोप लगाया था कि कुसुम पाठक और हरीश पाठक से सुल्तान अंसारी और रवि मोहन तिवारी ने यह ज़मीन 7.10 मिनट पर ख़रीदी थी और 5 मिनट बाद इसे रवि मोहन तिवारी और सुल्तान अंसारी से श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने 18.50 करोड़ में ख़रीद लिया। 

उन्होंने कहा कि 5 मिनट में ही ज़मीन को इतना महंगा ख़रीदने का प्रस्ताव कैसे पारित हो गया। उन्होंने सवाल पूछा था कि क्या 5.50 लाख रु प्रति सेकेंड ज़मीन महंगी हो सकती है?

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें