loader

बंगाल: ग्रीन ज़ोन वाले इलाक़ों में छोटी दुकानों, फ़ैक्ट्रियों को खोलने की अनुमति

पश्चिम बंगाल सरकार ने ग्रीन ज़ोन वाले इलाक़ों में छोटी दुकानों, फ़ैक्ट्रियों और निर्माण गतिविधियों को शुरू करने की अनुमति दे दी है। बुधवार को एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा, ‘हम लॉकडाउन को लेकर केंद्र सरकार से साफ दिशा-निर्देश चाहते हैं। मैं हर व्यक्ति से अपील करती हूं कि वे घरों के अंदर ही रहें।’ 

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘कोई नहीं कह सकता कि यह संकट कब ख़त्म होगा। कई देशों ने लॉकडाउन को मई के अंत या जून के पहले हफ़्ते तक बढ़ाने की घोषणा कर दी है। हमारे विशेषज्ञ और डॉक्टर्स का मानना है कि कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने से संबंधित प्रतिबंधों को मई के अंत तक जारी रखा जाना चाहिए।’ 

ताज़ा ख़बरें

राज्य सरकार की ओर से जारी गाइलाइंस के मुताबिक़ ग्रीन ज़ोन वाले इलाक़ों में 1 मई से स्टेशनरी, रंग, इलेक्ट्रानिक, हॉर्डवेयर, मोबाइल, लांड्री, चाय और पान की दुकानें खोली जा सकेंगी। हालांकि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने लोगों को चेताया है कि चाय की दुकानों पर इकट्ठा न हों। 

यह अनुमति सशर्त दी गई है और कहा गया है कि दुकान चलाने वालों, फ़ैक्ट्री मालिकों और निर्माण गतिविधियों में लगे लोगों को मास्क पहनना, सोशल डिस्टेंसिंग और अन्य ज़रूरी बातों को मानना होगा। बनर्जी ने कहा कि रेड ज़ोन या कंटेनमेंट ज़ोन वाले इलाक़ों में ये छूट मान्य नहीं होगी। 

छात्रों को वापस लाने का काम शुरू

मुख्यमंत्री ने यह भी घोषणा की कि उनकी सरकार राजस्थान के कोटा में फंसे राज्य के छात्रों को वापस ला रही है। उन्होंने कहा कि छात्रों को लाने का काम बुधवार शाम से शुरू हो गया है और तीन दिन में सभी छात्र पश्चिम बंगाल पहुंच जाएंगे। बंगाल में कोरोना संक्रमण के अब तक 550 मामले सामने आ चुके हैं। 

पश्चिम बंगाल से और ख़बरें

25 अप्रैल को केंद्र सरकार ने भी देश भर में दुकानों को खोलने की सशर्त अनुमति दी थी। सरकार के आदेश में कहा गया था कि शहरों और कस्बों में बाज़ार बंद रहेंगे और छोटी-मोटी दुकानें खुलेंगी। जबकि ग्रामीण इलाक़ों में सभी दुकानें खुलेंगी। हॉट स्पॉट और कंटेनमेंट ज़ोन के इलाक़ों में अभी दुकानों को बंद ही रखा जाएगा। इसके अलावा मॉल्स, शापिंग कॉम्प्लेक्स पूरी तरह बंद रहेंगे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पश्चिम बंगाल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें