loader

कोरोना संक्रमण से उत्तर प्रदेश की कैबिनेट मंत्री कमल रानी का निधन

उत्तर प्रदेश की कैबिनेट मंत्री कमल रानी का रविवार सुबह कोरोना संक्रमण से निधन हो गया। वह 62 साल की थीं। राज्य की तकनीकी शिक्षा मंत्री कमल रानी को संक्रमण के बाद 18 जुलाई को लखनऊ के संजय गाँधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान में भर्ती कराया गया था। 

रिपोर्टों में कहा गया है कि फेफड़ों में संक्रमण के बाद उनकी हालत बिगड़ गई थी। उन्हें पिछले कई दिनों से लाइफ़ सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया था।

ताज़ा ख़बरें

कमल रानी कानपुर के घाटमपुर निर्वाचन क्षेत्र से विधायक थीं। वह 11वीं और 12वीं लोकसभा की सदस्य भी रही थीं। सांसद रहने के दौरान वह अलग-अलग संसदीय कमेटियों की सदस्य रही थीं। इससे पहले अपने राजनीतिक करियन की शुरुआती दिनों में वह 1989 से 1995 तक कानपुर महानगर परिषद की सदस्य रही थीं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कमल रानी के निधन पर गहरा शोक जताया है। उन्होंने ट्वीट कर कमल रानी को एक समर्पित जननेत्री बताया।

मुख्यमंत्री ने अयोध्या में 5 अगस्त को लेकर तैयारियों की समीक्षा के लिए आज का प्रस्तावित दौरा रद्द कर दिया है। बता दें कि 5 अगस्त को राम मंदिर भूमि पूजन के कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शामिल होंगे। कार्यक्रम में कोरोना संकट की वजह से 200 से ज़्यादा लोगों को आमंत्रित नहीं किया गया है। अयोध्या में ही कोरोना को लेकर स्थिति गंभीर इसलिए भी हो गई है कि मंदिर के एक पुजारी और सुरक्षा में तैनात 16 पुलिसकर्मी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। अयोध्या में रोज़ाना औसत रूप से 50 से ज़्यादा केस बढ़ रहे हैं।
उत्तर प्रदेश से और ख़बरें
पूरे राज्य में कोरोना संक्रमण की स्थिति लगातार गंभीर होती जा रही है। राज्य में कोरोना के कारण 1,677 लोग अपनी जान गँवा चुके हैं। राज्य में कोरोना संक्रमण के मामले 89 हज़ार से ज़्यादा हो गए हैं। राज्य में फ़िलहाल 34 हज़ार 968 लोग संक्रमित हैं। अब तक 48 हज़ार 863 मरीज़ पूरी तरह ठीक हो चुके हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें