loader

विकास दुबे: ‘...फिर हमें उसकी साँसों की कोई ज़रूरत नहीं!’

विकास दुबे जैसों का जन्म अगर लोकतंत्र के लिए ख़तरे की घंटी है तो उसे इस मुठभेड़ में मार दिया जाना भी ख़तरे की घंटी है और सबसे ख़तरनाक है इन घंटी-घंटों को अपने हाथ में लेकर घूमने वाले 'लोकतंत्र प्रहरियों' का छुट्टा घूमते रहना।
अनिल शुक्ल

विकास दुबे मारा गया। सुबह 7 बजे के आसपास कानपुर में रवानगी के दौरान बीच रास्ते इस तरह पुलिस की गाड़ी को पलटना ही था!  गाड़ी पलटने के बाद उसे इस तरह पुलिस वालों से हथियार लेकर भागना ही था! और सबसे अंत में चेतावनी देने के बावजूद न रुकने पर उसे एनकाउंटर में मार गिराया जाना ही था!

उज्जैन में हुई गिरफ़्तारी के फ़ौरन बाद ही लखनऊ स्थित एसटीएफ़ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने 'सत्य हिंदी' से बातचीत में कहा था ‘उसे आने दीजिये। हम जान लें कि इन 5 दिनों में उसके क्या-क्या हाइड आउट्स रहे, कौन-कौन उसे शील्ड कर रहा था। फिर उसकी साँसों की हमें कोई ज़रूरत नहीं।’ इसी बातचीत के आधार पर हमने कल ख़बर प्रकाशित की थी कि विकास दुबे कानपुर की जेल तक नहीं पहुँच पायेगा

ताज़ा ख़बरें

विकास की मौत के बाद प्रदेश की पुलिस अपनी पीठ ठोंक सकती है, बेशक उसके क़ातिल हाथों से शहीद कानपुर पुलिसकर्मियों के घरवाले अपने दुखते-रिसते ज़ख्मों पर मरहम लगने का अहसास कर सकते हैं, अपराधियों के ‘फ़र्ज़ी’ एनकाउंटरों पर तालियाँ बजाने वाले फिर से तालियाँ बजा सकते हैं। अब तक उसे सहयोग उपलब्ध करवाने वाले पुलिस अधिकारी और राजनेता राहत महसूस कर सकते हैं और निःसंदेह राज्य की योगी सरकार ध्वस्त हो चुके अपने 'लॉ एंड ऑर्डर' के 'यूएसपी' के गुब्बारे में फिर से हवा भरने लग सकती है।

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

विकास दुबे मारा गया। उसके गैंग के 3 अन्य गुर्गे भी अभी तक इसी तरह के कथित 'एनकाउंटरों' की भेंट चढ़ चुके हैं। उम्मीद है, आगे और भी एक-एक करके पकड़ में आते जायेंगे, निबटाये जाएँगे। लेकिन क्या इससे प्रदेश में अपराध की गंगा अपना बहना बंद कर देगी? उन राजनीतिज्ञों को क़ानून कब ठिकाने लगाएगा, जो विकासों को पैदा करने, उन्हें पुष्प पल्लवित करने के ज़िम्मेवार हैं? वे प्रशासनिक और पुलिस अधिकारी कब सींखचों के पार पहुँचेंगे जिन्होंने हर शहर को कानपुर में तब्दील किया है और हर महत्वाकांक्षी नौजवान को विकास दुबे के रूप में जन्म दिया है।

विकास दुबे जैसों का जन्म अगर लोकतंत्र के लिए ख़तरे की घंटी है तो उसे इस मुठभेड़ में मार दिया जाना भी ख़तरे की घंटी है और सबसे ख़तरनाक है इन घंटी-घंटों को अपने हाथ में लेकर घूमने वाले 'लोकतंत्र प्रहरियों' का छुट्टा घूमते रहना।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
अनिल शुक्ल
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें