loader

उन्नाव रेप का अभियुक्त अब तक बीजेपी में क्यों?: प्रियंका 

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भारतीय जनता पार्टी पर तीखा हमला बोलते हुए पूछा है कि उन्नाव बलात्कार मामले का अभियुक्त अब तक उस पार्टी में क्यों है। उन्होंने यह सवाल भी उठाया है कि इस मामले में सीबीआई की जाँच कहाँ तक पहुँची। उन्नाव बलात्कार कांड की पीड़िता की गाड़ी को रविवार को एक ट्रक ने ज़ोरदार टक्कर मार दी थी जिसमें पीड़िता की चाची और मौसी की मौत हो गई थी। प्रियंका ने ट्वीट कर कहा है कि बलात्कार पीड़िता के साथ सड़क दुर्घटना होना बेहद चौंकाने वाली घटना है। उन्होंने पूछा है कि पीड़िता और गवाहों की सुरक्षा में ढिलाई क्यों बरती गई है? 
प्रियंका गांधी के तीखे तेवर की वजह यह है कि वह 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' का नारा देने वाली पार्टी को उसी के घर में घेरना चाहती है। जो सीबीआई विपक्ष के नेताओं के कथित भ्रष्टाचार के मामलों की जाँच मुस्तैदी से करती है, उसने बलात्कार जैसे मामले में दो साल बीत जाने के बाद भी अभियुक्त के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई क्यों नहीं की है, प्रियंका इस ओर इशारा करना चाहती हैं। 

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने उन्नाव की बलात्कार पीड़िता की हत्या की आशंका जताई है। यादव ने इस सड़क हादसे की सीबीआई से जाँच कराने की माँग भी की है। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने लखनऊ पहुँचकर पीड़िता से मुलाक़ात की है। मालीवाल ने कहा कि पीड़िता और वकील की हालत नाजुक है और उन्हें इलाज के लिए दिल्ली ले जाये जाने की ज़रूरत है। 

बता दें कि पीड़िता रायबरेली जेल में बंद अपने चाचा से मिलने अपनी चाची, मौसी और वकील के साथ कार से रायबरेली जा रही थी। लेकिन रास्ते में ही उनकी कार को एक ट्रक ने टक्कर मार दी, जिसमें पीड़िता की चाची और मौसी की मौत हो गई। बलात्कार पीड़िता और उनकी वकील की हालत बेहद गंभीर है और दोनों का लखनऊ के ट्रॉमा सेंटर में इलाज चल रहा है। 
लखनऊ जोन के एडीजी राजीव कृष्णन ने अस्पताल का दौरा करने के बाद कहा कि डॉक्टरों ने उन्हें बताया है कि पीड़िता और वकील को लाइफ़ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है। उनकी कुछ हड्डियाँ टूट गई हैं और दोनों में से एक के सिर में चोट आई है।
पीड़िता ने आरोप लगाया था कि उन्नाव के बांगरमऊ से विधायक कुलदीप सिंह सेंगर ने उसके साथ जून, 2017 में अपने आवास पर बलात्कार किया था। पीड़िता ने कहा था कि तब वह अपने एक रिश्तेदार के साथ नौकरी माँगने के लिए विधायक के पास गई थी। कुलदीप के ख़िलाफ़ भारतीय दंड संहिता की धारा 363, 366, 376, 506 और पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया था। उत्तर प्रदेश सरकार ने पूरे मामले की जाँच सीबीआई से कराने की सिफ़ारिश की थी, जिसे एजेंसी ने स्वीकार कर लिया था। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें