loader

यूपी: एमएलसी चुनाव में बीजेपी की आंधी, सपा का नहीं खुला खाता

उत्तर प्रदेश में विधान परिषद (एमएलसी) के चुनाव में बीजेपी ने शानदार प्रदर्शन किया है। एमएलसी की कुल 36 सीटों के लिए चुनाव हुआ था जिसमें से 9 सीटें बीजेपी पहले ही निर्विरोध जीत चुकी थी। चुनाव नतीजों के बाद कुल 36 सीटों में से 33 सीटें बीजेपी के खाते में गई हैं जबकि 3 सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवारों को जीत मिली है। इन सीटों के लिए 9 अप्रैल को मतदान हुआ था।

विधानसभा चुनाव में मिली हार के बाद समाजवादी पार्टी के लिए यह एक और बड़ा झटका है क्योंकि उसके एक भी उम्मीदवार को चुनाव में जीत नहीं मिली है जबकि बीजेपी के उम्मीदवारों ने कई सीटों पर सपा के उम्मीदवारों को बड़े अंतर से चुनाव हराया है।

आजमगढ़, वाराणसी और प्रतापगढ़ सीट पर निर्दलीय उम्मीदवारों को जीत हासिल हुई है।
UP MLC Election Results 2022 results - Satya Hindi

वाराणसी में मिली हार

बीजेपी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी में झटका लगा है और वहां उसके उम्मीदवार डॉ. सुदामा पटेल निर्दलीय उम्मीदवार अन्नपूर्णा सिंह के हाथों चुनाव हार गए हैं। अन्नपूर्णा सिंह जेल में बंद बाहुबली बृजेश कुमार सिंह की पत्नी हैं।

ताज़ा ख़बरें

बीजेपी ने देवरिया कुशीनगर की सीट जीत ली है। यहां से पार्टी के उम्मीदवार डॉ. रतन पाल सिंह ने समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार डॉ. कफील खान को चुनाव हराया है। 

आगरा-फिरोजाबाद सीट पर बीजेपी के उम्मीदवार विजय शिवहरे, अयोध्या सीट पर हरिओम पांडे, सीतापुर सीट पर पवन सिंह चौहान और बस्ती सीट पर सुभाष यदुवंश को जीत मिली है। इसके अलावा जौनपुर सीट से बीजेपी के उम्मीदवार बृजेश सिंह, उन्नाव सीट से रामचंद्र प्रधान, बलिया सीट से रविशंकर सिंह पप्पू और बाराबंकी से अंगद सिंह ने जीत दर्ज की है।

आजमगढ़ सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार विक्रांत सिंह को जीत मिली है जबकि महराजगंज से बीजेपी उम्मीदवार सीपी चंद विजयी हुए हैं। 

बीजेपी के अन्य उम्मीदवारों में मथुरा-एटा-मैनपुरी सीट से ओमप्रकाश सिंह और आशीष यादव, लखीमपुर खीरी से अनूप गुप्ता, हरदोई से अशोक अग्रवाल, बदायूं से अवधेश पाठक, बांदा-हमीरपुर से जितेंद्र सिंह सेंगर, अलीगढ़ से ऋषि पाल सिंह, सीतापुर से पवन सिंह, रायबरेली से दिनेश प्रताप सिंह, प्रयागराज से केपी श्रीवास्तव, फतेहपुर से अविनाश सिंह आदि शामिल हैं।

बीजेपी पहले ही विधान परिषद में स्थानीय निर्वाचन क्षेत्र की 9 सीटें जीत चुकी है। ये सीटें बदायूं, हरदोई, खीरी, मिर्जापुर-सोनभद्र, बांदा-हमीरपुर, अलीगढ़, बुलंदशहर और मथुरा-एटा-मैनपुरी हैं।

कांग्रेस और बीएसपी ने इस चुनाव में उम्मीदवार नहीं उतारे थे इसलिए सीधी लड़ाई बीजेपी और सपा के बीच ही थी। कुछ सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवारों ने भी मजबूती से चुनाव लड़ा और नतीजे उनके हक में रहे। 

उत्तर प्रदेश से और खबरें

एमएलसी चुनाव के दौरान सपा के उम्मीदवारों का विरोध करने वाले कई नेताओं को पार्टी मुखिया अखिलेश यादव ने बाहर का रास्ता दिखा दिया था।

एमएलसी चुनाव में कई जगहों पर गड़बड़ी होने, सपा प्रत्याशियों के साथ मारपीट करने उनके पर्चे खारिज होने की खबरें सामने आई थीं। इसके बाद अखिलेश यादव ने आरोप लगाया था कि एमएलसी के चुनाव में गड़बड़ी की जा रही है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें