loader

विपक्षी नेताओं को साथ लेकर बीजेपी का मुक़ाबला करेंगी ममता!

पश्चिम बंगाल की हुक़ूमत में आने के लिए बेताब बीजेपी से लड़ने के लिए ममता बनर्जी को शायद विपक्षी नेताओं के साथ की सख़्त ज़रूरत है। बीजेपी ने जिस तरह बंगाल के चुनाव को अपनी साख का सवाल बना लिया है, उसमें ममता बनर्जी को बीजेपी के अलावा उस संघ परिवार से भी मुक़ाबला करना है, जिसके पास कई संगठन और लाखों कार्यकर्ता हैं। ऐसे में ममता बनर्जी विपक्ष के नेताओं को साथ लेकर बंगाल में बड़ी रैली करने की तैयारी कर रही हैं। 

अफ़सरों की नियुक्ति पर रार

हाल ही में जब बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के काफिले पर बंगाल में हमला हुआ तो केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बंगाल के कुछ आईपीएस अफ़सरों को दिल्ली में तैनात करने का एलान कर दिया। लेकिन ममता सरकार ने इसका विरोध किया। ममता को इस दौरान दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, एनसीपी प्रमुख शरद पवार का साथ मिला। 

ताज़ा ख़बरें

कोलकाता में होगी रैली

अब इस बात की चर्चा है कि ममता बनर्जी अगले महीने कोलकाता में विपक्षी नेताओं की एक रैली का आयोजन करने जा रही हैं और इसमें वह केजरीवाल, शरद पवार, डीएमके प्रमुख स्टालिन को बुला रही हैं। बनर्जी ने रविवार को पवार को फ़ोन किया और उनसे इस रैली में आने का आग्रह किया। इस दौरान केंद्र की ओर से राज्य सरकार के काम में दिए जा रहे कथित दख़ल और कृषि क़ानूनों के विरोध में एकजुट होने को लेकर भी बात हुई है। बताया जाता है कि पवार ने इसके लिए अपनी रजामंदी दे दी है। 

यह भी कहा जा रहा है कि रैली से पहले ममता बनर्जी दिल्ली आ सकती हैं और कृषि क़ानूनों को लेकर विपक्षी दलों के नेताओं से मुलाक़ात कर सकती हैं। 

पश्चिम बंगाल के चुनाव पर देखिए चर्चा-  
यह रैली कुछ उसी तरह की हो सकती है, जिस तरह पिछले साल ममता बनर्जी ने लोकसभा चुनाव से ठीक पहले कोलकाता में बुलाई थी। इस रैली में कांग्रेस, एनसीपी, नेशनल कॉन्फ्रेन्स, टीडीपी, आम आदमी पार्टी समेत तमाम विपक्षी दलों के नेता शामिल हुए थे। हालांकि तब एनडीए के ख़िलाफ़ राष्ट्रीय स्तर पर गठबंधन नहीं बन पाया था। 
बंगाल के सियासी रण में बीजेपी के तमाम आला नेताओं से अकेले ही दो-दो हाथ कर रहीं ममता बनर्जी जानती हैं कि बीजेपी जिस आक्रामक ढंग से बंगाल का चुनाव लड़ने जा रही है, ऐसे में विपक्षी दलों के नेताओं की सियासी मदद लेनी ही होगी।

ममता ने जताया आभार 

ममता ने आईपीएस अफ़सरों के मुद्दे पर केंद्र के साथ संघर्ष में विपक्षी नेताओं के द्वारा मिले सहयोग को लेकर रविवार को उनका आभार भी जताया। ममता ने ट्वीट कर कहा, ‘केंद्र सरकार पुलिस अफ़सरों का तबादला कर राज्य सरकार के कामों में दख़ल दे रही है। मैं बंगाल के लोगों के साथ खड़े होने के लिए भूपेश बघेल, अरविंद केजरीवाल, कैप्टन अमरिंदर सिंह, अशोक गहलोत, एमके स्टालिन का शुक्रिया अदा करती हूं।’ 

Attempts for anti bjp front by mamta banerjee - Satya Hindi

एंटी बीजेपी फ्रंट की क़वायद

ममता की ओर से जनवरी में रैली का आयोजन किए जाने की ख़बरों के बीच ही देश में एंटी बीजेपी फ्रंट बनाने का काम भी रफ़्तार पकड़ता दिख रहा है। किसान आंदोलन के कारण गर्म हो चुके मुल्क़ के सियासी माहौल में कई राज्यों में सरकार चला रहे या चला चुके क्षेत्रीय दलों को साथ लेकर बीजेपी के ख़िलाफ़ एक नेशनल फ्रंट या बड़ा मोर्चा बनाने पर विचार चल रहा है। 

देश से और ख़बरें

इस फ्रंट में ममता बनर्जी, शरद पवार, केसीआर राव, उद्धव ठाकरे से लेकर नवीन पटनायक, अखिलेश यादव, सुखबीर सिंह बादल और पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा को तक शामिल करने की बात कही जा रही है। इसके अलावा इसमें फ़ारूक़ अब्दुल्ला, जगनमोहन रेड्डी सहित कुछ और नेताओं को भी शामिल किया जा सकता है। 

इन क्षेत्रीय दलों के साथ आने की ज़रूरत इसलिए महसूस की जा रही है क्योंकि कांग्रेस राष्ट्रीय स्तर पर प्रमुख विपक्षी दल की भूमिका को निभाने की स्थिति में नहीं दिखती। ऐसे में इन दलों के प्रमुखों का मानना है कि बीजेपी के कथित तानाशाही रवैये से लड़ने, विपक्षी नेताओं के ख़िलाफ़ जांच एजेंसियों के इस्तेमाल और केंद्र सरकार के विवादित फ़ैसलों के ख़िलाफ़ बुलंद आवाज़ देश में उठे, इसके लिए मज़बूत गठबंधन बनाए जाने की ज़रूरत है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पश्चिम बंगाल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें