loader

मोबाइल चेक करें परिजन, घर से भाग जाती हैं लड़कियां: मीना कुमारी

महिलाओं के हक़-हकूक की हिफ़ाजत के लिए बने महिला आयोग को कई बार इसमें शामिल महिला सदस्यों के बयानों के कारण फज़ीहत का शिकार होना पड़ता है। ताज़ा मामला उत्तर प्रदेश का है, जहां के महिला आयोग की सदस्य मीना कुमारी ने कहा है कि परिजनों को लड़कियों के मोबाइल को चेक करना चाहिए। 

मीना कुमारी ने पत्रकारों के साथ बातचीत में कहा, “हम लोगों के साथ-साथ समाज को भी इसमें पैरवी करनी पड़ेगी। अपनी बेटियों को देखना पड़ेगा, बेटियां कहां जा रही हैं, किस लड़के के साथ बैठ रही हैं, उनके मोबाइल को भी देखना होगा।” 

उन्होंने कहा, “मैं सबको यही बोलती हूं कि लड़कियां मोबाइल से बातें करती रहती हैं और शादी के लिए घर से भाग जाती हैं।” उन्होंने लोगों से अपील की कि लड़कियों को मोबाइल न दें और दें तो उन पर पूरी निगाह रखें। 

ताज़ा ख़बरें

मीना कुमारी ने कहा, “मैं सभी माओं से कहती हूं कि वे अपनी बेटियों का ध्यान रखें। मां की लापरवाही के कारण बेटियों का ये हश्र होता है।” 

सही ठहराया बयानों को 

इस मुद्दे पर जब विवाद बढ़ा तो मीना कुमारी से आज तक ने बात की। इस बातचीत में भी वह अपनी बातों को दोहराती रहीं और कहा कि नाबालिग लड़के-लड़कियों को मोबाइल न दिया जाए। माएं शाम को चेक करें कि उनकी बेटी ने किससे बात की और क्यों की। उन्होंने कहा कि उनका बयान ऐसा नहीं है कि जिससे किसी को ठेस पहुंचे। 

वह जोर देकर कहती रहीं कि इसमें बच्चों की भी सुरक्षा है और माता-पिता की भी संतुष्टि है। 

इस तरह के बयानों को महिलाओं, लड़कियों की आज़ादी पर अंकुश लगाने वाला ही बताया जा सकता है। भले ही मीना कुमार सफाई दें कि उन्होंने यह बयान नाबालिग लड़कियों के लिए दिया है लेकिन मोबाइल चेक करना या लड़कियों पर 24 घंटे निगाह रखने की बात को क़तई सही नहीं ठहराया जा सकता। 

बच्चों और माता-पिता के बीच विश्वास का भी एक रिश्ता होता है और यह रिश्ता इस तरह की निगरानी और टोका-टोकी से दरकता भी है और ख़राब भी हो जाता है। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

आयोग की भूमिका पर सवाल

21वीं सदी में लड़कियों बनाम लड़कों वाला यह अंतर बिलकुल ठीक नहीं है और इतनी तेज़ रफ़्तार से भागते इस युग में बड़े होते बच्चे भी नहीं चाहते कि उनकी आज़ादी पर किसी तरह का अंकुश लगे। ऐसे में महिलाओं की मुश्किलों को समझने और उनकी मदद के लिए बनाए गए महिला आयोग की भूमिका पर सवाल उठेंगे ही। 

चंद्रमुखी देवी का बयान

राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य चंद्रमुखी देवी ने कुछ महीने पहले बदायूं में महिला के साथ हुई बर्बरता को लेकर ऐसा ही बयान दिया था। चंद्रमुखी देवी ने पत्रकारों के साथ बातचीत में कहा था, ‘किसी के प्रभाव में महिला को समय-असमय नहीं पहुंचना चाहिए। मैं सोचती हूं कि अगर शाम के समय वह महिला नहीं गई होती या परिवार का कोई बच्चा साथ में होता तो शायद ऐसी घटना नहीं होती।’ 

बदायूं में 50 वर्षीय महिला तब बर्बरता का शिकार हुई थी जब वह मंदिर गयी थी। मंदिर के महंत और उसके दो चेलों पर महिला के साथ बलात्कार और उसकी हत्या करने का आरोप लगा था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें