loader

पैगंबर पर टिप्पणी के जवाब में किया गुरुद्वारे पर हमला: आईएस

काबुल में स्थित गुरुद्वारा करते परवान पर शनिवार सुबह हुए हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन आईएसआईएस ने ली है। आईएसआईएस ने कहा है कि उसने यह हमला भारत में पैगंबर मोहम्मद साहब पर की गई टिप्पणियों के जवाब में किया है। 

बता दें कि गुरुद्वारे के परिसर में शनिवार सुबह दो बम धमाके हुए थे। इसमें 2 लोगों की मौत हो गई थी और कई लोग घायल हो गए थे। मारे गए लोगों में एक सिख श्रद्धालु और एक तालिबान का लड़ाका शामिल था।

बम धमाकों में तालिबान के 3 लड़ाके भी घायल हो गए थे। धमाकों के वक्त गुरुद्वारे में कई श्रद्धालु मौजूद थे जिन्हें ऑपरेशन चलाकर वहां से निकाला गया।

ताज़ा ख़बरें

बीजेपी के नेताओं नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल के द्वारा पैगंबर मोहम्मद साहब पर की गई टिप्पणियों के विरोध में भारत के कई राज्यों और बड़े शहरों में जोरदार हिंसक प्रदर्शन हो चुके हैं। इस मामले में कई इस्लामिक मुल्कों ने भी भारत के सामने विरोध दर्ज कराया था। इसके बाद केंद्र सरकार ने टिप्पणी करने वालों को फ्रिंज एलिमेंट करार दिया था।

गुरुद्वारे पर हुए हमले की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने निंदा की थी। पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने कहा था कि अफगानिस्तान में रह रहे सिखों की सुरक्षा को सुनिश्चित किया जाना चाहिए। पाकिस्तान ने भी इस हमले की मजम्मत की थी। 

तालिबान की सरकार के आंतरिक मामलों के प्रवक्ता ने कहा कि आतंकवादियों ने गुरुद्वारे पर विस्फोटकों से भरे एक वाहन के साथ हमला करने की कोशिश की लेकिन उनके गुरुद्वारे तक पहुंचने से पहले ही हमले को नाकाम कर दिया गया। इस दौरान आतंकवादियों और तालिबान लड़ाकों के बीच फायरिंग भी हुई। इससे पहले भी अफगानिस्तान में मार्च 2020 में इस गुरुद्वारे पर हमला हुआ था।

सिखों और हिंदुओं को ई-वीजा 

हमले के तुरंत बाद केंद्र सरकार ने हरकत में आते हुए 100 से ज्यादा सिखों और हिंदुओं को ई-वीजा दे दिया है। नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल की टिप्पणियों के बाद इस्लामिक स्टेट ने एक वीडियो जारी कर हिंदुओं और सिखों पर हमले की चेतावनी दी थी। 

दुनिया से और खबरें

इस साल अप्रैल में काबुल के पश्चिमी इलाके में स्थित एक स्कूल में तीन जोरदार धमाके हुए थे। स्कूल के आसपास शिया हजारा समुदाय की आबादी है। अफगानिस्तान में इससे पहले भी इस समुदाय के लोगों पर आतंकी हमले हो चुके हैं।

तालिबान ने पिछले साल जब अफगानिस्तान की हुकूमत संभाली थी तो उसने सभी की हिफाजत का दावा किया था लेकिन लगातार बम धमाकों से ऐसा लगता है कि वहां आतंकवाद का खतरा बढ़ रहा है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें