loader

इज़रायल: नेतन्याहू की कुर्सी गई, नफ्ताली बेनैट बने नए पीएम 

इज़रायल के प्रधानमंत्री बिन्यामिन नेतन्याहू की कुर्सी चली गई है और उनकी जगह पर नफ्ताली बेनैट नए प्रधानमंत्री चुने गए हैं। नेतन्याहू बीते कई दिनों से सियासी मुश्किलों से घिरे हुए थे और उनकी कुर्सी जाना तय माना जा रहा था। नेतन्याहू इस पद पर 12 साल तक काबिज रहे। वह इस पद पर सबसे लंबे समय तक रहने वाले इज़रायल के पहले नेता हैं। 

71 साल के नेतन्याहू अब विपक्ष में बैठेंगे हालांकि उन्होंने दम भरा है कि वह जल्द ही सत्ता में लौटेंगे। इज़रायल की संसद ने रविवार को नफ्ताली बेनैट को नई सरकार बनाने की इजाजत दे दी है। इस दौरान संसद में नेतन्याहू के समर्थकों ने बेनैट के ख़िलाफ़ जमकर नारेबाज़ी की और उन्हें झूठा बताया। 

नेतन्याहू के ख़िलाफ़ भ्रष्टाचार के कुछ मामलों में जांच चल रही है हालांकि उनका कहना है कि उन्होंने कुछ भी ग़लत नहीं किया है। 

ताज़ा ख़बरें

49 साल के बेनैट देश के पूर्व रक्षा मंत्री रहे हैं और वह काफी अमीर राजनेता हैं। इज़रायल के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ है कि इस नए गठबंधन में 21 फ़ीसदी अरब लोग भी हैं, जो इस देश में अल्पसंख्यक हैं। 

नेतन्याहू के ख़िलाफ़ नफ्ताली बेनैट के नेतृत्व में बने गठबंधन में बेनैट की यामीना पार्टी के अलावा यायर लापिडो की यश अतिदी पार्टी भी है। इनके गठबंधन में कुछ और दल भी शामिल हैं। इस गठबंधन को कमज़ोर बहुमत मिला है और इसने 60-59 के आंकड़े से विश्वास मत जीता है। इज़रायल की संसद में 120 सदस्य हैं। 

दुनिया से और ख़बरें

फ़लस्तीनियों का मसला

देखना होगा कि नई सरकार का फ़लस्तीनियों के लिए क्या रूख़ रहता है। हालांकि फ़लस्तीनियों का मानना है कि बेनैट भी नेतन्याहू की तरह अपने दक्षिणपंथी एजेंडे पर काम करेंगे। बेनैट को कट्टर राष्ट्रवादी माना जाता है जबकि लापिडो मध्यमार्गी नेता हैं। ऐसे में देखना होगा कि दोनों मिलकर किस तरह और कब तक सरकार चला पाते हैं। 

गठबंधन के लिए जो समझौता हुआ है, उसके तहत बेनैट 2023 तक इस पद पर बने रहेंगे और उसके बाद यायर लापिडो इस पद को संभालेंगे। अगर यह गठबंधन सरकार बनाने में कामयाब नहीं हो पाता तो इज़रायल एक बार फिर राजनीतिक मुसीबत का शिकार होता क्योंकि वहां चुनाव कराने पड़ते। बीते दो साल में वहां चार बार चुनाव कराए जा चुके हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें