loader

ट्रंप ने हिंसा से पहले के अपने 'भड़काऊ' बयान को सही ठहराया

दुनिया डोनल्ड ट्रंप के जिस 'भड़काऊ' भाषण को कैपिटल बिल्डिंग हिंसा के लिए ज़िम्मेदार ठहरा रही है उसको उन्होंने खारिज कर दिया है। ट्रंप ने अपने भाषण को पूरी तरह सही ठहराया है। शायद यह पहली बार है कि उन्होंने अपने भाषण पर सफ़ाई दी है। इससे पहले पिछले हफ़्ते उन्होंने उस घटना पर दिए अपने बयान में हिंसा की निंदा की थी। इस बीच वह फ़ेसबुक और ट्विटर द्वारा अपने खाते बंद किए जाने के ख़िलाफ़ भी कई बार बयान दे चुके हैं।

अपने ख़िलाफ़ संभावित महाभियोग से एक दिन पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप कैपिटल बिल्डिंग हिंसा से पहले दिए गए अपने भाषण पर बोले। ट्रंप ने देश भर में 'जबरदस्त ग़ुस्से' की चेतावनी दी है। हालाँकि उन्होंने अमेरिका मेक्सिको बॉर्डर के दौरे के दौरान उन्होंने शांति और संयम बरतने की अपनी की। 

ताज़ा ख़बरें

इससे पहले पिछले हफ़्ते जारी बयान में ट्रंप ने कैपिटल बिल्डिंग यानी अमेरिकी संसद भवन हिंसा की निंदा की थी। उन्होंने एक वीडियो मैसेज में हमले को जघन्य हमला क़रार दिया था। उन्होंने यह भी कहा था कि वह 'अराजकता और उत्पात' से गु़स्से में हैं। क़रीब ढाई मिनट के अपने वीडियो संदेश में उन्होंने कई चीज़ों पर सफ़ाई दी थी लेकिन न तो अपने भाषण और न ही हिंसा भड़काने में अपनी भूमिका के बारे में कुछ बोला था। जबकि ट्रंप पर सबसे ज़्यादा आरोप यही लग रहा है कि उनके कथित भड़काऊ भाषण के बाद ही उनके समर्थकों ने हिंसा की।

ट्रंप का यह बयान इसलिए अहम है कि इस कैपिटल बिल्डिंग हिंसा के लिए ट्रंप की आलोचना की जा रही है। यह इसलिए कि अमेरिका की राजधानी वाशिंगटन के शहर कैपिटल हिल में सांसदों की बैठक करने वाली जगह का नाम यूएस कैपिटल या कैपिटल बिल्डिंग है जहाँ हिंसा हुई है। यहीं पर जो बाइडन की जीत को प्रमाण पत्र मिलने से पहले ट्रंप ने वाशिंगटन में एक रैली में कथित तौर पर भड़काऊ भाषण दिया था। इसमें उन्होंने कहा था कि 'हम कभी हार नहीं मानेंगे।' उन्होंने भीड़ को भड़काते हुए कहा, 'आप कमज़ोरी से अपना देश फिर हासिल नहीं कर सकते।' ट्रंप ने भीड़ को कैपिटॉल की ओर कूच करने को कहा था। 

ट्रंप के भाषण के बाद ही उनके समर्थकों ने कैपिटल बिल्डिंग में घुसने की कोशिश की और हिंसात्मक प्रदर्शन किया था। इस हिंसा में 5 लोगों की मौत हो गई।

ट्रम्प समर्थक प्रदर्शनकारियों द्वारा कैपिटल बिल्डिंग में घुसने और हिंसा किये जाने को जो बाइडन को राष्ट्रपति नियुक्त करने में संसद की कार्यवाही में बाधा डालने के प्रयास के तौर पर देखा गया। 

इसी को लेकर जारी सफ़ाई पर ट्रंप ने कहा है कि सभी लोगों ने उनके भाषण को पूरी तरह उचित माना है। 

ट्रम्प ने अपने ख़िलाफ़ संभावित महाभियोग को 'राजनीति के इतिहास में सबसे बड़ा विचहंट' क़रार दिया। इसके साथ ही उन्होंने अपने समर्थकों को चेताया कि आपको हमेशा हिंसा से बचना है। बता दें कि उनके समर्थक उग्र हैं। ट्रंप ने भी कहा, 'मैंने ऐसा ग़ुस्सा कभी नहीं देखा।'

donald trump defends his speech before capitol building violence - Satya Hindi
कैपिटब बिल्डिंग हिंसा के बाद सुरक्षाकर्मी। फ़ाइल फ़ोटो

बता दें कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप को पद से हटाने के लिए डेमोक्रेट सदस्यों ने हाउस ऑफ़ रिप्रेज़ेन्टेटिव्स में उनके ख़िलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव पेश कर दिया है। दो डेमोक्रेट सदस्यों और एक रिपब्लिकन सदस्य ने इसे सदन में रखा। अविश्वास प्रस्ताव में उनके ख़िलाफ़ विद्रोह भड़काने का आरोप लगाया गया है। इसके अलावा एक और प्रस्ताव पेश किया गया है, जिसमें उप राष्ट्रपति माइक पेंस से संविधान संशोधन 25 का प्रयोग कर राष्ट्रपति को पद से हटा कर उनके तमाम अधिकार ले लेने का आग्रह किया गया है। 

सीएनएन ने एक ख़बर में कहा है कि डमोक्रेट्स ने 'विद्रोह भड़काने' के आधार पर महाभियोग प्रस्ताव पेश किया है। इस प्रस्ताव में कहा गया है, "राष्ट्रपति ट्रंप ने अमेरिका और इसकी सरकार की संस्थानों को ख़तरे में डाल दिया। उन्होंने लोकतांत्रिक प्रणाली के लिए ख़तरा पैदा कर दिया, सत्ता के शांतिपूर्ण हस्तांतरण के रास्ते में रोड़े अटकाए और सरकार के लिए दिक्क़तें पैदा कीं। इस तरह उन्होंने राष्ट्रपति के रूप में जनता के विश्वास को ठेस पहुँचाई।" 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें