loader

बीजेपी ने क्यों डिलीट किया शुभेंदु का रिश्वत लेने वाला वीडियो? 

बीजेपी के बारे में कहा जाता है कि वह राजनीति की वाशिंग मशीन है। यानी किसी राजनेता पर चाहे कितने ही दाग लगे हों, वो बीजेपी में आते ही धुलकर स्वच्छ हो जाता है। उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा, पश्चिम बंगाल में बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल रॉय से लेकर ऐसे कई नेता हैं, जिन पर बीजेपी नेता भ्रष्टाचार के आरोप लगाते थे लेकिन जब ये नेता पार्टी में शामिल हो गए तो इन्हें पवित्र होने का सर्टिफ़िकेट दे दिया गया। 

ताज़ा मामला बीते एक महीने से चर्चा का केंद्र बने शुभेंदु अधिकारी का है। शुभेंदु ममता बनर्जी की सरकार में परिवहन मंत्री थे, ममता के क़रीबी थे और टीएमसी में उनका बड़ा क़द था। लेकिन अब उन्होंने बीजेपी का दामन थाम लिया है। 

ताज़ा ख़बरें

शुभेंदु के बीजेपी में शामिल होने के मौक़े पर आयोजित रैली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि टीएमसी सहित विपक्षी दलों से सभी ‘अच्छे-अच्छे’ लोग बीजेपी में शामिल हो रहे हैं। लेकिन बीजेपी शायद इन ‘अच्छे’ लोगों का एक पुराना वीडियो अपने यू ट्यूब चैनल से हटाना भूल गयी। 

हुआ यूं था कि कुछ साल पहले नारद टीवी के द्वारा किए गए एक स्टिंग ऑपरेशन में मुकुल रॉय और शुभेंदु अधिकारी को रिश्वत लेते हुए दिखाया गया था। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर ख़ासा वायरल हुआ था। तब ये दोनों नेता टीएमसी में ही थे। मुकुल रॉय तो कुछ साल पहले बीजेपी में शामिल हो गए थे लेकिन अब जब शुभेंदु भी शामिल हो गए तो फिर से उस स्टिंग ऑपरेशन पर चर्चा शुरू हुई। 

पश्चिम बंगाल से और ख़बरें

जैसे ही सोशल मीडिया पर यह चर्चा शुरू हुई, बीजेपी ने तुरंत पश्चिम बंगाल के अपने आधिकारिक यू ट्यूब चैनल से स्टिंग ऑपरेशन के वीडियो को हटा दिया। 

जाने-माने यू ट्यूबर ध्रुव राठी ने उस वीडियो के स्क्रीनशॉट को ट्वीट किया है। 

इस स्टिंग ऑपरेशन में मुकुल रॉय, शुभेंदु के साथ ही टीएमसी के 11 नेता रिश्वत लेते दिखाए गए थे। तब बीजेपी ने मुकुल रॉय के इस्तीफ़े को लेकर पूरा बंगाल सिर पर उठा लिया था। रॉय तब टीएमसी के टिकट पर सांसद थे। 

इस मामले की जांच में जुटीं ईडी और सीबीआई जैसी नामी-गिरामी जांच एजेंसियां भी अब तक कुछ हासिल नहीं कर सकीं। जिस तरह मुकुल रॉय बीजेपी में चले गए और उनके ख़िलाफ़ जांच एजेंसियों ने कोई कार्रवाई नहीं की, उसी तरह शायद शुभेंदु के ख़िलाफ़ भी कोई कार्रवाई नहीं होगी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पश्चिम बंगाल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें