loader
फ़ोटो साभार: ट्विटर/मसीह अलीनेजाद/वीडियो ग्रैब

अफ़ग़ान में तालिबान के कब्जे के बाद पहली बार महिलाओं का प्रदर्शन

जिस तालिबान के खौफ में हज़ारों लोग अफ़ग़ानिस्तान छोड़ रहे हैं और काबुल एयरपोर्ट पर अफरा-तफरी की तसवीरें आई थीं उसी तालिबान के ख़िलाफ़ पहली बार कई महिलाओं ने प्रदर्शन किया है। इसके दो वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किए गए हैं। एक वीडियो में दिखता है कि कुछ लोग बंदूकें लेकर खड़े हैं और चार महिलाएँ हाथों में तख्ती लिए हुए हैं। एक अन्य वीडियो में कई महिलाएँ हाथों में तख़्ती लिए हुए नारे लगा रही हैं। सोशल मीडिया पर उन महिलाओं के साहस की तारीफ़ की जा रही है। 

काबुल पर कब्जे के बाद हुए महिलाओं के इस प्रदर्शन के बारे में ईरानी पत्रकार और एक्टिविस्ट मसीह अलीनेजाद ने ट्वीट किया है, 'ये बहादुर महिलाएँ तालिबान के विरोध में काबुल में सड़कों पर उतरीं। वे सीधा-साधे अपने अधिकार, काम का अधिकार, शिक्षा का अधिकार और राजनीतिक भागीदारी का अधिकार मांग रही हैं। एक सुरक्षित समाज में रहने का अधिकार। मुझे आशा है कि अधिक महिलाएँ और पुरुष उनके साथ जुड़ेंगे।'

ये महिलाएँ ऐसी मांगें इसलिए रख रही हैं क्योंकि तालिबान के लड़ाकों ने काबुल में दाखिल होते ही महिलाओं को निशाने पर लेना शुरू कर दिया। तालिबान ने काबुल में कई जगहों पर उन पोस्टरों पर कालिख पोत दी है या उन्हें हटा दिया है, जिन पर महिलाओं की तसवीरें लगी हुई थीं। ये पोस्टर सड़कों पर लगे हुए थे। तालिबान ने महिलाओं के इस्तेमाल में आने वाले उत्पादों के विज्ञापन में लगी महिलाओं की तसवीरें भी हटा दी हैं। बैंकों, निजी व सरकारी कार्यालयों में जाकर वहाँ काम कर रही महिलाओं से कह रहे हैं कि वे अपने घर लौट जाएँ और दुबारा यहाँ काम करने न आएँ। 

अज़ीज़ी बैंक के अकाउंट विभाग में काम करने वाली नूर ख़तेरा ने रॉयटर्स से कहा, 'यह वाकई बहुत अजीब है कि मुझे काम नहीं करने दिया जा रहा है, पर यहाँ तो अब यही होना है।'

पहले ख़बर आई थी कि टीवी चैनलों से भी महिला पत्रकारों को निकाल दिया गया था लेकिन बाद में एक टीवी चैनल पर तालिबान के मीडिया विभाग ने महिला पत्रकार को साक्षात्कार दिया। वहाँ के टोलो न्यूज़ ने भी फिर से महिला एंकरों को काम पर रख लिया है।

ताज़ा ख़बरें

रविवार को काबुल पर तालिबान द्वारा कब्जा किए जाने के बाद कई महिलाएँ अपनी जान और सुरक्षा के डर से अफ़ग़ानिस्तान से भाग गईं। काबुल से दिल्ली पहुँची एक अफ़ग़ान महिला ने कहा कि उसे अपने घर में रह रहे उसके दोस्तों की सुरक्षा का डर है। महिला ने कहा, 'हमारे दोस्त मारे जा रहे हैं। वे हमें मारने जा रहे हैं। हमारी महिलाओं को कोई और अधिकार नहीं मिलने वाला है।' महिलाओं के अपहरण और तालिबान लड़ाकों से जबरन शादी करने की भी ख़बरें थीं। हालांकि, तालिबान ने ऐसी रिपोर्टों का खंडन करते हुए कहा कि वे महिलाओं के अधिकारों का सम्मान करेंगे लेकिन इस्लामी क़ानून के दायरे में ही।

ख़ास ख़बरें

तालिबान के ख़िलाफ़ प्रदर्शन का ऐसा ही एक और वीडियो ट्विटर पर शेयर किया जा रहा है जिसमें क़रीब 7-8 महिलाएँ दिखती हैं।

बता दें कि रविवार को तालिबान प्रवक्ता सुहैल शाहीन ने अल ज़ज़ीरा से कहा था कि 'महिलाओं को हिजाब पहनना होगा, इसके साथ वे चाहें तो घर के बाहर निकलें, दफ़्तरों में काम करें या स्कूल जाएं, हमें कोई गुरेज नहीं होगा।' एंकर के यह पूछे जाने पर कि 'क्या हिजाब का मतलब सिर्फ सिर ढंकने वाला हिजाब है या पूरे शरीर को ढकने वाला बुर्का' तो प्रवक्ता ने कहा कि 'सामान्य हिजाब ही पर्याप्त होगा।'

तालिबान के प्रतिनिधियों ने मंगलवार को महिलाओं के अधिकारों की रक्षा करने का वादा किया।

यह चिंता की बात इसलिए ज़्यादा है क्योंकि जब तालिबान सत्ता में आखिरी बार थे तब महिलाओं को बड़े पैमाने पर घरों तक ही सीमित रखा गया था, उन्हें पढ़ने या काम करने की अनुमति नहीं थी, और केवल पुरुष संरक्षक के साथ ही यात्रा कर सकते थे।

तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने काबुल में एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, 'हम महिलाओं को काम करने और पढ़ने की अनुमति देने जा रहे हैं। हमें निश्चित रूप से ढाँचे मिल गए हैं। महिलाएँ समाज में बहुत सक्रिय होने जा रही हैं लेकिन इस्लाम के ढाँचे के दायरे में।' 

लेकिन एक्टिविस्ट और विश्व के नेता तालिबान के शासन में होने वाले संभावित मानवाधिकार उल्लंघनों की ओर इशारा करते हुए चिंता जता रहे हैं। अफगानिस्तान की पहली महिला मेयर में से एक ज़रीफ़ा गफ़री ने पहले कहा था कि उसके पास तालिबान के आने और फिर ख़ुद के मारे जाने का इंतज़ार करने के अलावा कोई विकल्प नहीं है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें