loader

पाकिस्तान संकटः अविश्वास प्रस्ताव खारिज, इमरान ने संसद भंग कर चुनाव कराने को कहा 

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव को डिप्टी स्पीकर कासिम खान सूरी ने सुरक्षा खतरे का हवाला देते हुए खारिज कर दिया है। इमरान ने राष्ट्रपति आरिफ अल्वी से कहा है कि राष्ट्रीय असेम्बली ( पाकिस्तानी संसद) भंग कर दी जाए। नए चुनाव कराए जाएं। उन्होंने अपनी पार्टी से चुनाव की तैयारी को कहा है। विपक्ष ने कहा कि पाकिस्तान में संवैधानिक संकट पैदा हो गया है। विपक्ष ने सुप्रीम कोर्ट पाकिस्तान से दखल देने को कहा है। पाकिस्तान नैशनल असम्बेली का इजलास आज भारतीय समय के मुताबिक 12 बजे बुलाया गया था जो करीब दस मिनट की देरी से शुरू हुआ। नैशनल असम्बेली के सदस्य और इमरान के विश्वस्त फव्वाद चौधरी ने एक छोटा सा प्रस्ताव पढ़ा कि इमरान खान की सरकार को विदेशी पावर के इशारे पर गिराया जा रहा है। इसलिए अविश्वास प्रस्ताव को रद्द किया जाए। स्पीकर ने फौरन ही पाकिस्तान संविधान की धाराओं का उल्लेख करते हुए अविश्वास प्रस्ताव के नोटिस को खारिज कर दिया। 
ताजा ख़बरें
नैशनल असम्बेली के इस घटनाक्रम के बाद इमरान खान ने देश को संबोधित किया। पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान ने आज घटनाओं में तेजी से बदलाव करते हुए राष्ट्रपति अल्वी से नेशनल असेंबली को भंग करने के लिए कहा और अविश्वास प्रस्ताव से पहले नए सिरे से चुनाव की घोषणा की।
नेशनल असेंबली के डिप्टी स्पीकर कासिम खान सूरी ने अविश्वास प्रस्ताव को पाकिस्तान के संविधान के अनुच्छेद 5 के खिलाफ करार देते हुए खारिज किया है। सूरी ने आज के सत्र की अध्यक्षता की, जब विपक्षी दलों ने एक आश्चर्यजनक कदम में अध्यक्ष असद कैसर के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव दाखिल किया। पाकिस्तान संविधान के अनुच्छेद 5 के अनुसार: राज्य के प्रति वफादारी प्रत्येक नागरिक का मूल कर्तव्य है। संविधान और कानून का पालन करना हर नागरिक का दायित्व है कि वह कहीं भी हो। सत्र शुरू होने के कुछ देर बाद ही सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने कहा कि अनुच्छेद 5(1) के तहत राज्य के प्रति वफादारी प्रत्येक नागरिक का मूल कर्तव्य है। उन्होंने प्रधानमंत्री इमरान के पहले के दावों को दोहराया कि सरकार को हटाने के कदम के पीछे एक विदेशी साजिश थी।

प्रधान मंत्री इमरान ने अविश्वास प्रस्ताव को खारिज करने के लिए राष्ट्र को बधाई दी। इमरान ने कहा- 

मुझे कई लोगों से संदेश मिल रहे थे जो चिंतित थे, यह कहते हुए कि "देशद्रोह" राष्ट्र के सामने किया जा रहा था। मैं कहना चाहता हूं, 'घबराना नहीं है। चिंता मत करिए। अल्लाह पाकिस्तान पर नजर रख रहा है।


-इमरान खान, पीएम पाकिस्तान रविवार को अवाम को संबोधित करते हुए

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें