loader
मंदिरों में राम का जन्मोत्सव मंदिर के पुजारियों तक ही सीमित कर दिया गया।

कोरोना: राम नवमी पर अयोध्या रही सील, 5 हज़ार मंदिरों में सन्नाटे में मना प्राकट्योत्सव

कोरोना संक्रमण के संकट के बीच अयोध्या में राम नवमी पर प्रभु राम का प्राकट्योत्सव लाखों की भीड़ में नहीं रही, बल्कि यह सन्नाटे में मनाया गया। लॉकडाउन के कारण पूरा शहर सील है और इस कारण अयोध्या के क़रीब पाँच हज़ार मंदिरों में होने वाले राम जन्मोत्सव को भी मंदिरों के गर्भगृहों तक सीमित कर दिया गया। कहा जा रहा है कि सैकड़ों साल में पहली बार ऐसे सन्नाटे के माहौल में प्रभु का जन्मोत्सव मनाया गया।

कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग सबसे महत्वपूर्ण और कारगर उपाए है इसलिए लोगों को इकट्ठे होने पर पाबंदी थी। इसी कारण रामनवमी पर प्रभुराम की धार्मिक नगरी वीरान दिखी। सरयू नदी पर जहाँ हर साल 15 लाख की भीड़ स्नान के लिए जुटती थी, वहाँ सन्नाटा पसरा रहा। जिस तरह से पुजारी ठाकुर जी की पूजा लॉकडाडन में कर रहे थे उसी तरह से रामनवमी के दिन भी की गई। अयोध्या के मंदिरों के संत-महंतों को कनक भवन व प्रमुख मंदिरों में जाने की अनुमति नहीं दी गई। 

ताज़ा ख़बरें

इस साल मंदिरों के पुजारियों व सुरक्षा कर्मियों के बीच ही भए प्रकट कृपाला दीन दयाला का उद्घोष सीमित होकर रह गया।  कनक भवन, जन्म भूमि दशरथ महल, जानकी महल, रंग महल, राम बल्लभाकुंज जैसे प्रमुख मंदिरों में भी राम जन्मोत्सव मंदिरों के गर्भगृहों में पूजा-आरती राग-भोग तक ही सीमित रहा। मेलाधिकारी एडीएम सिटी वैभव शर्मा के मुताबिक़ पूरी तरह से लॉकडाउन का पालन करवाया गया। उन्होंने कहा कि मंदिरों में राम का जन्मोत्सव पुजारियों तक ही सीमित कर दिया था। अयोध्या की सीमाएँ सील कर दी गई हैं जिससे बाहर से किसी श्रद्धालु का प्रवेश लॉकडाउन के दौरान न हो सके।

ram navmi celebration in ayodhya amid coronavirus fear lockdown - Satya Hindi
मंदिरों में राम का जन्मोत्सव पुजारियों तक ही सीमित कर दिया गया।

लाइव प्रसारण का कार्यक्रम भी निरस्त

वर्षों से कनक भवन से जन्मोत्सव के दिन दोपहर 12 बजे राम जन्मोत्सव का दूरदर्शन से लाइव प्रसारण की व्यवस्था रहती थी। इस साल भी राम जन्म भूमि परिसर में नए अस्थाई मंदिर में विराजमान भगवान राम लला के जन्मोत्सव का लाइव प्रसाारण करवाने की योजना थी। मेलाधिकारी शर्मा के मुताबिक़ लॉकडाउन में लाइव प्रसारण का कार्यक्रम भी निरस्त कर दिया गया।

जन्मभूमि मंदिर के पुजारी सत्येंद्र दास के मुताबिक़ जिस तरह से इस साल राम लला के जन्मोत्सव मनाने की योजना थी, कोरोना संकट के चलते निरस्त कर दी गई है। इस साल सीमित साधनों में जन्मोत्सव बिना श्रद्धालुओं के मनाया गया। प्रसाद में पंजीरी-लड्डू आदि व फलाहारी की मात्रा भी काफ़ी कम कर दी गई।

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

एसपी ग्रामीण एस के सिंह ने बताया कि हालाँकि ज़िले की सीमाएँ सील करके राम नवमी के एक दिन पहले से ही पूरी सख़्ती से लॉकडाउन को लागू किया गया, लेकिन लोगों ने ख़ुद ही घरों से न निकल कर अपने घरों में ही रामनवमी का अनुष्ठान किया।

राम मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास ने बताया कि राम जन्मोत्सव पर प्रभुराम से इस संकट से मुक्त करने के लिए प्रार्थना की गई। लोगों ने अपने घरों पर ही सुदरकांड का पाठ किया और राम नवमी के सभी अनुष्ठान भी किए।

'सत्य हिन्दी'
सदस्यता योजना

'सत्य हिन्दी' अपने पाठकों, दर्शकों और प्रशंसकों के लिए यह सदस्यता योजना शुरू कर रहा है। नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से आप किसी एक का चुनाव कर सकते हैं। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है, जिसका नवीनीकरण सदस्यता समाप्त होने के पहले कराया जा सकता है। अपने लिए सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। हम भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
वी. एन. दास
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें