loader

यूपी: मुनव्वर राणा के बयान पर बोले मंत्री-  ऐसे लोग एनकाउंटर में मारे जाएंगे

उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ला ने जाने-माने शायर मुनव्वर राणा को लेकर विवादित बयान दिया है। शुक्ला ने कहा है कि 1947 में जो मुसलमान इस साज़िश के तहत भारत में रुके थे कि भारत को फिर से बांटेंगे और इसके टुकड़े करेंगे, उन्हीं में से मुनव्वर राणा भी एक हैं। 

शुक्ला ने आगे कहा कि मुनव्वर राणा और उनके परिवार के बयानों को हम जानते हैं और निश्चित रूप से वे लोग एनकाउंटर में मारे जाएंगे, जो भारतीयों के ख़िलाफ़ खड़े होंगे, चाहे फिर वे कोई भी हों। 

वैसे, बीजेपी के किसी नेता की ओर से इस तरह का बयान आना कोई हैरानी पैदा नहीं करता है। क्योंकि गिरिराज सिंह से लेकर योगी आदित्यनाथ तक तमाम नेता ऐसे हैं, जिन्होंने मुसलमानों को लेकर इस तरह के विवादित बयान दिए हैं। 

ताज़ा ख़बरें

यह नहीं कहा जा सकता कि शुक्ला ने यह बयान यूं ही दे दिया। उन्होंने यह बयान सोच-समझकर दिया होगा, उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री के पद पर बैठा कोई शख़्स अनजाने में ऐसी बात नहीं कहेगा। 

मुनव्वर राणा ने कुछ दिन पहले बयान दिया था कि अगर योगी आदित्यनाथ फिर से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बन जाते हैं तो वे इस राज्य को छोड़ देंगे। राणा के इस बयान को लेकर शुक्ला ने कहा कि जो लोग यह बात कह रहे हैं कि उत्तर प्रदेश छोड़ना होगा, निश्चित रूप से ऐसा वक़्त उन सारे लोगों के लिए आ गया है जो देश को फिर से बांटने की साज़िश में शामिल थे। 

UP minister Anand Swaroop Shukla on munawwar rana - Satya Hindi

चादर चढ़ाने को बनाया मुद्दा

कुछ दिन पहले एआईएमआईएम प्रमुख असदउद्दीन ओवैसी बहराइच जाकर सैयद सालार मसूद गाज़ी की मज़ार पर चादर क्या चढ़ा आए थे तब भी बीजेपी ने उनके ख़िलाफ़ मोर्चा खोल दिया था। 

यूपी सरकार के मंत्री अनिल राजभर सामने आए थे और उन्होंने कहा था कि सैयद सालार गाज़ी की मज़ार पर चादर चढ़ाने से पूरे राजभर समाज का और महाराजा सुहेलदेव का अपमान हुआ है और यह राष्ट्रदोह से भी बढ़ा अपराध है। 

चुनाव जब 6 महीने दूर रह जाते हैं तो सत्तारूढ़ दल के विधायकों-मंत्रियों से अपेक्षा की जाती है कि वे साढ़े चार साल में किए अपने कामों के बारे में जनता को बताएंगे। जो काम रह गया है, उसके लिए कोशिश करेंगे लेकिन उत्तर प्रदेश में उल्टी गंगा बहाई जा रही है।

यहां बात हो रही है एनकाउंटर में मारने की, हर मुद्दे पर हिंदू-मुसलमान की। इस तरह के बयान देने का मक़सद सिर्फ़ और सिर्फ़ हिंदू मतों का ध्रुवीकरण करना है और जिस तरह का माहौल बनाया जा रहा है, उससे साफ लगता है कि उत्तर प्रदेश में चुनाव आने तक इस तरह के बयानों की बरसात होने वाली है। 

योगी के ज़हरीले बयान 

इसी तरह दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 में प्रचार के दौरान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निशाने पर मुसलमान रहे थे। उन्होंने कई चुनावी सभाओं में कहा था कि मुसलमानों ने 1947 में पाकिस्तान नहीं जाकर भारत पर कोई अहसान नहीं किया है। योगी ने शाहीन बाग़ के आंदोलन को लेकर कहा था कि इस प्रदर्शन में वे लोग बैठे हैं जिनके पूर्वजों ने भारत के टुकड़े किये थे। योगी ने कहा था कि कश्मीर में आतंकवादियों का समर्थन करने वाले लोग शाहीन बाग़ में बैठे हैं।

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

गिरिराज सिंह का बयान

पिछले साल गिरिराज सिंह ने एक बयान दिया था जिसमें उन्होंने कहा था कि मुसलमानों को 1947 में ही पाकिस्तान भेज देना चाहिए था। उन्होंने कहा था, ‘राष्ट्र के प्रति समर्पित होने का समय आ गया है। 1947 से पहले हमारे पूर्वज देश की आज़ादी की लड़ाई लड़ रहे थे और जिन्ना भारत को इसलामिक स्टेट बनाने की योजना बना रहा था। यह बहुत बड़ी भूल हमारे पूर्वजों से हुई जिसका खामियाजा हम यहां भुगत रहे हैं।’ 

गिरिराज सिंह ने आगे कहा था, ‘अगर उस समय मुसलमान भाइयों को वहां भेज दिया गया होता तो आज यह नौबत ही नहीं आती।’ 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें