loader

लॉकडाउन, लेकिन 'द वायर' के संपादक को यूपी पुलिस ने 14 अप्रैल को अयोध्या बुलाया

उत्तर प्रदेश सरकार  ने 'द वायर' के संस्थापक संपादक सिद्धार्थ वरदराजन को आदेश दिया है कि वह 14 अप्रैल को अयोध्या पहुँच वेबसाइट पर प्रकाशित एक ख़बर पर अपनी सफ़ाई दें। 
योगी आदित्यनाथ सरकार ने यह आदेश ऐसे समय दिया है जब पूरे देश में लॉकडाउन है, सबसे घर के अंदर रहने को कहा गया है और हर तरह का परिवहन बंद कर दिया गया है। 
उत्तर प्रदेश से और खबरें

क्या है मामला?

वरदराजन को यह नोटिस उस खबर पर दी गई है जिसमें यह कहा गया था कि योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि 'भगवान राम भक्तों को कोरोना वायरस से बचाएंगे।' 
अगले ही दिन सिद्धार्थ वरदराजन ने ट्वीट कर इसे सुधारा और कहा था कि यह मुख्यमंत्री ने नहीं कहा, अयोध्या मंदिर ट्रस्ट के प्रमुख आचार्य परमहंस ने ऐसा कहा है। खबर में भी इसे सुधार दिया गया था।
समाजविज्ञानी और वरदराजन की पत्नी नदंनी सुंदर ने कहा कि यूपी पुलिस की एक टीम शुक्रवार को उनके घर पहुँच कर उन्हें नोटिस थमा गई।
उन्होंने इस पर गुस्सा जताया कि लॉकडाउन के बावजूद पुलिस ने वरदराजन को अयोध्या बुलाया है। 

क्या कहना है यूपी पुलिस का?

इंडियन एक्सप्रेस ने अपनी ख़बर में कहा है कि उत्तर प्रदेश पुलिस के लोगों के साथ दिल्ली पुलिस का एक आदमी भी वरदराजन के घर गया था। ख़बर के मुताबिक़, अयोध्या के सर्कल अफ़सर अमर सिंह ने इसकी पुष्टि की है।
अयोध्या के थाना प्रभारी सुरेश पांडेय ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, 

'मैंने द वायर के संपादक से फ़ोन पर बात की है और उनसे कहा है कि वह अपना बयान ई-मेल से भेज दें। वह अपना बयान कल तक भेजने को राज़ी हो गए हैं।'


सुरेश पांडेय, थाना प्रभारी, अयोध्या

वरदराजन ने 1 अप्रैल को अपने बयान में कहा था, 'एफ़आईआर में जो कहा गया है कि मैंने यह कहा था कि प्रधानमंत्री की ओर से लॉकडाउन का एलान होने के बाद मुख्यमंत्री ने एक धार्मिक कार्यक्रम में भाग लिया था, यह रिकॉर्ड का मामला है।'
एडिटर्स गिल्ड ने एफ़आईआर दर्ज होने के बाद कहा था कि ऐसे समय में यह मामला दर्ज करना मीडिया को डराने की कोशिश करना है।
गिल्ड ने यह भी कहा है कि इस तरह मीडिया को डराने की कोशिश या प्रवासी मज़दूरों के बड़े पैमाने पर पलायन के लिए मीडिया को ज़िम्मेदार ठहराने का नतीजा उल्टा होगा।  

'सत्य हिन्दी'
सदस्यता योजना

'सत्य हिन्दी' अपने पाठकों, दर्शकों और प्रशंसकों के लिए यह सदस्यता योजना शुरू कर रहा है। नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से आप किसी एक का चुनाव कर सकते हैं। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है, जिसका नवीनीकरण सदस्यता समाप्त होने के पहले कराया जा सकता है। अपने लिए सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। हम भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें