loader

उन्नाव: रेप पीड़िता के परिवार ने कहा, सीएम योगी के आने पर ही करेंगे अंतिम संस्कार

यूपी के उन्नाव में दबंगों द्वारा जिंदा जलाई गई बलात्कार पीड़िता की मौत के बाद परिवार वालों ने कहा है कि जब तक राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उनसे मिलने नहीं आते, वे अंतिम संस्कार नहीं करेंगे। पीड़िता ने शुक्रवार रात को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में दम तोड़ दिया था। पीड़िता का शव शनिवार रात को उन्नाव पहुंचा था। पीड़िता की बहन ने कहा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को उनके घर पर आना चाहिए। उन्होंने सरकारी नौकरी देने की भी माँग की है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पीड़िता के परिवार को 25 लाख रुपये की सहायता देने के साथ ही मामले की सुनवाई फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट में कराने का भरोसा दिया है। 

उन्नाव के बिहार थाना क्षेत्र में रहने वाली पीड़िता को बृहस्पतिवार सुबह 5 दबंगों ने पेट्रोल डालकर जिंदा जला दिया था। पीड़िता 90 फ़ीसदी जल गई थी और उसे बेहद गंभीर हालत में पहले लखनऊ और फिर सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था। पीड़िता के साथ दो लोगों ने पिछले साल दिसंबर में सामूहिक बलात्कार किया था और ये लोग पीड़िता को जलाने वालों में भी शामिल थे। 

जीना चाहती थी पीड़िता

पीड़िता के भाई ने अंग्रेजी न्यूज़ चैनल इंडिया टुडे को बताया कि मरने से पहले उसकी बहन ने कहा था कि वह जीना चाहती है। भाई ने बताया, ‘उसने कहा कि भैया मुझे बचा लो, मुझे मरना नहीं है, जिन्होंने मेरे साथ ये किया है, उन्हें मैं मौत की सजा पाते देखना चाहती हूँ।’ पीड़िता के भाई ने कहा कि पाँचों अभियुक्तों को मौत की सजा मिलनी चाहिए। 

उन्नाव कांड की पीड़िता के पिता ने न्यूज़ चैनल आज तक से कहा है कि जैसा हैदराबाद में दिशा के साथ हत्या-बलात्कार करने वाले अभियुक्तों के साथ हुआ है, वैसा ही उनकी बेटी के अभियुक्तों के साथ होना चाहिए या उन्हें फांसी दी जाए। दिशा के अभियुक्तों को हैदराबाद पुलिस ने शुक्रवार तड़के एक एनकाउंटर में ढेर कर दिया था। 
यह घटना तब हुई थी जब पीड़िता बलात्कार मामले में सुनवाई के लिए रायबरेली की एक अदालत में पहुँचने के लिए ट्रेन पकड़ने रेलवे स्टेशन जा रही थी। लेकिन तभी बलात्कार का मुख्य अभियुक्त शिवम त्रिवेदी अपने 4 अन्य साथियों के साथ पीड़िता को गाँव से बाहर खेतों में ले गया और उस पर पेट्रोल डालकर उसे जिंदा जला दिया।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें