loader

मोदी को ममता की चुनौती, नागरिकता क़ानून नहीं करूँगी लागू, सरकार बर्ख़ास्त करो

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार को चुनौती देते हुए कहा कि वे चाहें तो उनकी सरकार बर्ख़ास्त कर दें, पर वे किसी कीमत पर राज्य में नागरिकता संशोधन क़ानून लागू नहीं करेंगी। 

उन्होंने कहा, ‘आप चाहें तो मेरी सरकार बर्ख़ास्त कर दें, पर मैं किसी कीमत में नागरिकता संशोधन क़ानून और एनआरसी लागू नहीं होने दूंगी।’  

 इसके पहले मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कोलकाता शहर के बीचोबीच पदयात्रा की अगुआई की है। उनका फ़ोकस शांति व्यवस्था बनाए रखने पर था और उन्होंने लोगों से बार-बार अपील की कि वे  शांतिपूर्ण प्रदर्शन ही करें। कोलकाता के मशहूर रेड रोड से मध्य कोलकाता के जोड़ासांकू स्थित रवींद्र भारती विश्वविद्यालय तक की इस पदयात्रा में बड़ी तादाद में लोग उनके साथ-साथ चल रहे हैं। ये लोग सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस से जुड़े हुए तो हैं ही, इसके अलावा बुद्धिजीवी भी बड़ी तादाद में इसमें शामिल हैं। 
पश्चिम बंगाल से और खबरें
मुख्यमंत्री ने कहा, ‘एनआरसी और नागरिकता संशोधन क़ानून को राज्य में लागू नहीं किया जाएगा। किसी को बाहर नहीं किया जाएगा। हम सभी धर्मों और समुदायों के लोगों के शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व के पक्षधर हैं।’
पदयात्रा शुरू होने के पहले उसमें भाग लेने वाले सभी लोगों ने एक शपथ लिया। इसमें कहा गया है, ‘हम सब इस देश के नागिरक हैं, कोई हमसे यह नहीं छीन सकता।’

ममता बनर्जी ने यह पदयात्रा ऐसे समय की है, जब पश्चिम बंगाल में नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ ज़बरदस्त गुस्सा है और लोग सड़कों पर हैं।
मुर्शिदाबाद, मालदह, बीरभूम, उत्तर व दक्षिण चौबीस परगना ज़िलों में लोगों ने सड़कों पर उतर कर तोड़फोड़ की है, ट्रेन व बसोें में आग लगाई है, रेल-स्टेशन में तोड़फोड़ की है। वहां से 5 ट्रेनों, तीन रेलवे स्टेशनों और 25 बसों में तोड़फोड़ किए जाने की ख़बर है।
इस क़ानून के अनुसार 31 दिसंबर 2014 तक पाकिस्तान, अफ़ग़ानिस्तान और बाँग्लादेश से भारत आए हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई समुदाय के लोगों को भारत की नागरिकता दी जाएगी। पर इसमें मुसलमानों को शामिल नहीं किया गया है। विपक्षी राजनीतिक दलों का कहना है कि यह क़ानून संविधान के मूल ढाँचे के ख़िलाफ़ है। इन दलों का कहना है कि यह क़ानून संविधान के अनुच्छेद 14 और 15 का उल्लंघन करता है और धार्मिक भेदभाव के आधार पर तैयार किया गया है।

'तोड़फोड़ करने वालों ने बीजेपी से पैसे लिए'

ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है कि कुछ लोगों ने बीजेपी से पैसे ले लिए और वे ही तोड़फोड़ कर रहे हैं। मुख्यमंत्री की पदयात्रा के बीच राज्य के दूसरे हिस्सों में नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ लोगों का विरोध प्रदर्शन जारी है। राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 6 पर पांसकुड़ा के नज़दीक लोगों ने जाम लगा दिया और टायर जला कर विरोध प्रदर्शन किया। 
नागरिकता संशोधन विधेयक के बहाने राज्य सरकार और राज्यपाल के बीच की लड़ाई खुल कर सामने आ गई है। राज्यपाल जगदीप धनकड़ ने मुख्यमंत्री की पदयात्रा को ‘असंवैधानिक’ क़रार दिया है। उन्होंने इसे ‘भड़काऊ’ भी बताया है। धनकड़ ने कहा : 

मुख्यमंत्री को राज्य में स्थिति सामान्य करने पर ध्यान देना चाहिए, जहाँ पिछले 3 दिनों से उग्र विरोध प्रदर्शन चल रहा है।


जगदीप धनकड़, राज्यपाल, पश्चिम बंगाल

ममता बनर्जी ने कहा है, ‘बीजेपी की नीति है कि वह अपने लोगों के अलावा बाकी सबको बाहर निकाल दिया जाए। पर ऐसा नहीं होने दिया जाएगा। यह देश सबका है। अगर सबका साथ नहीं होगा, तो सबका विकास कैसे होगा?’
बंगाल की मुख्यमंत्री ने कहा कि इस लड़ाई में वह अकेली नहीं है। उनके साथ दिल्ली, छत्तीसगढ़, पंजाब और केरल के मुख्यमंत्री भी हैं, जिन्होंने नागरिकता संशोधन क़ानून को लागू करने से इनकार कर दिया है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पश्चिम बंगाल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें