loader

लॉकडाउन के बीच भी पश्चिम बंगाल में हिंसा, 47 गिरफ़्तार

कोरोना वायरस के संकट के दौरान भी पश्चिम बंगाल लगातार सुलग रहा है। हुगली जिले के तेलिनीपाड़ा इलाक़े में दो समुदायों के बीच रविवार से शुरू हुई झड़पें मंगलवार को और भड़क गईं। बताया गया है कि इसके पीछे पब्लिक टॉयलेट का इस्तेमाल करने के लिए लोगों का एक कंटेनमेंट ज़ोन से दूसरे ज़ोन में जाना है। 

रविवार शाम को इस बवाल में कई दुकानों में लूटपाट और तोड़फोड़ के बाद उन्हें फूंक दिया गया था। तब पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े थे और लाठीचार्च कर हालात को संभाला था। मंगलवार दोपहर को कुछ लोगों ने इस इलाक़े में बम फोड़े। इसके बाद काले धुएं का गुबार आसमान में देखा गया। रैपिड एक्शन फ़ोर्स के इलाक़े में तैनात होने के बावजूद आगजनी की घटनाएं हुईं। 

ताज़ा ख़बरें

पुलिस के मुताबिक़, तेलिनीपाड़ा और वर्डीपाड़ा इलाक़े में कोरोना वायरस के मामले हैं। जब वर्डीपाड़ा इलाक़े से लोग तेलिनीपाड़ा इलाक़े में पब्लिक टॉयलेट का इस्तेमाल करने के लिए गए तो वहां के लोगों ने इसका विरोध किया और उन्हें कोरोना कहकर तंज कसा। 

पुलिस का कहना है कि मंगलवार को हुई हिंसा योजना बनाकर की गई थी। दोनों समुदायों के लोगों के पास हथियार और बम थे। 

एनडीटीवी के मुताबिक़, पुलिस कमिश्नर हुमायूं कबीर ने कहा कि अब तक इस मामले में 47 लोगों को गिरफ़्तार किया गया है और अब हालात नियंत्रण में हैं। 

पश्चिम बंगाल से और ख़बरें

राज्यपाल से की शिकायत

स्थानीय बीजेपी सांसद लॉकेट चटर्जी ने इस घटना की शिकायत राज्यपाल से की है। चटर्जी ने सोमवार को तेलिनीपाड़ा इलाक़े में जाने की कोशिश की थी लेकिन उन्हें रोक दिया गया था। चटर्जी ने सवाल उठाया है कि पुलिस की मौजूदगी में वहां दंगे कैसे हो सकते हैं। 

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि लॉकडाउन तोड़ने वालों के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि ऐसे नेताओं के ख़िलाफ़ कार्रवाई की जाएगी जो इस तरह के ट्वीट कर रहे हैं कि हिंदुओं ने यह किया, मुसलमानों ने यह किया। 

तेलिनीपाड़ा इलाक़े में पहले भी सांप्रदायिक तनाव की घटनाएं होती रही हैं। इस इलाक़े में 70 फ़ीसदी मुसलिम और 30 फ़ीसदी हिंदू रहते हैं। पिछले हफ़्ते मालदा जिले के चांदीपुर में भी सांप्रदायिक तनाव के हालात बन गए थे। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पश्चिम बंगाल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें