loader

यूपी- हिरासत में मौत : मृतक के परिजनों से मिलेंगे कांग्रेस नेता

उत्तर प्रदेश के कासगंज में पुलिस हिरासत में हुई मौत का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। विपक्ष दलों ने इसके लिए योगी आदित्यनाथ की अगुआई में बीजेपी सरकार को कटघरे में खड़ा किया है। कांग्रेस का एक 10 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद की अगुआई में मृतक अल्ताफ़ के परिजनों से मिलने जाएगा। 

पार्टी ने कहा है कि प्रतिनिधिमंडल में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद, विवेक बंसल और तौकीर आलम शामिल होंगे।

प्रतिनिधिमंडल के सदस्य अल्ताफ़ के परिजनों से मुलाक़ात करने के बाद स्थानीय प्रशासन और पुलिस अफ़सरों से मिल कर जानकारी इकट्ठी करेंगे। बाद में घटना का पूरा ब्योरा उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी को दिया जाएगा।

ख़ास ख़बरें
कांग्रेस ने सोशल मीडिया पर एक बयान जारी कर कहा है कि यह प्रतिनिधिमंडल  सच्चाई जानने के लिए कासगंज जा रहा है।

'शर्मनाक'!

इसके साथ ही बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रमुख मायावती ने पुलिस हिरासत में युवक की मौत को 'शर्मनाक' क़रार दिया है। उन्होंने इसके साथ ही इस वासदात की उच्च स्तरीय जाँच की माँग की है।

मायावती ने दोषियों के लिए सख़्त सज़ा के साथ-साथ पीड़ित परिवार की मदद की भी माँग की है। 

क्या कहा अखिलेश ने?

समाजवादी पार्टी ने भी इस मामले में न्यायिक जाँच की माँग की है।

पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव ने कहा है कि इस मामले में पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया जाना "सिर्फ़ दिखावटी कार्रवाई है।"

क्या है मामला?

बता दें कि उत्तर प्रदेश के एटा के पास के कासगंज में 22 वर्षीय युवक अल्ताफ़ की लाश संदिग्ध स्थिति में मिली। पुलिस का दावा है कि उसने आत्महत्या कर ली है। 

पर पुलिस के दावे पर किसी को यकीन नहीं हो रहा है। 

इस मामले में पुलिस ने वीडियो बयान जारी किया है। उस वीडियो में कासगंज के पुलिस प्रमुख रोहन प्रमोद बोथरे ने दावा किया कि उस व्यक्ति ने हवालात में बने 'वाशरूम जाने के लिए कहा'। अधिकारी ने कहा कि कुछ देर बाद जब वह नहीं लौटा तो पुलिस अंदर गई और उसे अचेत पाया।

उन्होंने कहा है, 'उसने काले कलर की जैकेट जो पहनी थी और उसके हुड में लगे नाड़े को वाशरूम में लगे नल से फँसाकर अपना गला घोंटने की खुद से कोशिश की। जब वह बहुत समय बाहर नहीं आया तो पुलिसकर्मी अंदर चले गए। उसको बेहोशी की हालत में कासगंज के एक अस्पताल में ले जाया गया। वहाँ पर प्राथमिक उपचार 5-10 मिनट चलने के बाद उसकी मृत्यु हो गई।'

दवाब में हैं परिजन?

इसके बाद बुधवार को मृतक अल्ताफ़ के पिता चाँद मियाँ ने कथित तौर पर कहा  कि उनके बेटे ने डिप्रेसन में आकर खुदकुशी कर ली है। 

चाँद मियाँ ने कथित तौर पर एक चिट्ठी लिख कर पुलिस कासगंज थाने को दी है। उन्होंने इसमें लिखा है, "दिनांक 9-11-21 को मेरे पुत्र अल्ताफ़ ने डिप्रेशन में आकर फाँसी लगा कर आत्महत्या कर ली। उसको पुलिस वाले सीएससी उपचार हेतु अशोक नगर ले गए, जहाँ उसकी मृत्यु हो गई।"

UP Custodial Death: congress blams UP Police - Satya Hindi
अल्ताफ़, मृतक

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक़, अल्ताफ की माँ फ़ातिमा और उसके चाचा हुसैन ने यह आशंका जताई है कि चाँद मियाँ ने पुलिस के दबाव में आकर अपना बयान बदला है और वह वही कह रहे हैं, जो पुलिस ने पहले कहा था।

फ़ातिमा ने 'आजतक' से कहा, "मुझे नहीं पता अब उन्होंने ऐसा क्यों कहा है। हमें इंसाफ नहीं मिला है… उन्हें डराया होगा, धमकाया गया होगा। लड़की के पिता ने (पुलिस को) पैसा भरा होगा।"

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें