loader

इज़रायल: मुश्किल में नेतन्याहू की सरकार, इसाक हर्ज़ोग बने नए राष्ट्रपति

इज़रायल के प्रधानमंत्री बिन्यामिन नेतन्याहू मुश्किलों में घिरे हुए हैं क्योंकि उनके विरोधी दल उनके ख़िलाफ़ गठबंधन की सरकार बनाने की तैयारियों को अंतिम रूप दे रहे हैं। नेतन्याहू इस पद पर पिछले 12 साल से काबिज हैं और वह सबसे लंबे समय तक इस पद पर रहने वाले नेता हैं। दूसरी ओर, इसाक हर्ज़ोग इज़रायल के नए राष्ट्रपति चुने गए हैं। वह देश के 11 वें राष्ट्रपति हैं और लेबर पार्टी के वरिष्ठ नेता हैं। 60 साल के हर्ज़ोग 9 जुलाई को पद संभालेंगे। 

नेतन्याहू के ख़िलाफ़ नफ्ताली बेनैट के नेतृत्व में गठबंधन सरकार बनाने की कोशिशों को ताक़त मिली है। बेनैट की यामीना पार्टी के पास 6 सीटें हैं जबकि यायर लापिडो की यश अतिदी के पास 11 सीटें हैं। लापिडो वहां के मशहूर पत्रकार रहे हैं। 

120 सदस्यों वाली इज़रायली संसद में यश अतिदी की पार्टी के पास दूसरे नंबर पर सबसे ज़्यादा सांसद हैं। इनके गठबंधन में कुछ और दल भी शामिल हैं। 

ताज़ा ख़बरें

सरकार बनाने के लिए 61 सांसदों की ज़रूरत है। लापिडो को इस बारे में बुधवार रात तक एलान करना होगा और अगर वह ऐसा नहीं कर पाते हैं तो इज़रायल में नए सिरे से चुनाव होंगे और बीते दो साल में यह पांचवा मौक़ा होगा, जब वहां चुनाव कराए जाएंगे। अगर वह एलान कर देते हैं तो इसके बाद संसद का सत्र बुलाया जाएगा जिसमें विश्वास मत लाया जाएगा। 

बेनैट को कट्टर राष्ट्रवादी माना जाता है जबकि लापिडो मध्यमार्गी नेता हैं। दोनों के बीच में इस बात पर सहमति बन गई है कि वे बारी-बारी से प्रधानमंत्री पद संभालेंगे। बेनैट का नंबर पहले आएगा लेकिन अभी भी गठबंधन को लेकर काफी चीजों को फ़ाइनल किया जा रहा है। 

दुनिया से और ख़बरें

इज़रायली मीडिया ने रिपोर्ट दी है कि बैनेट और लापिडो की अगुवाई वाले इस गठबंधन के पास नेतन्याहू को सत्ता से हटाने के लिए ज़रूरी सपोर्ट मौजूद है। हालांकि फिर भी इज़रायली मीडिया इसे लेकर कोई पक्का एलान करने में काफी सतर्कता बरत रहा है। 

दूसरी ओर नेतन्याहू ने कहा है कि इस तरह का गठबंधन इज़रायल को कमजोर करेगा। 

बीते साल नेतन्याहू और पूर्व सैन्य प्रमुख बेनी गैंट्ज़ो ने मिलकर आपातकाल की स्थिति में सरकार बनाई थी क्योंकि उस वक़्त कोरोना वायरस के ख़िलाफ़ जंग चल रही थी। लेकिन यह सरकार दिसंबर में गिर गई थी और तब से नेतन्याहू कार्यवाहक प्रधानमंत्री के तौर पर कामकाज संभाल रहे थे। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें